• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
पेरेंटिंग शिक्षण और प्रशिक्षण

CBSE Circular पहली व दूसरी क्लास के बच्चों के स्कूल होमवर्क के लिए

Prasoon Pankaj
3 से 7 वर्ष

Prasoon Pankaj के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Nov 30, 2018

CBSE Circular पहली व दूसरी क्लास के बच्चों के स्कूल होमवर्क के लिए
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

माता-पिता होने के नाते अपने बच्चे को समय पर स्कूल भेजना आपकी प्राथमिकताओं में से एक होगा। आपके लिए वो दिन हमेशा यादगार रहेगा जिस दिन आपका बच्चा पहली बार स्कूल में दाखिल हुआ होगा। स्कूल को जीवन के एक अहम पड़ाव के रूप में जाना जाता है। बदलते वक्त के साथ-साथ स्कूलों में भी नित्य नए प्रयोग किए जा रहे हैं ताकि छोटे बच्चों को स्कूल जाना कहीं से भी बोझ ना लगे और अब इसी कड़ी में बच्चों के स्ट्रेस को दूर करने और खुशनुमा माहौल में पढ़ाई कराने के लिए सीबीएसई बोर्ड ने भी एक अच्छी पहल की है। तो आइये जानते हैं CBSE बोर्ड के इस New Circulr के बारे में जो स्कूलों को जारी किया गया है । इसे भी पढ़ें: बच्चों के बैग्स और बुक्स के वजन सम्बंधित सरकार की नई गाइडलाइन

CBSE यानि सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन ने छोटे बच्चों को स्ट्रेस-फ्री करने के लिए एक सर्कुलर को दोबारा सभी स्कूलों को भेजा है। 23 दिसंबर 2005 के इस सर्कुलर में छोटे बच्चों के लिए सभी स्कूलों को निर्देश दिए गए थे और अब इसको गंभीरता से लागू करने के लिए सभी सीबीएसई-संबद्ध स्कूलों को भेजा है। CBSE के इस सर्कुलर के मुताबिक सभी प्रिंसिपल को कुछ आदेश दिए गए हैं जिनका स्कूलों में पालन करना अनिवार्य होगा। 

CBSE के सर्कुलर से जुड़ी खास बातें/ What is CBSE's New Circular for Session 2018-19 in Hindi ?

CBSE के इस नए Notification सर्कुलर के मुताबिक, अब स्कूल् को इन नए नियमों का पालन करना आवश्यक होगा ! जाने क्या हैं नए नियम ...

  • अब पहली और दूसरी कक्षा में बच्चों को फेल नहीं किया जा सकता है।
     
  • पहली और दूसरी कक्षा में पढ़ने वाले बच्चे अपनी किताबें स्कूल में ही छोड़ सकते हैं, सभी स्कूलों में ऐसी सुविधाएं होनी चाहिए
     
  • तीसरी से पांचवी कक्षा के बच्चों को होमवर्क की बजाय अन्य विकल्पों पर ध्यान देना चाहिए
     
  • पहली क्लास से लेकर पांचवी क्लास के बच्चों के लिए लगातार और व्यापक मूल्यांकन का परिचय कराया जाए
     
  • बच्चों को कक्षा लाइब्रेरी के बारे में भी बताया जाना चाहिए
     
  • बच्चों की रिपोर्टिंग में स्कूल में हासिल की गई उपलब्धियों को भी शामिल किया जाना चाहिए
     
  • पांच प्वाइंट का ग्रेडिंग सिस्टम होना चाहिए
     
  • प्राइमरी लेवल पर ही बच्चों को डांस, म्यूजिक और कला जैसे विषयों से परिचित कराया जाना चाहिए ताकि उनकी रूचि को विकसित किया जा सके
     
  • पहली और दूसरी कक्षा के बच्चों के लिए भले पास-फेल का सिस्टम हटा दिया गया है लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि कोर्स को जारी रखने के लिए कोई एग्जाम नहीं कराया जाए
     
  • बच्चों के सीखने की प्रक्रिया को तनावपूर्ण बनने से रोकने के लिए हरसंभव प्रयास किए जाएं

CBSE के मुताबिक कई स्कूल इन निर्देशों का अच्छे से पालन नहीं कर रहीं हैं और अब सभी स्कूलों को इन दिशा-निर्देशों का पालन करना अनिवार्य है। ये तो बात स्कूल की हो गई लेकिन माता-पिता होने के नाते आपको भी ध्यान देने की जरूरत है कि आप अपने बच्चे पर पढ़ाई के लिए दबाव ना डालें।

बच्चों पर पढ़ाई का दबाव बनाने से बेहतर है कि आप ये उपाय आजमाएं। Smart Tips For Children To Study In Hindi

बच्चों पर किसी भी बात के लिए दबाव नहीं बनाना चाहिए और खास करके पढ़ाई के लिए तो बिल्कुल नहीं।

  • बच्चों पर पढाई का दबाव बनाने से उन पर नकारात्मक असर पड़ता है। अगर उनपर किसी तरह का प्रेशर बनाया गया तो संभव है कि वे पढ़ाई को बोरिंग मान लें।
     
  • आप अपने बच्चे के साथ बैठकर उनको खेल-खेल में मनोरंजन करते हुए पढ़ाने का प्रयास करें
     
  • बच्चे को चैप्टर रटवाने की बजाय पहले लॉजिक के साथ विषय-वस्तु को समझाने का प्रयास करें। अगर बच्चे को समझ में आ गई तो फिर ये उनको खुद-ब-खुद याद हो जाएगा
     
  • बच्चे को जब कभी पढ़ाने बैठें तो उनको ज्यादा से ज्यादा उदाहरण देकर समझाएं
     
  • बच्चे को कोई भी बात समझानी हो तो आसान भाषा में समझाएं

घर-परिवार का माहौल जितना खुशनुमा बनाए रखेंगे आपके बच्चे की पढ़ाई के प्रति उतनी ज्यादा जिज्ञासा बनी रहेगी।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • 21
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Feb 21, 2019

very nice bhut acchi baat batayi apne aise hi hame jankari dete rhe. thanks

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Feb 22, 2019

thank u

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Mar 06, 2019

thanks ji

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Apr 03, 2019

My baby dont want to go kindergarten. What should i do

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Apr 04, 2019

Very nice

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Apr 04, 2019

Bahut acha desigion aur sujhav diye Thanks

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Apr 04, 2019

Thanx for information.

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Apr 05, 2019

Very good

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Apr 07, 2019

Very good

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Apr 07, 2019

Very good

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Apr 21, 2019

👌👍

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Apr 22, 2019

Good

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Apr 22, 2019

Very nice 😊😊😊

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Apr 24, 2019

Good

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Apr 27, 2019

Very nice and good knowledge

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Apr 30, 2019

🖐

  • Reply
  • रिपोर्ट

| May 02, 2019

G00d

  • Reply
  • रिपोर्ट

| May 02, 2019

Well said

  • Reply
  • रिपोर्ट

| May 07, 2019

Good

  • Reply
  • रिपोर्ट

| May 07, 2019

Good

  • Reply
  • रिपोर्ट

| May 08, 2019

Good

  • Reply
  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
Sadhna Jaiswal

आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट

गर्भावस्था

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}