शिक्षण और प्रशिक्षण

बच्चों से बात करते हुए रखें इन 10 बातों का ख़याल, उनके जीवन में होगा सकारात्मक बदलाव

Parentune Support
सभी आयु समूहों

Parentune Support के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Jan 30, 2018

बच्चों से बात करते हुए रखें इन 10 बातों का ख़याल उनके जीवन में होगा सकारात्मक बदलाव

मां-बाप होने के नाते आप भी अपने बच्चे के व्यक्तित्व को ज़्यादा से ज़्यादा सकारात्मक बनाने की कोशिश करते होंगे. हर माता-पिता की कोशिश रहती है कि उनके बच्चे अच्छी बातें ही सीखें और उन्हें अपने जीवन में उतारें.
 

आज हमको ऐसी 10 बातें बता रहे हैं जिनके ज़रिये आप अपने बच्चों की सकारात्मक रहने में मदद कर सकते हैं. बात-चीत के दौरान अगर आप उनसे ये बातें कहेंगे, तो वो सही काम करने को प्रेरित होंगे.
 

1. उनके कामों के परिणाम की जगह उनके प्रयास करने की सराहना करें. वो जो भी काम करते हैं उसे ठीक से देखें और उसकी बारीकियों के बारे में बात करते हुए उसकी सराहना करें.
 

2. उन्हें महसूस कराएं कि आप उनकी छोटी-छोटी चीज़ों को नोटिस करते हैं. उनके छोटे-छोटे प्रयासों की सराहना उन्हें और बेहतर करने के लिए प्रोत्साहित करेगी.
 

3. उनके भाई-बहनों या दोस्तों से कभी भी उनकी तुलना न करें. उनके काम के बारे में बात करते हुए किसी और का ज़िक्र न कर के उनकी अच्छाई और सुधारने योग्य बातें बताएं.
 

4. उसे श्रेय देना कभी न भूलें. अगर वो किसी काम में आपकी मदद करते हैं, तो उन्हें बताएं कि आप उनके ऐसा करने पर गौरवान्वित महसूस करते हैं.
 

5. उनके सामने खुद को उत्साहित दिखाएं. आप जिस तरह रहते हैं, आपके बच्चों पर भी उसका असर पड़ता है. उनके सामने खुश और उत्साहित रहने की कोशिश करें.
 

6. उन्हें बताएं कि आपको उनकी क्षमताओं पर भरोसा है. उन पर उम्मीदों का बोझ डालने से बेहतर होता है कि आप उन्हें भरोसा दिखाएं. उन्हें बताएं कि हर परिस्थिति में आप उनके साथ खड़े रहेंगे और वो ज़िन्दगी में कुछ भी हासिल कर सकते हैं.
 

7. उन्हें सशक्त बनाएं ताकि वो अपनी मदद ख़ुद कर सकें. उन्हें छोटे-छोटे काम सिखा कर ज़्यादा से ज़्यादा आत्मनिर्भर बनाएं.
 

8. उन्हें बताएं कि वो जो करते हैं उससे आपको कैसा महसूस होता है. इस तरह वो ये जानना सीखेंगे कि उनके काम दूसरे लोगों को भी प्रभावित करते हैं. उन्हें बताएं कि जब वो कुछ अच्छा करते हैं तो वो आपको भी अच्छा महसूस करवाते हैं.
 

9.  अगर आप उन्हें कोई काम करने से रोकते हैं या मना करते हैं तो उसी वक़्त उन्हें ये भी बताएं कि आप उन्हें क्यों रोक रहे हैं. उन्हें समझाएं कि वो काम करते रहने से क्या नुकसान हो सकता है.
 

10. उन्हें अपनी भावनाओं को शब्द देना सिखाएं. उन्हें समझाएं कि वो जो भी महसूस कर रहे हैं उसे शब्दों के ज़रिये कैसे ज़ाहिर कर सकते हैं. भावनाएं साझा करना सीखने पर वो बेहतर महसूस करेंगे और नकारात्मकता उन पर हावी नहीं हो पायेगी.
 

बात करने के अंदाज़ में ये छोटे-छोटे बदलाव लाकर आप अपने बच्चों में सकारात्मक बदलाव ला सकते हैं| 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • 1
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Feb 05, 2018

बहुत ही बढ़िया सुझाव आपने इस ब्लॉग के जरिये शेयर किए है। इनसे बच्चे का आपने आप को देखने का नज़रिया भी बदलेगा और वो एक सकारात्मक सोच भी रखेगा।

  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
टॉप शिक्षण और प्रशिक्षण ब्लॉग
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}