• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
खाना और पोषण

क्या बच्चे को आंवला या आंवले का अचार देना चाहिए?

Sadhna Jaiswal
1 से 3 वर्ष

Sadhna Jaiswal के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Jul 17, 2020

क्या बच्चे को आंवला या आंवले का अचार देना चाहिए
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

आयुर्वेद में आंवले को अमृतफल माना जाता है, जिसके अनगिनत लाभ होते है। आंवला सिर्फ बड़ों के लिए ही नहीं बल्कि बच्चो के लिए भी बहुत ही फायदेमंद होता है, तो यदि आपका बच्चा आंवला खाता है तो आपको अपने बच्चे को आंवला या आंवले का आचार जरुर देना चाहिए। आंवले में भरपूर मात्रा में विटामिन सी, मिनरल्स, जिंक, आयरन, विटामिन बी काम्प्लेक्स, कैल्शियम, एंटीओक्सिडेंट और न्यूट्रिएन्ट्स होते है, जो आंवले को बहुत ही गुणकारी बनाते है। यदि आप अपने बच्चे को आंवला खाना सीखा देती हैं, तो ये उसके स्वास्थ के लिए बहुत ही अच्छा होगा क्योकि कहते है कि एक आंवले में दो संतरों के बराबर विटामिन सी पाया जाता है, जो बच्चे की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ता है और कई बिमारियों से लड़ने में भी सहायता करता है। 

जानिए कैसे है आंवला बच्चो के लिए फायदेमंद / Health Benefits of Gooseberry (Amla) In Hindi

आंवले को वंडर फ़ूड कहा जाता है। कई गुणों से भरपूर आंवला सभी के स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद होता है तो आइये जानते है कि बच्चे के लिए आंवला फायदेमंद कैसे है। 

  1. पाचन तंत्र को मजबूत बनाता है - आंवला बच्चे के डाइजेशन अर्थात पाचन तंत्र को भी मजबूत बनाता है। आंवले से खाना आसानी से पच जाता है, इसे खाने से बच्चे को गैस या कब्ज की समस्या नहीं होती है, इसलिए आंवले को बच्चे के भोजन में किसी न किसी रूप में जरुर शामिल करना चाहिए जैसे आंवले की चटनी, आचार या मुरब्बा के रूप में आप इसे बच्चे की डाइट का हिस्सा बना सकती है।     
     
  2. रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाता है -   आंवला खाने से बच्चे के शारीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढती है और साथ ही ये बैक्टीरिया और फंगल इन्फेक्शन से लड़ने की ताकत को भी बढाता है, जिससे बच्चे बिमारियों से बचे रहते है, यही नहीं आंवले का सेवन करने से शरीर में मौजूद टॉक्‍सिन अर्थात जहरीले पदार्थ शरीर से बाहर निकल जाते है आंवला खाने से सर्दी जुखाम और पेट में इन्फेक्शन से भी मुक्ति मिलती है।  
     
  3. दांतों को मजबूत बनाता है  - दांतों को स्वस्थ और मजबूत बनाये रखने के लिए भी आंवला बेहद ही गुणकारी है। आंवले में एक शक्तिशाली एंटीमाइक्रोबॉईल एजेंट मौजूद होता है, जो दांतों को बैक्टीरिया से बचाता है।  आंवले के सेवन से दांतों में कीड़ा लगना जैसी समस्याएँ दूर होती है।   
     
  4. मजबूत हड्डियों के विकास के लिए – बढ़ते बच्चों के स्वस्थ और मजबूत हड्डियों के विकास के लिए ज्यादा कैल्शियम की आवश्यकता होती है और आंवले में भरपूर मात्रा में कैल्शियम होता है, आवंला खाने से बच्चे की हड्डियों को ताकत मिलती है और हड्डियाँ मजबूत बनती है।  
     
  5. दिमाग को तेज बनाता है - आंवला विटामिन्स और खनिजों से भरपूर होता है, जो दिमाग को तेज और स्वस्थ बनाता है। आंवला ब्रेन के लिए प्रभावकारी टानिक का काम करता है और स्मरण शक्ति को बढ़ाने और एकाग्रता को सुधारने में सहायक होता है। बच्चे के दिमाग को पोषण देने के लिए आंवला बच्चे को चटनी या किसी और रूप में कच्चा खिलाएं।
     
  6. वजन को कम करने में सहायक - यदि आप अपने बच्चे के बढ़ते वजन से परेशान है और उसे दवाइयां नहीं खिलाना चाहतीं तो उसकी डाइट में एक आंवला जरुर शामिल करें। आंवला शरीर में मौजूद गंदगी को दूर करके वजन को कम करने में भी सहायक होता है।  
     
  7. आँखों की रोशनी बढ़ाने में सहायक - आंवले में एंटी-ओक्सिडेंट गुण होता है, जो आँखों की रेटिना के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है, ये विटामिन सी का भी बहुत अच्छा श्रोत है, जो आँखों में होने वाली जलन को कम करता है और आँखों की रोशनी को बढ़ाता है।  
     
  8. कई बिमारियों से बचाता है - आंवले में इतने गुण है कि इसे सौ बिमारियों की एक दवा माना जाता है। आंवला कई बिमारियों को जड़ से ख़त्म कर देता है जैसे पीलिया, डाईबटिज और ये शरीर में खून को भी साफ़ करता है। आंवले में भरपूर मात्रा में आयरन होने की वजह से ये शरीर में खून की कमी को भी पूरा करता है।

यदि आप का बच्चा आंवला खाता है तो अपने बच्चे को आंवला या आंवले से बनी चीजे जरुर खिलाये और यदि अभी तक नहीं खाता है तो आज से आप अपने बच्चे के आहार में आंवले को जरुर शामिल करें।   

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • कमेंट
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें

टॉप खाना और पोषण ब्लॉग

Sadhna Jaiswal

आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट

गर्भावस्था

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}