• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
बाल मनोविज्ञान और व्यवहार

कैसे करे ऐ.स.डि बच्चो के साथ वेकेशन प्लानिंग

Parentune Support
3 से 7 वर्ष

Parentune Support के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Dec 18, 2019

कैसे करे ऐसडि बच्चो के साथ वेकेशन प्लानिंग
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

छुट्टियो पे जाने से पहले योजना और तैयारी किसी भी यात्रा का एक महत्वपूर्ण पहलू है, लेकिन जब आपके पास ऑटिज्म बच्चा होता है तो यह और भी महत्वपूर्ण होता है। कुछ तरीके दिए गए हैं जो आपको छुट्टियां प्लान करने मे मदद करेंगे।

स्थान को ध्यान में रखें-- यदि जाने के लिए आपके पास पहले से ही कोई प्लान नहीं है , तो उन स्थानों और स्थितियों के बारे में सोचें जो आपके बच्चे को अछ्छा लगता है । रेतीले समुद्र तट, पहाड़ों की शांत हवा,जंगल, आदि ।आपको अपने बच्चे के हित के बारे में सोचना है ,अगर वे इतिहास से प्रभावित हैं,तो उन्हे ऐतिहासिक जगहो मे ले जाना एक अछ्छा विचार होगा। परिवार के अनुकूल थीम पार्क में जाने का विचार भी कर सकते हैं। 
 

समय से पहले अपने बच्चे को तैयार करें -- यात्रा के बारे में अपने बच्चे से जितनी जल्दी और जितनी बार आपको जरूरी लगता है उससे उतनी बार बात करें। योजना की चर्चा करें और यात्रा मे प्रत्येक दिन क्या होगा कैसा होगा सब बताये। अपने बच्चे को उस स्थान और होटल जिसमें आप रहेंगे उसकी तस्वीरें दिखाएं, ,या यूट्यूब पर वीडियो देखें। ये सब जानने से उनकी चिंता कम हो सकती है।


रास्ते मे बोर होने से बचे-- सुनिश्चित करें कि आपके बच्चे को यात्रा के दौरान बहुत कुछ करना है ।बच्चों के खिलौने,कला कि किताब और रंग आदि साथ ले जाये। इस तरह बच्चे हर घंटे के बितने का इंतजार नही करेंगे बल्कि उन्हें हर घंटे व्यस्त रखने के लिए अपके पास कुछ नया होगा।


प्राथमिकता बोर्डिंग अनुरोध-- अगर आप हवाई जहाज से जा रहे है तो लाइनों मे प्रतीक्षा करना विमान बोर्डिंग का एक अंतर्निहित हिस्सा है और यह अक्सर स्पेक्ट्रम पर बच्चों के लिए बहुत मुश्किल होता है। इस से बचने के लिए, प्राथमिकता बोर्डिंग का अनुरोध करें । इससे लाइन में इंतजार नही करना पड़ता है।


हड़बड़ी ना करे--बहुत ज्यादा भागदौड़  कुछ बच्चों को परेशान कर सकती है। आपका मकसद सिर्फ बहुत सारी जगह पर जाना नही होना चहिये बल्कि जहा पर जाये इतमिनान से समय बिताये। याद रखें कि आपको सब कुछ करने की ज़रूरत नहीं है।


हर परिस्थिति के लिये तैयार रहे-- सुरक्षा पहले! अगर बच्चे के भटकने का खतरा है, तो उसे कुछ ऐसा दे जिससे उनकी पहचान कि जा सके, जैसे एक मेडिकल कंगन। उन्हे आईडी  दे जिसमे उनका नाम, एलर्जी, और आपका फोन नंबर शामिल हो। अगर आपका बच्चा खो जाता है, तो उनकि हालही मे लि गयी तस्वीर अपने पास रखे ताकि आप पुलिस को दिखा सकें कि वे कैसा दिखता हैं। 

 
बहुत सारी तस्वीरें लें! -- छुट्टीया परिवार कि यादों को बनाने का एक मजेदार समय है, इसलिए उन क्षणों को कैप्चर करें! वे बहुमूल्य हैं , तस्वीरो देखने से अपके बच्चे के चेहरे पे मुस्कुराहट आयेगी ।यदि आप अपने बच्चे के साथ दुबारा किसी अवकाश पर जाते हैं, तो आप उन्हें इस यात्रा से तस्वीरें दिखा सकते हैं और उन्हें याद दिला सकते कि आप सभी को कितना मज़ा आया!

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • कमेंट
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें
Sadhna Jaiswal

आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट

गर्भावस्था

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}