• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
पेरेंटिंग

बच्चे को कैसे सिखाएं घड़ी देखना

Parentune Support
3 से 7 वर्ष

Parentune Support के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Dec 16, 2019

बच्चे को कैसे सिखाएं घड़ी देखना
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

अक्सर हम चाहते हैं कि हमारा बच्चा छोटी उम्र में ही बहुत कुछ सीख जाए। हम उसे रंगों की पहचान, गिनती, एल्फाबेट व अन्य कई चीजें सिखाते हैं। बच्चा इसे आसानी से सीख भी लेता है, लेकिन पैरेंट्स के आगे सबसे बड़ी चुनौती बच्चों को कम उम्र में समय का महत्व व घड़ी देखने की कला सिखाने की होती है। छोटी उम्र में कम समझ होने के कारण बच्चों को टाइम देखना सिखाना आसान नहीं होता। यहां हम बताएंगे आपको कुछ ऐसे ही तरीके जिनकी मदद से आप अपने बच्चे को घड़ी देखना सिखा सकते हैं।
 

इन बातों पर करें अमल
 

  1. घंटे के बारे में बताएं – सबसे पहले बच्चे को बताएं कि एक दिन में 24 घंटे होते हैं। घड़ी में 12 घंटे का चक्र होता है। यानी एक दिन में 2 बार 12 घंटे का चक्र घूमता है। घड़ी में 1 से 12 तक की संख्या से समय बनता है।
     
  2. गिनती भी सिखाएं – अगर आप चाहते हैं कि बच्चा घड़ी देखने में परफेक्ट हो, तो बेहतर होगा कि उसे 1 से 100 तक गिनती भी आती हो, इससे वह सीधे घंटे के अलावा मिनटों को भी समझ सकेगा और बता सकेगा।
     
  3. 60 मिनट का एक घंटा – बच्चे को ये भी बताएं कि एक घंटे में 60 मिनट होते हैं। एक मिनट में 60 सेकेंड होते हैं।
     
  4. घड़ी की सूइयों के बारे में बताएं – बच्चे को घड़ी में मौजूद दोनों सूइयों के बारे में जानकारी दें। उसे चीजें याद रहें इसके लिए जरूरी है कि आप दोनों सूइयों के बारे में उन्हें आसान तरीके से समझाएं। आप बच्चे को बताएं कि छोटी सूई छोटा हाथ है और ये घंटे को निर्धारित करता है या घंटे को बताता है। जबकि बड़ी सूई, बड़ा हाथ है और यह मिनट को दर्शाता है। इसके बाद बच्चे को बताएं कि अगर छोटी सूई 1 पर है और बड़ी सूई 12 पर तो 1 बजेंगे। इसी तरह छोटी सूई अगर 5 पर है और बड़ी सूई 12 पर तो 5 बजेंगे। इस प्रक्रिया को करने के लिए आप कागज पर एक डमी घड़ी बना लें। इसके बाद एक-एक करके छोटी सूई को हर संख्या पर रखकर उसे समय बताएं।
     
  5. अंत में दें मिनट की जानकारी – बच्चे को पूरी तरह से समय देखना सिखाने के लिए आखिरी स्टेज मिनट का रखिए। एक डमी घड़ी कागज या थर्माकॉल पर बना लीजिए। उसमें 1 से 12 तक गिनती घड़ी के हिसाब से लिखिए। इसके बाद एक छोटी सूई व एक बड़ी सूई भी बनाएं। अब बच्चे को बताएं कि 12 को हम जीरो मानते हैं और इसके बाद 1 आता है। बड़ी सूई यानी मिनट की सूई 12 से आगे जब 1 पर पहुंचेगी तो उसकी वैल्यू 5 मिनट होगी, इसी तरह 1 से आगे 2 पर जाने पर 10 मिनट। उसे समझाएं कि 1 से 12 तक हर नंबर पर 5 मिनट की वैल्यू बढ़ती जाती है। जब मिनट की सूई घूमकर फिर से 12 पर आ जाए तो 60 मिनट कंप्लीट होकर 1 घंटे का चक्र पूरा होता है। समझाने के लिए डमी घड़ी पर 1 के ऊपर 5 मिनट, 2 के ऊपर 10 मिनट और आगे भी इसी तरह मिनट आगे बढ़ाते चलें। इसके बाद छोटी सूई को किसी नंबर पर रखकर उसे बताएं कि ये घंटे की सूई है यानी छोटी सूई जिस नंबर पर रहेगी वह समय हो रहा होगा। वहीं बड़ी सूई अगर 1 पर है, तो वह पांच मिनट, 2 पर है तो 10 मिनट और 3 पर है तो 15 मिनट कहलाएगा। अब उसे प्रैक्टिकल करके दिखाएं छोटी सूई को 4 पर रखें और बड़ी सूई को 1 पर रख दें। फिर उसे बताएं कि इसका मतलब 4 बजकर 5 मिनट हुआ, जैसे जैसे बड़ी सूई आगे बढ़ेगी मिनट बढ़ता जाएगा। इससे आपका बच्चा घड़ी देखना आराम से सीख जाएगा। 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • कमेंट
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें
Deepak Pratihast
मॉमबेस्डर
आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट
आज का पैरेंटून
पैरेंटिंग के गुदगुदाने वाले पल

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}