पेरेंटिंग स्वास्थ्य और कल्याण

बच्चों के पेट की समस्या को नहीं करें नजरंदाज

Sadhna Jaiswal
3 से 7 वर्ष

Sadhna Jaiswal के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Jul 25, 2018

बच्चों के पेट की समस्या को नहीं करें नजरंदाज

आपने नोटिस किया होगा कि कभी-कभी आपके बच्चे पेट की समस्या से परेशान हो जाते हैं। पेट दर्द  से रोने लगते हैं और निश्चित रूप से उस समय माता-पिता चिंतित हो जाते हैं। पेट की समस्या के कई कारण हो सकते है, गैस की समस्या या पेट फूलना, बच्चो में पेट दर्द की समस्या अक्सर दूषित पानी या दूषित खाना खाने की वजह से भी हो सकती है। आइये इस ब्लॉग में हम पेट की समस्या के कारणों और उसके निवारण के बारे में बात करते हैं।      
 

बच्चों में पेट की समस्या के कारण:-


1.बच्चे के पेट में गैस:-
पेट में गैस की समस्या न केवल बड़ो में देखने को मिलती है बल्कि ये आपके छोटे बच्चो को भी परेशान कर सकती है। गैस का होना एक साधारण सी समस्या होती है, जो कभी भी और किसी भी बच्चे को हो सकती है।

 2.बच्चे के पेट में कीड़े:- 
बच्चे  के पेट में कीड़े या कृमि का संक्रमण कई वजह से हो सकता है। जैसे की जमीन पर नंगे पैर चलने/खेलने से,  संक्रमित पानी या आहार के संपर्क में आने से बच्चे के पेट में कीड़े हो जाते है।         
 
3.अनियमित खान पान:-
बच्चो में समय से भोजन न करने की वजह से भी बच्चो में पेट दर्द की प्रॉब्लम हो जाती है। बच्चो के खाना खाने के समय में यदि उनको बहुत जोर की भूख लगी हो और वो खाने की जगह कुछ और खा ले जैसे चिप्स, कुरकुरे तो ऐसी अवस्था में भी पेट दर्द हो सकता है।         
 
4.प्रदूषित भोजन करना:-
कई बार बच्चे बड़ो से जिद करके बाहर का कुछ ऐसा खा लेते है जो उनके लिए सही नहीं होता। कई बार बाहर का खाना कीटाणु युक्त भी हो सकता है। जिसके खाने के कुछ समय बाद ही बच्चो को पेट दर्द की शिकायत होने लगती है। 

        
5.आंतो में सक्रमण का होना:-
कुछ माताये अपने बच्चो को घर की बजाय बाहर की चीजे ज्यादा खिलाना पसंद करती हैं। जैसे रोज सुबह ब्रेड की आदत या फिर खाने की जगह मैगी, सब्जी की जगह जैम या सौस। लगातार बाहर की चीजे खाने से आगे चल कर बच्चे की आंतो में सक्रमण भी हो सकता है। जिसकी वजह से बच्चे को हमेशा पेट दर्द की शिकायत बनी रहती है।   

      
 
बच्चो के पेट की समस्या को कम करने के उपाय:-

  • बच्चों को जब खाना खाने के लिए दें, तो उससे पहले उसके हाथ जरुर धुलवाए।       
  • जब बच्चा स्कुल से आता है या कहीं बाहर से खेल कूद के आता है तब उसके हाथ और पैर धुलवाए ये उपाय रोज जरूर करें।         
  • बच्चे के नाखुनो को बढ़ने नहीं देना चाहिए। नाख़ून बढ़ने से उसमे गंदगी जमा हो जाती है, जो खाने के साथ मिलकर पेट में जाती है। जिससे पेट दर्द समस्या हो सकती है इसलिए बच्चे के नाख़ून समय समय पर काटते रहना चाहिए।        
  • बच्चो को साफ़ पानी पीने के लिए दें। बच्चो को फ़िल्टर का पानी या मिनरल वाटर ही पीने के लिए दे, अगर प्यूरीफायर की सुविधा उपलब्ध नहीं है तो पानी को उबाल के रखे और वही पीने को दे।         
  • बच्चो को सुबह खाली पेट लाल पके टमाटर काट कर उसमें सेंधा नमक लगा कर खिलाये चार से पाच दिन लगातार खिलाने से पेट के कीड़े मर जायेंगे और पौटी के रास्ते बहार निकल जायेंगे। 
  • ताजा पुदीने के 15 -20  पत्ते धोकर साफ़ कर ले और फिर उसे मिक्सी में पीस कर उसमे नींबू का रस और चीनी डाल का पुदीने का शरबत बना ले, इसे पीने से पेट की समस्या से जरुर छुटकारा मिलेगा।         
  • बच्चे को सुबह छाछ में काला नमक और काली मिर्च मिलाकर चार से पांच दिन लगातार पिलाये इससे भी  बच्चो के पेट में गैस नहीं बनेगी।         
  • हीग के दो दाने जो राइ के दाने के बराबर हो एक कप पानी में उबाल ले और रात को सोने से पहले बच्चे को पिला दे, ये ध्यान रखें ज्यादा कड़वा भी ना हो इससे भी बच्चे के पेट में बनने वाली गैस से भी आराम मिलेगा 
  • हरण, आवला, अजवाईन, काला नमक, सौफ और हिंग मिलाकर चूरन बनाये अगर बच्चा सात साल से छोटा है तो उसे आधा चम्मच गरम पानी के साथ दे पेट दर्द में राहत मिलेगा।         
  • पेट दर्द में बच्चे को तरल पदार्थ ही खाने में दे जैसे खिचड़ी, दलीया, दही। बच्चे को कोई भी बाहर की चीजे खाने के लिए नहीं दे वरना आगे चलकर ये बड़ी समस्या भी बन सकती है।        

 अगर बच्चे को पेट में कोई रोग हो तो या तकलीफ ज्यादा हो, तो पहले डॉक्टर से परामर्श ले और इलाज करवाए और बच्चे को स्वस्थ रखें।         

 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • 4
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Jul 30, 2018

Mera beta 7 year ka h. wo khana ho ya fir milk, apne s kuchh nh karta. m working woman hu. jab wo school s lautata h, tab mai ghar m nh rhti hu. m 5 o'clock per aa Patti hu. milk peene m usko pet dard ka bahana karta h. subah school keval milk peekar jata h. lunch bh theek s nh karta. koi bh vegetables y dal khud s nh khata. wo ekdam dubla h. i m very worried about him. how can I manage him. Meri ek 3 year 8 month ki beti bh h. wo b school Jane lagi.. plz suggest me how can I manage

  • रिपोर्ट

| Jul 25, 2018

Thank you mam

  • रिपोर्ट

| Jul 25, 2018

thanks

  • रिपोर्ट

| Jul 25, 2018

very nice

  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}