• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
स्वास्थ्य

मौसम में होते बदलाव में बच्चों को कैसे रखें सुरक्षित

Prasoon Pankaj
1 से 3 वर्ष

Prasoon Pankaj के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Apr 06, 2020

मौसम में होते बदलाव में बच्चों को कैसे रखें सुरक्षित
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

बदलता मौसम अपने साथ कई तरह की बीमारियां लाता है। इस दौरान मरीजों की संख्या बढ़ जाती है। बदलते मौसम में सबसे ज्यादा खतरा बच्चों को रहता है। दरअसल कभी सर्दी तो कभी गर्मी की वजह से बच्चे बहुत जल्दी सर्दी, खांसी, जुकाम व बुखार की चपेट में आ जाते हैं। ऐसे में इस मौसम में बच्चों को संभालकर रखना चाहिए। यहां हम बताएंगे कुछ ऐसे उपाय जिनसे आप बदलते मौसम में अपने बच्चों को स्वस्थ रख सकते हैं।
 

बदलते मौसम में बच्चे की सुरक्षा को लेकर किन बातों का रखें ध्यान / Precautions need to take on the current changing weather In Hindi

गाहे-बगाहे आपने किसी ना किसी की जुबानी ये जरूर सुना होगा कि मौसम बदल रहा है इसलिए तबियत ठीक नहीं है। खुद आपने भी महसूस किया होगा कि जब अचानक गर्मी के मौसम से सर्दी के मौसम की शुरुआत हो जाए या फिर सर्दी के मौसम के बाद गर्मी का मौसम दस्तक देने लगे तो इस दौरान लोग कुछ ज्यादा ही बीमार पड़ने लगते हैं।

  1. अब जैसे कि दिसंबर और जनवरी में तो कड़ाके की सर्दी पड़ती है लेकिन फिर फरवरी के महीने से मौसम में बदलाव आना शुरू हो जाता है। यह मार्च तक रहता है। ऐसे में इन 2 महीनों में बच्चों पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। बच्चों को गर्म कपड़े पहनाकर रखें, ताकि उसे ठंड न लगे।
     
  2. बच्चों को रोज कम से कम 8 गिलास पानी जरूर पीने को दें, ताकि उनके शरीर में पानी की कमी न हो। इस ब्लॉग को जरूर पढ़ें: छोटे बच्चों को इन 10 टिप्स के ज़रिये सिखाएं पानी पीने की आदत 
     
  3. बच्चों को ठंडी चीजों जैसे आइसक्रीम, कोल्ड ड्रिंक्स, दही व केले से दूर रखें।
     
  4. बच्चों को घर से निकलने से पहले नाक पर सरसों का तेल जरूर लगाएं। इससे उन्हें किसी दूसरे के छींकने या खांसने से निकलने वाले कीटाणुओं से बचने में मदद मिलेगी।
     
  5. बदले मौसम में बच्चों को पानी के साथ थोड़ा सा ग्लूकोज और तुलसी के पत्ते डाल कर दें। इससे वह ऊर्जावान महसूस करेंगे।
     
  6. बच्चों को ज्यादा से ज्यादा प्याज, हरी सब्जियां, जूस व फल खिलाएं। इससे वह जल्दी बीमार नहीं पड़ेंगे।
     
  7. बच्चे को सुबह टहलाने के लिए न ले जाएं। जब धूप निकले तभी उसे घर से बाहर निकालें। रात में एसी व पंखा भी नहीं चलाना चाहिए।
     
  8. एक सेब और दही ज्यादा से ज्यादा मात्रा में बच्चों को दें।
     
  9. बदलते मौसम में एकदम ठंडे पानी से बच्चों को नहलाने से भी बचना चाहिए।
     
  10. बच्चों को बाहरी चीज जैसे गोलगप्पे, नूडल्स, चाट आदि न खिलाएं।

कुल मिलाकर आप इस बात को अच्छे से समझ लें कि मौसम में आ रहे बदलाव के बाद बच्चे के स्वास्थ्य को लेकर आपको बहुत अधिक चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है बस आपको कुछ सावधानियां या यूं कह लीजिए की सतर्कता बरतने की जरूरत है। 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • 2
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Mar 06, 2019

mera baccha 7 year ka hai meri baat nahi manta kya karoon main

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Apr 03, 2020

Mera anubhv he ki agar hum bachho ko immunity badane wali chije dege to bhi wo bimariyo se bache rah sakte he

  • Reply
  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
Sadhna Jaiswal

आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट

गर्भावस्था

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}