• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
स्वास्थ्य

ठंड में क्यों जरूरी होता है बच्चों को च्यवनप्राश खिलाना

Prasoon Pankaj
3 से 7 वर्ष

Prasoon Pankaj के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Dec 15, 2019

ठंड में क्यों जरूरी होता है बच्चों को च्यवनप्राश खिलाना
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

च्यवनप्राश का इस्तेमाल सेहत के लिए काफी गुणकारी है इस बात से आप भी वाकिफ होंगे, लेकिन सर्दी के मौसम में च्यवनप्राश का सेवन बहुत लाभदायक होता है। यह आपको कई बीमारियों से दूर रखता है और साथ ही शरीर को अंदर से मजबूत बनाता है। इसके सेवन का फायदा ना सिर्फ बड़ो बल्कि बच्चों को भी खूब मिलता है। अगर आप पैरेंट्स हैं और चाहते हैं कि ठंड में आपका बच्चा स्वस्थ व तंदरुस्त रहे, तो उसे च्यवनप्राश जरूर खिलाएं।
 

क्या होता है च्यवनप्राश में

आयुर्वेद में च्यवनप्राश का काफी महत्व बताया गया है। यह 40-50 घटकों से तैयार होता है, लेकिन इसका मुख्य घटक आंवला है। आंवले में विटामिन सी होता है। च्यवनप्राश में औषधीय महत्व वाली करीब 36 तरह की जड़ी बूटियां होती हैं। केशर, नागकेशर, पिप्पली, छोटी इलायची, दालचीनी, बन्सलोचन, शहद और तेजपत्ता, पाटला, अरणी, गंभारी, विल्व और श्योनक की छाल, नागमोथा, पुष्करमूल, कमल गट्टा, सफेद मूसली सहित कई अन्य वनस्पतियां मिलाकर च्यवनप्राश तैयार किया जाता है।
 

ठंड में च्यवनप्राश के फायदे

  1. ठंड में च्यवनप्राश खाने से शरीर में गर्माहट आती है और यह ठंड के दुष्प्रभावों से बचाता है। इसके अलावा इसे लेने से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। ऐसे में इसे बच्चे को देना काफी लाभकारी है।
  2. इसके सेवन से बच्चों में कब्ज की समस्या नहीं रहती।
  3. च्यवनप्राश खाने से बच्चे के शरीर में खाना अच्छे से पचता है। पाचन तंत्र ठी रहने के अलावा भूख भी ठीक लगती है।
  4. सर्दी, खांसी होने पर अगर बच्चे को च्यवनप्राश दिया जाए, तो ये काफी कारगर साबित होता है। सुबह-शाम इसे लेने से सर्दी-खांसी ठीक हो जाती है।
  5. ठंड में च्यवनप्राश के सेवन से बच्चों में अंदरूनी शक्ति आती है। इसके अलावा उनका दिमाग भी सक्रिय व तेज होता है।
  6. बच्चों में अक्सर कफ की समस्या बनी रहती है। च्यवनप्राश कफ के विकार दूर करने के लिए एक बेहतर औषधीय है। ऐसे में इसे खाने से बच्चे की कफ की समस्या खत्म हो जाती है।

च्यवनप्राश लेने से शरीर के आंतरिक अंगों की सफाई भी होती है। इससे हानिकारक तत्व बाहर निकल जाते हैं। इसके अलावा यह रक्त प्रवाह को भी नियंत्रित रखता है।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • 5
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Jan 09, 2018

Mera beta 3 sal ka ho jayega 25 th March ko. Kya ham use chyavanprash khila sakte hai???

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Dec 11, 2019

Kaun se brand ka de sakte mera beta 6:year k ahua

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Dec 16, 2019

Aaj kal market me Bohot se chaywanpraase hai konsa Dena baccho k liye sahi hoga

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Dec 16, 2019

kitne age ke baad bacho ko chawanprash de skate h

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Dec 17, 2019

किस उम्र के बच्चे को चवनप्राश खिला सकते है

  • Reply
  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
Sadhna Jaiswal

आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट

गर्भावस्था

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}