शिक्षण और प्रशिक्षण

बच्चे के मन से निकालें मैथ का डर

Parentune Support
3 से 7 वर्ष

Parentune Support के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Dec 30, 2017

बच्चे के मन से निकालें मैथ का डर

मैथ्स एक ऐसा सब्जेक्ट जिसको लेकर कई बच्चे परेशान हो जाते हैं। उन्हें इस विषय से डर लगने लगता है। परेशान होने की वजह से वह इसे ठीक से पढ़ नहीं पाते। पर हकीकत में मैथ्स इतना कठिन सब्जेक्ट नहीं है। फॉर्म्युले पर आधारित यह विषय काफी दिलचस्प है। बस जरूरी है कि बच्चे को थोड़ा सा गाइड करके इस सब्जेक्ट को लेकर उनके मन में बने डर को दूर किया जाए। अगर आपका बच्चा भी मैथ्स में कमजोर है, तो आपको उसके मन से इसका डर निकालने की जरूरत है। यहां हम बता रहे हैं कुछ तरीके जिनकी मदद से आप अपने लाडले के मन से मैथ्स का खौफ दूर कर सकते हैं।
 

अपनाएं ये तरीके

  1. अपने बच्चे को सबसे पहले ये समझाएं कि मैथ्स फॉर्म्युले पर आधारित बिषय है। इसमें महारथ हासिल करने के लिए जरूरी है कि वह इसके फॉर्म्युले को याद रखे। इससे उसे कोई दिक्कत नहीं आएगी। बिना फॉर्म्युले को याद किए सवाल हल करने में समय भी बर्बाद होगा और सही जवाब भी नहीं निकलेगा।
     
  2. अगर आप घर पर बच्चे को मैथ्स पढ़ा रहे हैं, तो पढ़ाने के दौरान उसे मूर्त से अमूर्त की ओर ले जाएं, संख्याओं में उसकी दिलचस्पी बढ़ाएं। इससे वह पढ़ने के दौरान बोर नहीं होगा और आप जो उसे समझाएंगे, उसके दिमाग में बैठेगा। उसका डर भी खत्म हो जाएगा।
     
  3. बच्चे के साथ बैठकर उसे समझाएं कि वह मैथ्स के किताब में दिए गए उदाहरण को जरूर सॉल्व करने की कोशिश करे। इससे उसे क्लियर हो जाएगा कि चैप्टर के सवाल किस तरह के होंगे। इसके साथ ही उसे कहें कि पहले आसान सवाल का समाधान करे, उसके बाद कठिन सवालों पर जाए।
     
  4. इसके अलावा आप उदाहरण व फॉर्म्युले को समझाने के लिए आप उसे यूट्यूब, डीवीडी के माध्यम से विडियो की मदद भी ले सकते हैं। विडियो में सवाल के समाधान को देखकर उसके दिमाग में वह जल्दी बैठेगा।
     
  5. अगर आपका बच्चा मैथ्स के किसी सवाल को समझ नहीं पा रहा है और उसे छोड़कर आगे बढ़ रहा है, तो उसे ऐसा करने से रोकें। उसे समझाएं कि गणित के सारे चैप्टर एक-दूसरे से जुड़े रहते हैं। अगर वह पहला चैप्टर छोड़ेगा, तो दूसरे को समझने में दिक्कत होगी। इसलिए मेहनत करके पहले चैप्टर का समाधान करे, उसके बाद दूसरे पर जाए।
     
  6. बच्चे को मैथ्स पढ़ाते समय बाल मनोविज्ञान पर भी ध्यान देना चाहिए। बच्चे के मन से मैथ्स का डर निकालने के लिए यह बहुत जरूरी है। इसके अलावा बच्चों के स्तर पर किसी विषयवस्तु को समझने में आने वाली दिक्कतों को भी समझना जरूरी है, ताकि बच्चा जहां पर अटक रहा है उसे वहां मदद करके उसकी दिक्कत दूर की जा सके। मैथ्स परिणाम से ज्यादा प्रक्रिया पर केंद्रित है। अगर एक बार बच्चा किसी सवाल को हल करने की सही प्रक्रिया सीख लेगा, तो भविष्य में उस तरह के सवालों को हल करने में वह अटकेगा नहीं।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • कमेंट
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}