Child Psychology and Behaviour

कैसे छुड़वाएं अंगूठा पीने की आदत को ?

Priya Garg
All age groups

Created by Priya Garg
Updated on Aug 04, 2017

कैसे छुड़वाएं अंगूठा पीने की आदत को

एक आदत जो अक्सर सभी छोटे बच्चों में पाई जाती है, वह है किसी भी चीज़ को मुँह में  डालकर चूसना या चबाना। ऐसे में बच्चों को अपने हाथों या पैरों के अँगूठे को चूसने की आदत हो जाती है। ये आदत छोडना उनके लिए मुश्किल होता है। ऐसा माना जाता है कि अंगूठा चूसने से शरीर में एंडोफिन्स नामक द्रव का पैदा होता है। जिससे बच्चे का दिमाग शांत होता है और उसे जल्द नींद आ जाती है। इसलिए यह करना बच्चों के लिए बहुत मज़ेदार होता है। परंतु इस तरह बार-बार गंदे हाथ या पैर मुँह में लेने से उनकी गंदगी शरीर में जाती है। इसलिए बहुत ज़रूरी है की बच्चों की इस आदत को छुड़वाया जाए।

 

बच्चों की इसी आदत को छुड़वाने के कुछ आसान तरीके नीचे दिए गए हैं-

 

बच्चों को रखें अन्य चीज़ों में व्यस्त- अक्सर बच्चे जब खाली होते हैं तो वे अंगूठा मुँह में ले लेते हैं। ऐसे में उन्हें ये करने से रोकने के लिए ज़रूरी है की उन्हें किसी काम में किसी चीज़ के साथ व्यस्त रखा जाए।

 

उन्हें दें ऐसी चीज़ें जिससे वे अंगूठा मुँह में न लें- बाज़ार में ऐसी बहुत-सी चीज़ें आती है जिन्हें इस्तेमाल करने के लिए बच्चे के अंगूठे पर लगाया जा सकता है। इससे बच्चे अंगूठा मुँह में नहीं लेंगे।

 

अंगूठे पर लगाए नींबू या नमक- नींबू और नमक दोनों ही ऐसी स्वाद वाली चीज़ें है जिन्हें खाना बच्चे पसंद नहीं करते। बच्चों के अंगूठे पर इस तरह की चीज़ लगाई जा सकती है। बच्चे जब मुँह में अंगूठा लेंगे तो बुरा स्वाद होने के कारण खुद ही उसे निकाल देंगे।

 

थोड़े-थोड़े समय अंतराल पर बच्चों की खिलाते रहें- बच्चे भूखे होने पर भी अंगूठा चूसने लगते है और क्योंकि ये बच्चे की आदत हो जाती है तो ये समझना मुश्किल हो जाता है कि बच्चा कब भूख से अंगूठा चूस रहा है और कब बिना भूख के। ऐसे में अच्छा होगा की बच्चों को थोड़े-थोड़े समय अंतराल पर कुछ खिलाया जाए ताकि वे भूख के कारण अंगूठा न चूसे।

  • 5
Comments()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Nov 05, 2017

बहुत बढ़िया ब्लॉग ।बहुत-बहुत धन्यवाद इसे शेयर करने के लिए। माता-पिता जो कि अपने बच्चे के अंगूठा चूसने की आदत से परेशान हैं ,उनके लिए यह अत्यधिक लाभदायक है। शुक्रिया

  • Report

| Sep 27, 2017

thanks Anubhav g I w'll try

  • Report

| Sep 12, 2017

)iyuyii

  • Report

| Sep 01, 2017

Hello Archana ji... iska matlab hai ki bachha bahar ki duniya se mel jol badha nahi paaya hai aur khud mein rehne ki koshish kar raha hai. aise sthithi mein use apne dost banane de tatha apni taraf se usme insecurity ki bhawna nahi aane de.

  • Report

| Aug 04, 2017

Mera nine yrs Ka beta Abhi tak chhup chhup jar hand chusta h Plz help me

  • Report
+ START A BLOG
Top Child Psychology and Behaviour Blogs
Loading
Heading

Some custom error

Heading

Some custom error