बाल मनोविज्ञान और व्यवहार

क्या आप बच्चों पे गुस्सा करती है? जानिये इसके दुष्प्रभाव !

Priya Garg
3 से 7 वर्ष

Priya Garg के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Sep 27, 2018

क्या आप बच्चों पे गुस्सा करती है जानिये इसके दुष्प्रभाव

आज कल की  इस भागदौड़ भरी ज़िंदगी में जहाँ सभी के पास समय की कमी और मानसिक दवाब ज़्यादा है, वहाँ अपना चिड़चिड़ापन निकालने का सबसे आसान तरीका बच्चों पर चिल्लाना होता है। अक्सर माता पिता या परिवार के बड़े सदस्य अपना गुस्सा अपने बच्चों पर निकालते है क्योंकि वे उनको पलट से कुछ कह नहीं सकते। लेकिन वे नहीं जानते की बच्चों पर गुस्सा करने का उनपर क्या गलत या नकारात्मक असर हो सकता है।

 

बढती है नकारात्मकता- जितना ज़्यादा माता-पिता अपने बच्चे पर चिल्लाते हैं उतना ही वे बच्चों में गुस्सा पैदा करते हैं। बार-बार बच्चों पर चिल्लाने से उनमें अपने और उस व्यक्ति के प्रति नफ़रत की भावना बढ़ती है। ये भावना कई बार उन्हें चिल्लाने या कुछ गलत हरकत करने के लिए भी मजबूर कर देती है। ज़रूरी है की चिल्लाने की वजाय बच्चों को प्यार से उनकी गलतियों के बारें में समझाया जाए।

 

आत्मविश्वास कम होता- कई बार हर छोटी-बड़ी बात पर बड़े बच्चों को डाँटते है उनपर चिल्लाते हैं। इस तरह बार-बार बच्चों पर चिल्लाना उनके आत्मविश्वास कम होता है। उन्हें धीरे-धीरे लगने लगता है की वे किसी काम को करने के काबिल नहीं है। यही कारण है की वे कुछ काम करना छोड़ देते हैं, वे नई चीज़ें करने की कोशिश नहीं करते, वे काम करने से डरने लगते हैं, क्योंकि डर की वजह से उनके अधिकतर काम गलत हो जाता है और अगर उनसे छोटी-सी भी गलती हुई तो उन्हें गुस्सा किया जाएगा।  जिसके डर के कारण वे काम करना ही बंद कर देते हैं।

 

गुस्से से होता है घर का माहौल खराब- जिस घर में हमेशा बच्चों को डाँटा और गुस्सा किया जाता है उस घर में अधिकतर डर का माहौल बना रहता है। ऐसे माहौल में बच्चों का शारीरिक और मानसिक विकास अवरुद्ध हो जाता है। वे अलग-अलग काम करने से डरने लगते हैं। 

 

जिद्दी हो जाते हैं- हम अक्सर हर छोटी-बड़ी बात पर समझने की जगह बच्चों को डाँटना उनपर चिल्लाना ज़्यादा आसान समझते हैं। ऐसे में बच्चे भी किसी भी गलत काम करने के बाद उससे बचने का सबसे आसान तरीका सीख लेते हैं की उन्हें डांटकर छोड़ दिया जाएगा। इससे वे  गलत काम करना नहीं छोडते बल्कि हर बार डांट/गुस्सा सुनकर बच जाते हैं और फिर से वही काम करते है। बच्चों को बार-बार डाँटना उन्हें जिद्दी बना देता है। इससे वो कोई काम करना नहीं छोड़ते बल्कि गुस्सा सुनने के आदी हो जाते है। कई बार बार गुस्सा सुनकर जो उन्हें बुरा लगता है उस भावना को खत्म करने या गुस्सा करने वाले व्यक्ति को नीचा दिखाने के लिए वे वही काम फिर से करते हैं।

 

अत: कहा जा सकता है की बच्चों पर बार-बार चिल्लाने से केवल नुकसान होता है। वे इससे कुछ भी बेहतर नहीं सीख पाते। बल्कि उनकी हर छोटी-बड़ी बात पर उनपर चिल्लाने से हम उन्हें भी इसी तरह की आदत सीखा देते हैं वे भी ये समझ जाते हैं की किसी भी गलती पर वे  किसी को डांट सकते है। 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • 17
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Jul 19, 2018

mera baccha 5 year old ka ahe. o bhi muje bohat pareshan karta hai. me bhi usko datati hu marti hu. o bhi jidhi hu hai. me kya karu.

  • रिपोर्ट

| Jul 16, 2018

hello Kavita aapka beta 5 saal ka hai Abhi Kuch Hota Hai aap usse Pyar Se samjhaye 1 routine Banaye aap usse Pyaar Se Samjha kar padne ke liye Bataye TV kholne ka ek time Dekhe aur Usi time par TV dekhne degeye bacche ko Pyar Se samjhaye

  • रिपोर्ट

| Apr 02, 2018

Mera beta 5 years ka hai Aur Bahut naughty hai naa theek se padhai karta hai, naa hi khans Khatana hai.... Hamesha khel Aur TV mein rhta hai. Mein usko datana ya Marna nhi chhati... Pyar se bhi samjhati hun per Wo nhi sunta... My problem... Usko kaise Samjh Shakti hun...

  • रिपोर्ट

| Mar 31, 2018

Problem bataya ye hota hai par solution to bataya please

  • रिपोर्ट

| Mar 29, 2018

Hello mere beti 9 sal ki h. school me bhut ache se rhti h. But ghr akr pta ni kya ho jata h use bat 2 pr jid krti h or btmiji b. 9 month ago uske papa car accident me expire ho gye. Tb se muje bhut gussa ata h or m hr bar uspe utarti hu. Smj ni ata kaise treat kru plz help me.

  • रिपोर्ट

| Mar 20, 2018

Mera betaa padhaayi me dil NY lagta vo kbhi Apne aapse padhaayi k bare me NY bolega

  • रिपोर्ट

| Sep 29, 2017

Really true. But kaise bachhe ko is situation me se bahar laye give me solution.

  • रिपोर्ट

| Sep 14, 2017

Nice thanku so much

  • रिपोर्ट

| Aug 17, 2017

Mai bhi, bahot baar apana ghussa 8yrs ke bade bacche pe nikalati hu,,,,,, use kai cheese bar bar batane par bhi, vahi repeat karata hai, like shoes in shoe rack, rakets, book's, water bottle, bag etc daily apani jagah rakhane ke liye bolana padata hai,,, phir use ghussa aata hai, how to treat him, reply please

  • रिपोर्ट

| Aug 10, 2017

Hello meri bachi 4sal ki hai air khana thic se nahi khati bohot nakhare karti hai please muje batae ki use Kaise treat karu

  • रिपोर्ट

| Aug 10, 2017

Same.. Plz tell me how can I improve it..

  • रिपोर्ट

| Aug 09, 2017

True

  • रिपोर्ट

| Aug 09, 2017

What is the solution to it but...

  • रिपोर्ट

| Jul 31, 2017

I have already scolded my child a lot. she has become very stubborn. how can I improve my child's behavior.

  • रिपोर्ट

| Jul 31, 2017

Really true. I scold my child a lot due to which nw he refuses to listen any task i tell him. Thanks for such a nice blog. Its an eye opener for me. Nw i will try my best to change myself.

  • रिपोर्ट

| Jul 31, 2017

Pls how can i read full blog

  • रिपोर्ट

| Jul 31, 2017

Awesom blog.... I stay in a joint family. i shouts n scold my child a lot.... the result is the same as your blog has mentioned. Now what to do or how 2 pacify my relation with my wids....

  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}