स्वास्थ्य और कल्याण

जरूरी है बच्चों को डेंटल हाइजीन सिखाना

Anubhav Srivastava
1 से 3 वर्ष

Anubhav Srivastava के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Jul 11, 2018

जरूरी है बच्चों को डेंटल हाइजीन सिखाना

दांतों को नियमित रूप से साफ रखना बच्चे व बड़ों सबके लिए बहुत जरूरी है। बच्चों के दांतों पर तो खास ध्यान देने की जरूरत होती है। वैसे तो दांतों को खाना खाने के बाद हमेशा साफ करना चाहिए, लेकिन भागदौड़ भरी इस नियम का पालन गिने-चुने लोग ही कर पाते हैं। ऐसे में इस क्रिया को अगर पैरेंट्स बच्चे को नियमित रूप से 2-3 साल की उम्र से ही शुरू कराएं, तो यह आदत बन सकती है और बच्चा बड़ा होकर भी इस आदत को नहीं छोड़ेगा। इससे न सिर्फ उसके दांत व मसूड़े स्वस्थ और मजबूत बनेंगे, बल्कि वह भी रोगमुक्त रहेगा। आज हम बताएंगे कि आखिर क्यों बच्चों को शुरुआती दिनों में ही डेंटल हाइजीन सिखाना जरूरी है और आप कैसे बच्चे को डेंटल हाइजीन सिखा सकते हैं।

बच्चे को इस तरह सिखाएं

  • बच्चे का पहला दांत निकलते ही उसके दांतों को साफ करना शुरू कर दें। आप एक बार सुबह व एक बार रात में उसके दांतों पर ब्रश करें। धीरे-धीरे उसे ब्रश करना सिखाएं, पर हमेशा उसपर निगरानी रखें, ताकि वह ब्रश से खुद को चोट न पहुंचा सके।
  • बच्चे को ब्रश करने के दौरान टूथपेस्ट को थूकना सिखाएं। जब तक वह टूथपेस्ट को थूकना न सीख ले, तब तक उसके लिए फ्लोराइड मुक्त टूथपेस्ट का इस्तेमाल करें। यह विशेष रूप से छोटे बच्चों के लिए ही बनाया जाता है।
  • अगर आपके बच्चे ने मीठा खाया है, तो इसके आधे घंटे बाद ब्रश कराएं, इससे उसके दांत स्वस्थ रहेंगे।
  • इसके अलावा बच्चों को बताते रहें कि दिन में दो बार ब्रश करना चाहिए। उन्हें दांतों में चिपकने वाले खाद्य पदार्थों से बचना, भोजन के बीच स्नैकिंग कम करना और अधिक एसिड और चीनी वाले खाद्य व पेय पदार्थों से बचना सिखाएं, ताकि वह बड़े होकर भी इस नियमों का पालन कर सकें।
  • अगर बच्चे के दूध के दांतों में केरीज है, तो इसे नजरअंदाज न करें। दूध के दांतों का क्षय बच्चे के स्थायी दांतों को प्रभावित कर सकता है।
  • बच्चे को चीनी और मिठाई का सेवन अधिक न करने दें। उसे बताएं कि चीनी एक एसिड का उत्पादन करती है, जो दांतों से कैल्शियम बाहर निकाल देता है और दन्तवल्क की कोटिंग को नुकसान पहुंचा सकता है। इससे दांतों का क्षय हो सकता है और कैविटीज बन सकती है।
  • अपने बच्चे के भोजन में कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थों जैसे दूध और पनीर को भी शामिल करें। इससे दांत मजबूत होंगे।
  • बच्चों के लिए ब्रश करने के दौरान टूथपेस्ट की मात्रा पर विशेष ध्यान देने की जरूरत होती है। इस बात का ध्यान रखें कि पेस्ट की मात्रा बच्चे की छोटी उंगली के नाखून से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • इसके अलावा बच्चे के लिए टूथब्रश का चुनाव करते वक्त भी खास सावधानी बरतें। बच्चों के लिए नरम चिलरों वाले ब्रश का चयन करना चाहिए। साथ ही टूथब्रश का सिर भी छोटा होना चाहिए।  

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • 2
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Aug 05, 2018

fluoride wala toothpaste ka name bataiye?

  • रिपोर्ट

| Jul 21, 2018

meri beti 26 mnth ki ho gy hai. bt brush krneme bahut aanakani krti hsi.. hw to hndle

  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}