• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
समारोह और त्यौहार

बच्चों के लिए अद्भुत है होली का त्योहार, इसे पढ़ें

Prasoon Pankaj
3 से 7 वर्ष

Prasoon Pankaj के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Feb 27, 2018

बच्चों के लिए अद्भुत है होली का त्योहार इसे पढ़ें
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

रंगों के त्योहार होली का सबको बेसब्री से रहता है। क्या बच्चे, क्या युवा और क्या बूढ़े, सब होली के रंग में सराबोर हो जाते हैं। अगर हम इस त्योहार पर इससे जुड़ी कुछ बातों को बच्चों को समझाएं तो उनके लिए ये और अद्भूत हो जाता है। आज हम आपको यहां बता रहे हैं कुछ ऐसी ही बातें जिन्हें आप होली के मौके पर अपने बच्चों को सिखाकर उन्हें अच्छा इंसान बना सकते हैं।
 

बच्चों पर चढ़ाएं सीख के ये रंग
 

  1. बुराई पर अच्छाई की जीतबच्चों को होली मनाने के पीछे की पौराणिक कथाएं बताते हुए उन्हें प्रह्लाद के बारे में बताने के साथ होलिका दहन के बारे में बताएं। उन्हें बताएं कि बुराई कितनी भी शक्तिशाली हो, जीत हमेशा अच्छाई की ही होती है। जिस तरह प्रह्लाद को जलाने गई शक्तिशाली होलिका खुद ही जल गई। बच्चों को बताएं कि वे भी हमेशा प्रह्लाद की तरह सच व अच्छाई के रास्ते पर चलें।
     
  2. अगर हम सच्चे हों तो भगवान हमारे साथ – बच्चों को बताएं कि अगर हम सच्चे हैं तो हमारा हमेशा अच्छा होगा। भगवान हमारे साथ रहेंगे। उन्हें बताएं कि कैसे प्रह्लाद सच्चा था तो भगवान हमेशा उसके साथ रहे और उसे हर मुसीबत से बाहर निकाला।
     
  3. अपनी ताकत पर अहंकार नहीं – अपने लाडले को होली पर ये भी सीख दें कि कभी भी अपनी ताकत पर अहंकार नहीं करना चाहिए। अगर कोई अपनी ताकत पर अहंकार करता है, तो उसका हाल हिरण्यकश्यप की तरह होता है। 
     
  4. रंगों का महत्व जिंदगी के लिए भी – होली पर एक और सबसे बड़ी सीख आप बच्चों को दे सकते हैं। उन्हें रंगों का महत्व बताते हुए समझाएं कि जिंदगी में भी हमेशा रंग भरके रखना चाहिए। कितनी भी मुसीबत व असफलता आ जाए, हमें निराश नहीं होना चाहिए। हमें हर परिस्थितियों में रंगों की तरह चमकते हुए रहना चाहिए। जिंदगी को हंसते हुए बिताना चाहिए।
     
  5. सभी को गले लगाने की सीख – होली ऐसा त्योहार है जिसमें सभी गिले व शिकवे भुलाकर लोग दुश्मन को  भी गले लगा लेते हैं। होली प्यार व भाईचारे का भी त्योहार है। अपने बच्चे को बताएं कि किसी से दुश्मनी नहीं करनी चाहिए। अगर किसी ने आपका गलत भी किया है, तो उसे मांफ करके गले लगाना चाहिए। इससे उसे अपनी गलती का अहसास होगा और आप बड़े बनेंगे। उसे सबके साथ मिलकर भाईचारे से रहने की सीख भी दें।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • कमेंट
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें
Deepak Pratihast
मॉमबेस्डर
आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट
आज का पैरेंटून
पैरेंटिंग के गुदगुदाने वाले पल

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}