पेरेंटिंग

कैसे दूर करें बच्चों का इंजेक्शन का डर

Priya Garg
1 से 3 वर्ष

Priya Garg के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Sep 19, 2018

कैसे दूर करें बच्चों का इंजेक्शन का डर

बच्चों को सुई या इंजेक्शन से डर लगना एक आम बात है। जन्म से लेकर 3 वर्ष तक की आयु तक बच्चों को अलग-अलग बीमारियों से बचाने के लिए इतने इंजेक्शन दिए जाते हैं की उनका डर और उनके लगने से होने वाला डर बच्चों पर हावी हो जाता है।

ऐसे में वे इंजेक्शन लगवाने से दूर भागने लगते हैं। बहुत ज़रूरी होता है की बच्चों के इंजेक्शन के डर को दूर किया जाए। इसे दूर करने के कुछ तरीके नीचे दिए गए हैं।

 

अपने बच्चे को बताएँ की वह स्ट्रॉंग है- बच्चों के लिए ये आत्मविश्वास की कोई चीज़ उनके सामने छोटी-सी है और वो उससे आराम से जीत सकते हैं बहुत महत्वपूर्ण होता है। उन्हें एहसास दिलाएँ की छोटी-सी सुई का डर उनकी हिम्मत के आगे कुछ नही नहीं है। ये अपने बात को कुछ ऐसे कहें- ‘आप तो बहुत ब्रेव और स्ट्रॉंग हैं। सुई लगने में तो चींटी के काटने जितना दर्द होता है बस। इतना कम की पता ही नहीं चलता। आप झट से अपनी आँखें बंद करो तो आपको पता भी नहीं चलेगा।‘ उन्हें बताएं की ये दर्द सभी बच्चों को होता है पर वो सबसे ज़्यादा स्ट्रॉंग है।

 

सुई लगते समय दें कम ध्यान- अगर हम किसी चीज़ की तरफ नहीं देखते तो उसे या उसके बारे में कुछ महसूस भी नहीं कर पाते। बच्चों को भी यही सीखाएं कोशिश करें की उनका ध्यान सुई का तरफ न हो। उनके हाथ में कोई खिलौना दें या उन्हें बातों में लगाकर उनका ध्यान कहीं ओर लेकर जाएँ।

 

किसी का हाथ पकड़ कर रखें- छोटे बच्चों का डर दूर भगाने के लिए हम अक्सर उनका हाथ पकड़ लेते हैं। यही तरीका सुई लगते समय अपनाएं उनका हाथ पकड़ ले और उनके डर को दूर भागा दें।

 

इंजेक्शन की सुई के डर का सबसे बड़ा कारण है कि हम इस छोटी सी सुई को घूर-घूरकर ऐसे देखते हैं। जिससे उसके लगने से होने वाले डर का एहसास बढ़ जाता है। उसकी तरफ न देखें। इस तरह इसका डर आपके मन से बिलकुल भी नहीं जायेगा। तो इससे बचने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप इसकी तरफ देखे ही नहीं।

जब आप इस तरफ नहीं देखेगें तो आपका ध्यान इस पर नहीं होगा और आपको दर्द न के बराबर होगा।

 

होता है फायदेमंद- छोटे बच्चों को हर चीज़/काम को करने का कारण जानने में बहुत मज़ा आता है। बच्चों को ये भी बताएं की सुई लगाने से क्या फायदे होते है। वे हमेश हेलथी रहते है, उनको कोई बीमारी नहीं होती, वो स्ट्रॉंग बनती है आदि। 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • कमेंट
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}