पेरेंटिंग शिशु की देख - रेख

बालों में गर्मी में तेल का प्रयोग सही या गलत, इसे पढ़ें

Nishika
0 से 1 वर्ष

Nishika के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Aug 19, 2018

बालों में गर्मी में तेल का प्रयोग सही या गलत इसे पढ़ें

गर्मी में बच्चों की देखभाल करना एक कठिन काम है। जितना ध्यान इनकी सेहत का रखना पड़ता है उतनी ही केयर बच्चे के बालों की भी करनी होती है। कुछ नवजात के बाल जन्म से ही कम होते हैं, इससे पैरेंट्स परेशान हो जाते हैं। आइए आज बात करते हैं आखिर इस गर्मी में, तेल के द्वारा बच्चे के बालों की देखरेख कैसे करें और उन्हें स्वस्थ कैसे बनाएं।

 

1. नहाने से पहले बालों की मालिश -  गर्मी में बच्चों को ठंड लगने का खतरा काम होता है ऐसे में आप उसके  बालों की रोजाना मालिश कर सकते हैं । तेल बच्चे के बालों को पोषण देने के लिए बहुत जरूरी है। आप सरसों या बादाम का तेल भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके अलावा देसी घी से भी बालों की मसाज कर सकते हैं।

 

2.  खेलते वक्त  या स्कूल जाते वक्त करें कम तेल का प्रयोग -  यदि बच्चा स्कूल जा रहा हो या खेलने जा रहा हो तो उसे तेल न लगाएं | पसीने में अधिक तेल से बच्चे को स्किन इन्फेक्शन की शिकायत हो सकती है | तेल बच्चों के स्किन में पोर्स को बंद कर देता है ऐसे में तेल को हटाने के लिए त्वचा में पसीने की मात्रा बढ़ सकती है |

 

3. नारियल और आंवले का तेल गर्मी में होता है लाभदायक - वैसे तो मार्केट में कई तेल हैं, लेकिन बच्चे के लिए सबसे ज्यादा उपयोगी है सरसों, नारियल आंवला और बादाम तेल | गर्मी में आंवला बच्चे के सिर को ठंडा रखने में कारगर है। इसी तरह से नारियल के तेल की तासीर भी ठंडी होती है |

 

4.  कम से कम हफ्ते में 2-3 बार बालों को जरूर धोएं -   बच्चे गर्मी में खेलते हैं ऐसे में ज़रूरी है कि बच्चों के सिर की त्वचा साफ सुथरी रहे। | कोशिश करें कि आप बच्चों के सिर की मालिश के अलावा उनके बालों को कम से कम एक हफ्ते में 2-3 बार जरूर धोएं। | यह भी सुनिश्चित करें कि शैम्पू का चुनाव बच्चों के बालों पर आधारित PH level को ध्यान में रख के किया जाए।

 

5.   धूप करें बचाव - वैसे तो अधिक गर्मी में बच्चों के पूरे शरीर का बचाव करना चाहिए लेकिन शरीर के सबसे ऊपर होने के कारण बाल सबसे पहले तेज धूप के संपर्क में आते हैं।  ऐसे में बहुत जरूरी है कि खेलने जाते समय या स्कूल में गेम्स पीरियड में आउटडोर गेम्स खेलते वक्त बच्चों के बाल पूरी तरह से ढके हों। अगर टोपी पहन रखी है तो टोपी में हवा आने जाने के लिए पोर्स (छिद्र) भी हो जिससे कि कि उनके बालों के बचाव के साथ साथ उनके शरीर का तापमान भी उचित बना रहे |

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • 2
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Aug 20, 2018

bloke p. h level ke according shampoo ka use means?

  • रिपोर्ट

| Jun 02, 2018

meri beti 8 month ki honevali hai use sir me bohot ghamoriya ho gai hai. vo sir bohot khujati hai kya karu. plzzz moms help me

  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}