• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
पेरेंटिंग शिक्षण और प्रशिक्षण बाल मनोविज्ञान और व्यवहार

अगर बच्चा झूठ बोल रहा है तो उसको कैसे समझाएं?

दीप्ति अंगरीश
3 से 7 वर्ष

दीप्ति अंगरीश के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Sep 21, 2020

अगर बच्चा झूठ बोल रहा है तो उसको कैसे समझाएं
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

आप लाख कोशिश कर रहे हैं, फिर भी आपका बच्चा झूठ पर झूठ बोल रहा है, तो घबराए नहीं। उसे अधिक डांट फटकार भी नहीं करें। पता करें कि उसका संगत कैसे बच्चों के साथ है ? कहीं बुरे बच्चे तो उसके आसपास अधिक नहीं है ? कोई उसे गुमराह तो नहीं कर रहा है ? क्या आप या आपके परिवार में किसी अन्य सदस्य से वह अधिक डरता तो नहीं है ? असल में, कई बार ऐसा देखा गया है कि कुछ बच्चे डर के कारण भी झूठ बोलने लग जाते हैं। यदि ऐसा है, तो आपकेा बडे ही प्यार से उसे समझाना होगा। यह उम्र कच्ची मिट्टी की तरह होती है। जैसा आप उसे ढालेंगे, उस सांचे में आपका बच्चा ढल सकता है।
हम मानते हैं कि अपने संतान की झूठ बोलने की आदत से आप परेशान होते होंगे। यह स्वाभाविक है। आपकी चिंता कोई भी माता-पिता बेहतर तरीक से समझ सकता है। सबसे बड़ी चिंता की बात यह हेाती है, जब वह बार-बार और बिना किसी वजह से झूठ बोलता है। बच्चों की इस आदत से कई बार माता-पिता उन पर भरोसा करना बंद कर देते हैं और बच्चे शक के घेरे में आ जाते हैं। जब एक बार ये झूठ बोलने का चक्र शुरु होता है, तो उसे रोकना बहुत मुश्किल हो जाता है। लेकिन, घबराएं नहीं। हम आपको बेहतर सुझाव दे रहे हैं।

क्यों बोलता है बच्चा झूठ ?

मशहूर मनोचिकित्सक और मेंटल हेल्थ नर्स डेरेक वुड के अनुसार, “बच्चे अक्सर किसी गलती को छिपाने के लिए झूठ बोलते हैं, ताकि उन्हें उस गलती की सजा ना मिले। कई बार बच्चे उन हालात में भी झूठ बोलते हैं जब उन्हें पता होता है कि अभिभावक या केयर टेकर उन्हें शारीरिक तौर पर सजा देगा।”
मेडिकल एक्सपर्ट कहते हैं कि बच्चों में बार-बार झूठ बोलने की आदत दो प्रकार के डिसॉर्डर की वजह से हो सकती है। पहला है, अटेंशन डेफेसिट हाइपर एक्टिविटी डिसॉर्डर यानी डीएचडी। दूसरा, कंडक्ट डिसॉर्डर। एक्सपर्ट कहते हैं कि एडीएचडी दिमाग की वह बीमारी है, जिसमें बच्चा सिर्फ बड़ी बातों पर ही नहीं, बल्कि छोटी-छोटी बातों पर भी झूठ बोलने लगता है। समय के के साथ-साथ यह आदत और बढ़ती है।
वहीं, कंडक्ट डिसॉर्डर एक प्रकार की व्यावहारिक और इमोशन से जुड़ी बीमारी है। यह ज्यादातर बचपन में होती है। अगर कंडक्ट डिसॉर्डर अपने चरम पर पहुंच जाता है, तो पीड़ित आक्रामक और हमलावर हो जाता है। इसकी वजह से बच्चे चोरी करना, झूठ बोलना और धोखा देना सीख जाते हैं।

कई बार आपके बच्चे अपनी गलती छिपाने के लिए, सजा के डर से, काम नहीं करने के लिए, माता-पिता का प्यार छिन जाने के डर से भी झूठ बोल जाते हैं।


झूठ नहीं बोलने के लिए कैसे समझाएं अपने बच्चों को?


- आजकल बच्चे टीवी देखने और मोबाइल गेम पर अधिक व्यस्त हो जाते हैं। ऐसे में वह अपना होमवर्क करना भूल जाता है। हो सकता है जानबूझकर भी छोड दें। अगर आपके बच्चे ने भी ऐसा किया है, तो तो उसे खेल छोड़कर काम करने को कहें। अगर आप पहले ही उससे पूछ लेंगे तो हो सकता है कि वह टीवी बंद हो जाने के डर से झूठ बोल दे।

- आपके बच्चे कहां मुश्किल में हैं, यह जानने की कोशिश करें। हो सकता है  उसका स्कूल होमवर्क नहीं समझ में आ रहा हो। जितनी बार बच्चा झूठ बोले उसके झूठ के पैटर्न को याद रखें और पता लगाएं कि क्या सारे पैटर्न में झूठ बोलने की वजह एक ही थी या अलग-अलग।

- आपको हमारी ओर से सलाह है कि कभी भी बच्चों के झूठ को पर्सनली नहीं लें। आप यह पता करें कि बच्चा आपका अनादर करने के लिए झूठ नहीं बोल रहा है। हो सकता है, यह एक बीमारी की वजह से है।

- जब आपका बच्चा बातों को समझने लगे, तो उसे सही-गलत और अच्छे-बुरे का अंतर प्यार से समझाएं।

- आपको सलाह दी जाती है कि बच्चे के हाव-भाव, उठने-बैठने के ढंग पर बारीकी से नजर रखें।

- कई बार जरूरत से ज्यादा नसीहत देने की कोशिश गलत होती है। समय और बच्चे के मूड के हिसाब से उससे बात करें।

- इतना कुछ होने के बाद भी, यदि बच्चे की हर बात में झूठ शामिल होने लगे, तो तुरंत वेलनेस कंसल्टेंट से संपर्क कर सकते हैं।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • कमेंट
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें

टॉप पेरेंटिंग ब्लॉग

Sadhna Jaiswal

आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट

गर्भावस्था

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}