शिक्षण और प्रशिक्षण

कैसे करवाएँ परीक्षा की तैयारी

Priya Garg
7 से 11 वर्ष

Priya Garg के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Sep 10, 2018

कैसे करवाएँ परीक्षा की तैयारी

बच्चों के लिए सबसे ज्यादा तनाव का समय परीक्षा के समय होता है। उनकी खुद से उम्मीद और उनके मम्मी-पापा की उनसे उम्मीदें पूरा करने का जोश और दवाब कई बात उनके लिए तनाव का कारण भी बन जाता है। ऐसे में बहुत ज़रूरी है की बच्चों को परीक्षा की तैयारी सही समय पर और सही तरीके से करवाई जाए।

परीक्षा की तैयारी के कुछ तरीके ऐसे हैं जो सभी जानते है। जैसे-

  • समय का सही इस्तेमाल करना।
  • टाइम-टेबल बनाकर पढ़ाई करना।
  • मुख्य बिंदुओं या बातों को अंडरलाइन करना।
  • फ़्लोचार्ट और डायग्राम का इस्तेमाल करना।
  • लिखकर या बोलकर याद करना।
  • पिछले प्रश्न-पत्रों का इस्तेमाल करके पढ़ाई करना।
  • सभी विषय को बराबर समय देना। आदि

ये सभी चीज़ें परीक्षा की तैयारी में बहुत महत्वपूर्ण है। इन सबका इस्तेमाल करने से परीक्षा की तैयारी जल्दी और आसानी से की जा सकती है।

लेकिन इसके साथ ही कुछ चीज़ें ऐसे भी है जिन्हें शायद हम भूल जाते है पर वो बहुत ज़रूरी होती है। ऐसी ही कुछ बातें नीचे दी गयी है जिन्हें परीक्षा की तैयारी करते समय ध्यान में रखना बहुत ज़रूरी है।

1. पढ़ने की जगह- घर का एक हिस्सा, कमरा या कोना ऐसा होता है जहाँ बैठकर आपके बच्चे को पढ़ना पसंद होता है। ज़रूरी है की उस जगह को बच्चे की पसंद के अनुसार व्यवस्थित किया जाए। वहाँ किताबें रखने की पूरी जगह हो, हवा और रोशनी का भी बंदोबस्त हो। साथ ही आस-पास के वातावरण का ध्यान रखना भी ज़रूरी है। कुछ बच्चों को शांति में पढ़ना पसंद होता है और कुछ को धीमा संगीत सुनते हुए पढ़ना। बच्चे को अपनी पसंद और तरीके से जगह और माहौल को व्यवस्थित करने दें।5

2. बीच-बीच में पर्याप्त अवकाश लेना- आपको लगता होगा की लगातार लंबे समय तक पढ़ने से पढ़ाई ज्यादा अच्छे से हो पाती है, पर यह एकदम उलटा भी हो सकता है। जैसे- किसी दौड़ की तैयारी करते हुए हम लगातार 24 घंटे दौड़ते नहीं रहते बल्कि समय-समय पर अवकाश लेकर अपनी ताकत को बढ़ाते हैं। ऐसा ही पढ़ने के समय भी होता है। विभिन्न शोध भी ये कहते है की लगातार घंटों पढ़ाई न करके यदि बीच-बीच में अवकाश लेकर पढ़ाई की जाए तो बातें ज्यादा समय तक याद रखी जा सकती है। इसके साथ ही यह समझना भी ज़रूरी है की सभी बच्चों का पढ़ाई का तरीका अलग-अलग हो सकता है। इस बात का ध्यान रखते हुए टाइम-टेबल बनाना चाहिए। अगर आपका बच्चा सुबह ज्यादा बेहतर पढ़ और समझ सकते हैं तो उन्हें ज़्यादा पढ़ाई सुबह के समय करने के लिए कहें।

3. अच्छा और पौष्टिक भोजन- जंक फूड से दूर रहें! लगातार पढ़ते रहने, ढेर सारा पढ़ने से आपको ऐसा ज़रूर लगेगा की बच्चे की लिए उसकी पसंद का बर्गर या पास्ता तो बनता है पर परीक्षा के समय ज़रूरी है की किसी भी तरह के जंक फ़ूड से दूर रहा जाए। जंक फ़ूड शरीर की एनर्जी को कम करता है जिससे कारण थकावट महसूस होती है और नींद भी ज्यादा आती है। अपने शरीर और दिमाग को चुस्त और तरोताज़ा रखने के लिए ज़रूरी है की अच्छा और पौष्टिक भोजन खाया जाए। इसके लिए अपने बच्चे के भोजन में फल और सब्जियों की मात्रा बढ़ा दें।

4. ज़्यादा से ज़्यादा पानी पीना- अच्छे खाने की तरह ही समय-समय पर पानी पीना भी बहुत ज़रूरी है। पानी की उचित मात्रा दिमाग को ठीक से काम करने में मदद करता है।

ऊपर दिए गए सभी बिंदुओं का ध्यान रखें और परीक्षा की बेहतर तैयारी में अपने बच्चे की मदद करें।

 

प्रिया गर्ग ने माध्यमिक शिक्षा में स्नाकोतर (Bachelor of Elementary Education) और हिंदी भाषा तथा शिक्षा में उच्च-स्नाकोतर किया है| वह पेशे से पाठ्यक्रम विकासकर्ता है| वह बालशिक्षा और समाज से संबंधित विषयों पर लेख लिखती हैं|

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • कमेंट
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}