• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
स्वास्थ्य

कोरोना से बचने के लिए आयुष मंत्रालय के इन 5 टिप्स को जरूर आजमाएं

Prasoon Pankaj
गर्भावस्था

Prasoon Pankaj के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Apr 02, 2020

कोरोना से बचने के लिए आयुष मंत्रालय के इन 5 टिप्स को जरूर आजमाएं
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

कोरोना वायरस के संक्रमण के मामलों में लगातार बढ़ोतरी ही हो रही है। हालांकि एहतियात के तौर पर अपने देश में पूरी तरह से लॉकडाउन कर दिए गए है। घर में रहें और सुरक्षित रहें की अपील बार-बार स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से की जाती है। सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण यह है कि आप अभी अपने घर में संतुलित आहार भी  लें व डाइट में कुछ ऐसे खाद्य पदार्थों को जरूर शामिल करें जो आपके व बच्चे की इम्यूनिटी को बढ़ाने में मददगार साबित हो सकते हैं। भारत सरकार की आयुष मंत्रालय ने कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए कुछ खास उपायों को बताया है। तो चलिए आज इस ब्लॉग में हम आपको कुछ वैसे उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं जो आपके परिवार की इम्यूनिटा को बढ़ाने में मदद करेंगे।
 

कोरोना से बचाव के लिए आयुष मंत्रालय ने इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए उपाय बताए / Things that can help to boost your immune system during the coronavirus outbreak In Hindi

हमें पता है कि आप लॉकडाउन के नियमों का पूरी तरह से पालन कर रहे हैं। आप निश्चित रूप से अपने घर की स्वच्छता और साफ-सफाई का भी पूरा ध्यान रख रहे होंगे। लेकिन बावजूद इसके आपको आयुष मंत्रालय की तरफ से जारी किए गए इन उपायों को अमल में लाना चाहिए लेकिन इसके साथ ही हम आपको बता दें कि आयुष मंत्रालय ने ये भी साफ कर दिया है कि ये उपाय सिर्फ औऱ सिर्फ बचाव के लिए हैं ना कि इलाज के लिए। 

  1. आयुष मंत्रालय के मुताबिक प्रतिदिन सुबह 1 चम्मच घर में बना हुआ च्यवनप्राश, तुलसी, दालचीनी, सौंठ और मुनक्का से बना काढ़ा दिन में करीब 2 बार पी लें। अगर आपको आवश्यकता लगे तो आप इसमें नींबू का रस भी मिला सकते हैं। इससे आपके शरीर की इम्यूनिटी पावर में इजाफा होगा।

  2. आयुष मंत्रालय ने इसके अलावा एक और घरेलू नुस्खा को आजमाने की सलाह दी है। आप अपने मुंह में 1 चम्मच तिल या नारियल का तेल लें। इसकी पीना नहीं है बल्कि उसको 2 से 3 मिनट तक अपने मुंह में रखें और फिर उसको बाहर निकालकर गर्म पानी ने कुल्ला कर लें। इस उपाय को आप दिन में 1-2 बार कर सकती हैं।

  3. अगर किसी को अभी सूखी खांसी और गले में खराश महसूस हो तो उसके लिए भी आयुष मंत्रालय की तरफ से उपाय बताए गए हैं। आप ताज़े पुदीना के पत्ते या अजवाइन के साथ दिन में एक बार भाप लें  इसके अलावा अगर आपको अगर गले में जलन लगे तो लौंग पाउडर को गुड़ या शहद के साथ मिलाकर दिन में 2 से 3 बार लिया जा सकता है।

आयुष मंत्रालय के मुताबिक कोरोना के खतरे से बचने के लिए ये सबसे ज्यादा जरूरी है कि आप अपने इम्यूनिटी को मजबूत करें। आयुष मंत्रालय ने कई प्रसिद्ध वैद्यों की सलाह के बाद इन उपायों को जारी किया है। कोयंबटूर के पद्मश्री वैद्य पी आर कृष्णाकुमार, कोट्टाकल के वैद्य पीएम वारियर, दिल्ली के पद्मभूषण वैद्य पी आर कृष्ण कुमार समेत कई वैद्यों के पैनलों ने मिलकर कोरोना से बचाव के लिए इन उपायों को आजमाने की सलाह दी है।

अब घर बैठे ही आप कर सकते हैं कोरोना लक्षणों की जांच, यहां लिंक पर क्लिक करें और सेल्फ एसेसमेंट टेस्ट लेकर जान लें कि आप कितने सुरक्षित हैं:-  bit.ly/Covid-19-test

लॉकडाउन के तनाव को कम करने में कौन-कौन से योग मददगार / Beat Coronavirus Lockdown Stress And Anxiety in Hindi

लॉकडाउन के दौरान लगातार घर पर रहने व अपने कमरे में लगातार बैठ कर काम करने की वजह से कई लोगों को कुछ शारीरिक व मानसिक समस्याओं का भी सामना करना पड़ रहा है। आयुष मंत्रालय ने कुछ खास योग को करने का सुझाव दिया है जिनसे अभी के समय में आपको काफी आराम मिल सकता है।

  • पद्म हस्तासन आपके शरीर की मांसपेशियों को लचीला बनाए रखने में मदद करता है। इसके अलावा पाचन से संबंधित समस्या को भी दूर करता है। महिलाओं को पीरियड के दौरान होने वाली समस्याओं में भी ये योग काफी मददगार साबित हो सकता है।

  • ताड़ासन- यह आसन तभी करें जब आप खाली पेट हों। फर्श पर एकदम सीधे खड़े होकर दोनों पैरों के बीच थोड़ी दूरी बनाए रखें। सांस लेते हए अपने दोनों हाथों को ऊपर उठाएं औऱ हाथों की उंगलियों को आपस में बांध लें। इसके बाद आपको अपने पैरों की एड़ियों को ऊपर उठाना है और यूं समझ लीजिए की अपने पैर की उंगलियों की मदद से ही आपको खड़ा होना है। सांस लेते रहें और कुछ देर इस मुद्रा में खड़े रहें। उसके बाद फिर सांस को छोड़ते हुए विश्राम की मुद्रा में वापस आ जाएं। इस प्रक्रिया को आप 10-12 बार दोहरा सकती हैं। जिन महिलाओं का पीरियड अनियमित होता है उनके लिए ये काफी फायदेमंद हो सकता है। पाचन औऱ श्वसन संबंधी समस्याओं में भी आराम मिलता है। गर्भावस्था के दौरान यह आसन नहीं करें बल्कि हमारी सलाह तो ये है कि प्रेग्नेंसी के दौरान आपको किसी प्रकार का योग करने से पहले एक्सपर्ट की सलाह अवश्य लेनी चाहिए।

  • कपालभाति, भ्रामरी प्राणायाम जैसे योग को करने से भी मानसिक शांति मिलती है व एकाग्रता बढ़ाने में सहयोग मिलता है। इसके अलाव ध्यान व मेडिटेशन करने से भी फायदा मिलेगा।

आयुष मंत्रालय के द्वारा बताए गए सामान्य उपाय

– दिन भर गर्म पानी का सेवन करते रहें
– प्रतिदिन कम से कम 30 मिनट घर में ही योगासन, प्राणायाम और ध्‍यान का अभ्यास करने का रूटीन बना लें
– खाना पकाने में हल्दी, जीरा, धनिया और लहसुन जैसे मसालों का इस्तेमाल करें

– तुलसी, दालचीनी, कालीमिर्च, सौंठ और मुनक्‍का से बना काढ़ा/ हर्बल टी दिन में एक या दो बार लें. जरूरी लगे तो स्वाद के अनुसार गुड़ या ताजा नींबू का रस मिलाएं.
– हर दिन सुबह 1 चम्‍मच यानी 10 ग्राम च्यवनप्राश लें। जो लोग डायबिटीज से पीड़ित हैं वे  शुगर फ्री च्यवनप्राश ले सकते हैं।
– 150 ml गर्म दूध में आधी चम्मच हल्दी पाउडर- दिन में एक या दो बार लें

– सुबह और शाम को नाक में तिल का तेल/ नारियल का तेल या घी लगाएं
–  1 चम्‍मच तिल या नारियल का तेल मुंह में लें. उसे पियें नहीं. 2 से 3 मिनट तक मुंह में घुमाएं और थूक दें. उसके बाद गर्म पानी से कुल्ला करें. ऐसा दिन में एक या दो बार किया जा सकता है.

– ताजे पुदीना के पत्तों या अजवाईन के साथ दिन में एक बार भाप लें.

– खांसी या गले में जलन होने पर लौंग पाउडर को गुड़ या शहद के साथ मिलाकर दिन में 2 से 3 बार लिया जा सकता है.

हालांकि हमारी सलाह ये है कि किसी भी योग को करने से पहले आप अपने एक्सपर्ट की सलाह अवश्य लें। बहुत सारे योग ऐसे भी होते हैं जो आपको कुछ बीमारियों के दौरान नहीं करना चाहिए। लॉकडाउन के इस समय का सदुपयोग करें और कुछ सकारात्मक व रचनात्मक कार्यों में मन लगाने का प्रयास करें।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • 2
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.

| May 04, 2020

Mukeshkumar

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Jun 06, 2020

वय,

  • Reply
  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें

टॉप स्वास्थ्य ब्लॉग

Sadhna Jaiswal

आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट

गर्भावस्था

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}