Parenting Babycare

बच्चो के सर की होनी चाहिए बखूबी देखभाल ! जाने क्यूँ ?

Parentune Support
0 to 1 years

Created by Parentune Support
Updated on May 23, 2018

बच्चो के सर की होनी चाहिए बखूबी देखभाल जाने क्यूँ

 

शुरुआत के दिनों में  शिशु के सिर का विशेष तौर पर ख्याल रखना पड़ता है। आपने देखा होगा कि शिशु के सिर का ऊपरी हिस्सा जिसे फॉन्टानेल हैं वह काफी नाजुक होता है। इसलिए लोग इन दिनों शिशु को सिर्फ एक ही तरह से सुलाते हैं ताकि उनके सिर पर खास दबाब न पड़े आमतौर पर शिशु के सिर का मूवमेंट चार से पांच महीने के बाद अच्छे से घूमने लगता है। शिशु बहुत नाजुक होता है उसे गोद में सावधानी से उठाना चाहिए। शिशु को उठाते वक्त एक हाथ गर्दन और सिर के नीचे जरूर होना चाहिये। दूसरा हाथ कूल्हों के नीचे रखें।इस तरह उसके पूरे शरीर को सहारा देकर ही उठायें। शिशु की गर्दन बहुत कमजोर होती है , सिर के वजन को नहीं सम्हाल पाती। अतः विशेष ध्यान रखें। बच्चे को सिर्फ हाथ पकड़ कर नहीं  उठाना चाहिए।


आज हम शिशु के सर की देखभाल के लिए कोन सी बाते ध्यान में रखनी चाहिए वो बतायेंगे |

सिर पीछे से चपटा न हो -- नए जन्मे शिशु का सिर इतना कोमल होता है कि कभी कभी उसका सिर पीछे से चपटा हो जाता है। शिशु के सिर के नीचे तकिया कुछ इस तरह लगाना चाहिये कि उसके सिर का शेप न बिगड़े। सिर के पीछे या तो एकदम नर्म छोटा तकिया होना चाहिए या शिशु के लिए विशेष मिलने वाला तकिया लेना चाहिए।

शिशु के सिर का मूवमेंट-- कोशिश करें की शिशु एक ही दिशा में हमेशा सर करके न सोए, इसलिए जब भी आप उसके सामने हों तब उसके सिर को दूसरे दिशा में कर के सुलाने की कोशिश करें।

सिर पे ज्यादा जोर ना पड़े इसलिए पेट के बल लिटाएं-- अपने नवजात को शुरुआत से ही पेट के बल लिटाने की कोशिश करें। शिशु जब जगा हुआ हो, तो उसे जितनी ज्यादा बार हो सके उतना ज्यादा पेट के बल लिटाएं। पेट के बल लेटे रहने से शिशु के सिर का हिस्सा समतल होने से बचाया जा सकता है। बहुत ज्यादा समय तक पीठ के बल लेटे रहने से शिशु के सिर का हिस्सा चपटा हो सकता है। ​शिशु जितने अधिक समय तक पेट के बल रहेगा, उसकी खोपड़ी पर उतना ही कम दबाव पड़ेगा।  

शैम्पू करें-- बच्चों के सिर को धोने के लिए हमेशा कैमिकल रहित शैम्पू का इस्तेमाल करें। कई महिलाएं जल्दी-जल्दी में अपने शैम्पू से ही बच्चों के बाल धो देती हैं जिससे बाल झड़ने लगते हैं और कमजोर हो जाते हैं। इसके अलावा शैम्पू का इस्तेमाल तभी करें जब बच्चे के सिर पर तेल लगा हो।

 घने और लंबे बालो के लिए -- शिशु के बालों की ग्रोथ बढ़ाने के लिए तेल से मसाज करें। इसके लिए सरसों, नारियल, जैतून या बादाम के तेल से सिर की मसाज करें। इसके अलावा देसी घी से भी सिर की मालिश कर सकते हैं। इससे बालों को पोषण मिलता है जिससे बाल घने और लंबे हो जाते हैं।

शिशु के ध्यान को भटकाएं-- अक्सर आपने देखा होगा कि शिशु ऊपर लगे हुए पंखे को एक टक से देखते हैं, इसलिए शिशु के साइड में कुछ लाल-पिली चीजें या खिलौने रख दें जिसे वह देखता रहे ताकि उसका सर दूसरी तरफ मुड़ सके।

स्तनपान करते वक्त ध्यान दे -- जब भी आप शिशु को गोद या स्तनपान कराएं तो इस बात का ध्यान रखें कि शिशु का सिर हमेशा एक ही स्थिति में न रहे। इससे शिशु को उसी अवस्था में लेटने या दूध पीते-पीते उसी स्थिति में सोने की आदत पड़ सकती है।

  • 1
Comments()
Kindly Login or Register to post a comment.

| May 22, 2018

अत्यधिक अवश्यक सूचना।

  • Report
+ START A BLOG
Top Parenting Blogs
Loading
Heading

Some custom error

Heading

Some custom error