Parenting

बड़ों से ज़्यादा बच्चों को चाहिए होती है नींद, इन मिथकों को जान कर समझें उसकी नींद को

Parentune Support
All age groups

Created by

बड़ों से ज़्यादा बच्चों को चाहिए होती है नींद इन मिथकों को जान कर समझें उसकी नींद को

बच्चों की आदतों को समझना बड़ा ही जटिल होता है, ख़ास कर कि उनके सोने से जुड़ी आदतों को. बच्चों की परवरिश पर यूं तो लोग अलग-अलग सलाहें दते रहते हैं लेकिन आपको वो ही बातें माननी चाहियें, जिनका कोई आधार हो. बच्चों को बड़ों से ज़्यादा नींद की ज़रूरत होती है, इसलिए ये ज़रूरी है कि आप उनकी नींद को ठीक से समझें.

ये हैं बच्चों की नींद से जुड़े कुछ मिथक, जिन्हें ज़्यादातर लोग सही मान बैठते हैं.
 

पहला मिथक: सोते हुए बच्चे को कभी जगाना नहीं चाहिए
 

दूसरा मिथक: लोरी सुनाने से बच्चे को नींद आती है
 

अधिक जानकारी के लिए पूरा ब्लॉग पढ़े... 


Login to read the complete Blog. Not a member on Parentune.com yet? Register here.

  • 3
Comments()
Kindly Login or Register to post a comment.
puloma pandey

| Oct 02, 2017

बिल्कुल सही मै भी इस बात को मानती हूं। पहले मुझे लगता था कि बच्चे को सुलाने के लिये पूरी तरह शांत वातावरण होना चाहिय और मैं गुस्सा हो जाती थी जब कोई शोर करता था फिर मैंने देखा कि जब उसे नींद आती है तो कितनी भी आवाजे हो सो जाती है वो।

  • Report
Bhavana Srivastava

| Sep 26, 2017

yeah I m agree with all the points .pahle Mai Apne bacche Ko noon mein sulati thi ,as result,vo night meint jaldi nhi sota that,bt now Mai noon mein bhi sulati n night mein vo jaldi so Jata h. dats gud for me n him also.

  • Report
Barinder Kaur

| Sep 24, 2017

Right. Bacho ke liye din me sona bhut zaroori hai. Subah jaldi uthna parta hai school jane ke liye. fir home work bhi karna hai kehlna bhi hai,dimag ko rest to zaroor chahiye.. thx for information.

  • Report
Loading
Heading

Some custom error

Heading

Some custom error