• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
बाल मनोविज्ञान और व्यवहार

बुलिंग से परेशान बच्चे का वीडियो वायरल, जानिए क्या हैं Bullying के लक्षण व बचाव के उपाय

Prasoon Pankaj
3 से 7 वर्ष

Prasoon Pankaj के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Feb 24, 2020

बुलिंग से परेशान बच्चे का वीडियो वायरल जानिए क्या हैं Bullying के लक्षण व बचाव के उपाय
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

क्या आपका बच्चा स्कूल या क्लासरूम में बुलिंग( Bullying) का शिकार हो रहा है? या फिर कहीं आपका ही बच्चा अपने किसी साथी को बुलिंग यानि सता रहा है? इन दोनों ही परिस्थितियों के लिए आपको अपने बच्चे पर खास निगरानी रखने की आवश्यकता है। ऑस्ट्रेलिया की रहने वाली एक मां यारक्का बेयल्स ने 9 साल के अपने बच्चे क्वाडेन बेयल्स का वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया है। इस वीडियो को देखकर आप अंदाजा लगा सकते हैं कि स्कूल या अन्य किसी जगहों पर बच्चे के साथ बुलिंग कितना खतरनाकर हो सकता है। 9 साल का ये बच्चा वीडियो में फूट-फूटकर रोते हुए अपने मां से खुदकुशी करने की बात को बार-बार दोहरा रहा है।  

बुलिंग की वजह से खुदकुशी करना चाहता है 9 साल का  बच्चा/Why Child Bullying is Dangerous in Hindi

दरअसल 9 साल का क्वाडेन बेयल्स का कद आम बच्चों के मुकाबले कम है। क्वाडेन के बौनेपन को लेकर उसके साथ पढ़ने वाले अन्य बच्चों ने इतना चिढ़ाया और परेशान किया कि वो रो-रोकर अपनी मां से मर जाने की बात करने लगा। अब जरा सोचिए कि उस मां पर क्या बीत रही होगी जिसका बच्चा स्कूल में बुलिंग से परेशान होकर खुदकुशी करने की बात कर रहा है। लेकिन क्वाडेन की मां यारक्का बेयल्स ने सूझबूझ से काम लेते हुए कुछ ऐसा किया कि अब दुनियाभर के लोग छोटे बच्चों की बुलिंग की समस्या को लेकर गंभीरतापूर्वक सोचने के लिए मजबूर हो गए हैं। यारक्का बेयल्स ने रोते हुए अपने बच्चे के वीडियो को मोबाइल में कैद किया और इसको सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया। इस वीडियो में पैरेंट्स होने के नाते मां यारक्का बेयल्स ने अपनी भावनाओं को भी अभिव्यक्त करते हुए कहा है कि मैं चाहती हूं कि लोग यह जाने कि फैमिली होने के नाते बुलिंग कितना कष्टदायक  है। सोशल मीडिया पर यह वीडियो बड़ी तेजी के साथ वायरल हो रहा है और करोड़ से ज्यादा लोग अब तक इसको देख चुके हैं और क्वाडेन के समर्थन में खड़े हो रहे हैं। ऑस्ट्रेलियाई एक्टर ह्यूज जैकमैन, मशहूर बॉस्केटबॉल प्लेयर एनस कांटर ने भी इस वीडयो को शेयर करते हुए बुलिंग को रोकने की बात कही है।

कैसे नोटिस करें कि बच्चा बुलिंग का शिकार हो रहा है? / Warning Signs for Child Bullying in Hindi

यह सबसे ज्यादा जरूरी और महत्वपूर्ण है कि आप कैसे समझें कि आपका बच्चा बुलिंग का शिकार हो रहा है क्योंकि मुमकिन है कि कई बार आपका बच्चा आपसे इसके बारे में शेयर नहीं कर पाए। अगर आप अपने बच्चे में इन लक्षणों को नोटिस करतें हैं तो आपको सतर्क हो जाना चाहिए...

  • अगर आप देख रहे हैं कि स्कूल से आने के बाद बच्चे के व्यवहार में पहले के मुकाबले ज्यादा बदलाव नजर आ रहा है।

  • अगर आप देखते हैं कि बच्चे के शरीर पर कटे-फटे का चिन्ह है

  •  बच्चा ज्यादा चिंतित या परेशान नजर आ रहा है

  • पहले के मुकाबले बच्चे के खाने-पीने की आदतों में परिवर्तन है या समय पर खाना नहीं चाह रहा है

  • पर्याप्त नींद नहीं ले पा रहा है

  • स्कूल जाने में अब आनाकानी करने लगा है

  • रोता या ज्यादा चिल्लाता है

  • पेट दर्द या सिरदर्द का बहाना बनाकर स्कूल नहीं जाना चाह रहा है

  • कुछ परिस्थितियों में बुलिंग के शिकार बच्चे बिस्तर पर पेशाब करने लगते हैं

  • पहले बच्चे को जो काम करने में आनंद आता था, अब वो काम चाहे कोई खेल ही क्यों ना हो उसमें रूचि नहीं दिखा रहा है

बुलिंग की समस्या से पीड़ित बच्चे की किस तरीके से मदद की जाए? / How to Prevent Bullying in Hindi

अगर आप अपने बच्चे में बुलिंग से पीड़ित लक्षणों को महसूस करते हैं तो सबसे पहले आप इन उपायों की मदद लें। नीचे पढ़ें...

  1. बच्चे की बातों को सुनें - सबसे पहले आवश्यकता इस बात की है आप अपने बच्चे की बातों को गौर से सुनें, आपका बच्चा जो कुछ भी कहना चाह रहा है उसको कहने दें और हां, इस दौरान आप किसी प्रकार की प्रतिक्रिया ना दें और ना ही उसको दोषी ठहराएं। त्वरित फैसला ना सुनाएं या आप उसको ये ना कह दें कि तुम्हें ऐसे लोगों से हैंडल करने में सक्षम ही नहीं हो। अगर आप इस तरह की बात करेंगे तो बच्चा और ज्यादा चिंतित हो सकता है।

  2. बच्चे को यह भरोसा दिलाएं - आप अपने बच्चे को यह भरोसा दिलाएं कि आप उसके साथ मजबूती के संग खड़े हैं। उसको यह विश्वास दिलाएं कि आप अपने बच्चे के साथ बहुत प्यार करते हैं और जब तक यह समस्या समाप्त नहीं हो जाता है तब तक आप उसका समर्थन करते रहेंगे। आपके ऐसा कहने से बच्चे का आत्मविश्वास और बढ़ सकता है।

  3. समस्या का हल क्या - आप यह विचार करें कि इस समस्या का हल क्या हो सकता है लेकिन इसके साथ ही यह भी जान लें कि जो बच्चे तंग कर रहे हैं उनके परिवार वालों से वाद-विवाद करना बिल्कुल ही समाधान नहीं है।

  4. टीचर या गाइडेंस काउंसलर से चर्चा करें - आप इस विषय को स्कूल के संज्ञान में दें, इस समस्या के बारे में स्कूल प्रशासन, विश्वस्त टीचर या गाइडेंस काउंसलर से चर्चा कर सकते हैं। भविष्य में होने वाली किसी भी समस्या से बचने के लिए आप इसको सूझबूझ से काम लेते हुए हल करने का प्रयास करें।

  5. बच्चे को बेहतर महसूस कराएं - आप उस तरह की गतिविधियों को चुनें जिसमें आपका बच्चा बेहतर कर रहा है और उसके बाद आप उसके अंदर के मजबूत पक्ष के बारे में उजागर करें। यह आपके बच्चे को बेहतर महसूस कराएगा और फिर उसका आत्मविश्वास प्रबल बनेगा।

  6. बच्चे का विश्वास में लें - आप अपने बच्चे को यह भरोसा दिलाएं कि इसमें उसका कोई कसूर नहीं। आप उसको यह समझाएं कि जो आपको सता रहा है वह बुरा व्यवहार कर रहा है इसमें आपकी कोई गल्ती नहीं।

  7. बच्चे को अपसेड ना होने से बचाये - आप अपने बच्चे को ये कहें कि जो आपको तंग कर रहा है उसकी बातों पर किसी प्रकार का रिएक्शन देने से परहेज करें। जैसे कि बुलिंग करने वालों की बातों को सुनकर अपसेड ना होएं, गुस्साएं नहीं या रोए नहीं। आप अपने बच्चे को मजबूती के साथ ना कहना सीखाएं और इसके साथ ही अन्य बच्चों को भी मना कर दें कि कुछ ऐसा ना करें जिससे किसी का दिल दुखे।

  8. पास में से मदद लेने के लिए प्रोत्साहित करें - आप अपने बच्चे को झगड़ा करने से मना करें या फिर पलटकर बुलिंग करने से भी मना कर दें क्योंकि यह भावना हिंसा करने को प्रेरित कर सकता है। इससे बेहतर यही होगा कि आप बुलिंग करने वाले को भी किसी टीचर या अपने पड़ोसी की मदद लेकर समझाएं ।

  9. मिलना जुलना न छोड़ें - आप अपने बच्चे को ये भी समझाएं कि स्कूल स्किप करना या दोस्तों से मिलना जुलना छोड़ देना सही विचार नहीं है। आप अपने बच्चे को यह समझाएं कि उसको भी उन सभी जगहों पर जाने का पूरा अधिकार है जहां उसके साथी मौजूद हैं।

  10. सही काम करने के लिए प्रेरित करें - आप अपने बच्चे को सही काम करने के लिए प्रेरित करें और स्कूल में अन्य अच्छे मित्रों के साथ रहने के लिए सुझाव दें जो उसकी भावनाओं का ख्याल रखते हैं।

 

हम सभी को इस समस्या के खिलाफ आवाज उठानी चाहिए, बुलिंग की समस्या से बच्चों को कैसे बचाया जाए इसको लेकर अगर आपके पास कोई सुझाव हों तो हमें जरूर कमेंट करें।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

https://www.washingtonpost.com/lifestyle/2020/02/21/quaden-bayles-bullying-gofundme/

stopbullying.gov › prevention › How to Prevent Bullying - Stop Bullying

  • 2
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Feb 27, 2020

Hi Rakhi, aapne ekdum sahi kaha hai.

  • रिपोर्ट

| Feb 27, 2020

Hame apne bachcho ko bachpan se hi ye sikha dena chahiye ki jo jesa he use vesa hi accept kare or kisi ki bhi psychical ability ya disability ka majak na udaye.

  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें

टॉप बाल मनोविज्ञान और व्यवहार ब्लॉग

Deepak Pratihast
मॉमबेस्डर
आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट
आज का पैरेंटून
पैरेंटिंग के गुदगुदाने वाले पल

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}