• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
स्वास्थ्य

2 साल के बच्चे को कोविड वैक्सीन मुहैया कराने वाला देश बना क्यूबा

Prasoon Pankaj
0 से 1 वर्ष

Prasoon Pankaj के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Sep 08, 2021

2 साल के बच्चे को कोविड वैक्सीन मुहैया कराने वाला देश बना क्यूबा
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

कोरोना महामारी के खिलाफ वैक्सीनेशन को एक सटीक हथियार माना जा रहा है। कोरोना की संभावित तीसरी लहर के खतरे को देखते हुए अधिकांश एक्सपर्ट्स के द्वारा सबसे ज्यादा सावधानियां बच्चों को लेकर रखने की बात कही जा रही है। अपने देश में अब तक बच्चों के लिए वैक्सीनेशन (Kids Vaccine) कार्यक्रम की शुरुआत नहीं की गई है लेकिन इसके अलावा कई और अन्य देशों में 12 साल से अधिक उम्र के बच्चों के लिए टीकाकरण कार्यक्रम चल रहे हैं। इस मामले में सभी देशों को पीछे छोड़ते हुए क्यूबा दुनिया का पहला ऐसा देश बन गया है जिसने 2 साल की उम्र के बच्चों को कोविड 19 के खिलाफ वैक्सीनेशन की शुरुआत कर दी है। क्यूबा ने स्कूलों को फिर से खोलने से पहले देश के सभी बच्चों को टीका लगाने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

  • क्यूबा की सरकार ने घोषणा की है कि अक्टूबर-नवंबर में स्कूल धीरे-धीरे करके खोले जाएंगे लेकिन सभी बच्चों के टीकाकरण करने के बाद ही।

  • क्यूबा ने अब्दाला और सोबराना टीको का बच्चों पर सफल परीक्षण पूरा करने के बाद शुक्रवार से सभी बच्चों के लिए वैक्सीनेशन कार्यक्रम की शुरुआत कर दी है।

  • पहले वैक्सीनेशन 12 साल से अधिक उम्र के बच्चों के लिए की गई लेकिन क्यूबा के सेंट्रल प्रांत सिएनफ्यूगोस में 2 साल से 11 साल के बच्चों के आयु वर्ग में जैब्स बांटना शुरू कर दिया है।

  •  जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया कि कई और अन्य देशों में 12 साल की उम्र के बच्चों का टीकाकरण जारी है। चीन, UAE, वेनेजुएला जैसे अन्य देशों ने ऐलान किया है कि वे बहुत जल्द 12 साल से कम उम्र के बच्चों का वैक्सीनेशन शुरू करने वाले हैं वहीं दूसरी तरफ चिली ने 6 साल से 12 साल के बच्चों के लिए सिनोवैक टीके को मंजूरी दे दी है।

  • क्यूबा में जो टीके लगाए जा रहे हैं वे लैटिन अमेरिका में विकसित किए गए हैं और अभी उनको अंतरराष्ट्रीय स्तर पर वैज्ञानिक तरीके से समीक्षा नहीं की गई हैं।ये टीके संयोजक प्रोटीन प्रौद्योगिकी पर आधारित हैं और  अमेरिका की नोवावैक्स और फ्रांस के सनोफी टीकों को भी इस तरीके से ही तैयार किया गया है और ये सभी टीके अभी WHO से मंजूरी पाने के लिए प्रतीक्षारत हैं।

  • कुल मिलाकर ये कहा जा सकता है कि क्यूबा ने साफ कर दिया है कि जब तक बच्चों के लिए वैक्सीनेशन नहीं तब तक स्कूल नहीं।

भारत में बच्चों के लिए वैक्सीनेशन कब तक शुरू हो सकते हैं?

अब तक मिल रही जानकारियों के मुताबिक अक्टूबर के पहले सप्ताह से अपने देश में 12 साल से अधिक उम्र के बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीनेशन के कार्यक्रम की शुरुआत हो सकती है। कोविड टीकाकरण पर राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह के चेयरमैन प्रो. नरेंद्र अरोड़ा ने जानकारी देते हुए बताया है कि अक्टूबर से दिसंबर तक जायडस कैडिला की जायको-डी वैक्सीन की 3 से 5 करोड़ डोज मिलेंगी।

प्रोफेसर नरेंद्र अरोड़ा ने जानकारी देते हुए कहा है कि इस वैक्सीन की तीन डोज लगनी है, और जाहिर है कि तैयारी भी उसके मुताबिक ही करनी होगी। वैक्सीनेशन कार्यक्रम को शुरू करने को लेकर प्रो. अरोड़ा ने कहा, यदि पहले बैच में एक करोड़ डोज आती है, तो पहले फेज में 33 लाख से ज्यादा बच्चों का पंजीकरण नहीं करना चाहिए। ये तय करना आवश्यक है कि जिन्हें पहली डोज लगे उन्हें 28वें दिन दूसरी और 56वें दिन तीसरी डोज भी लग सके। प्रो. नरेंद्र अरोड़ा के मुताबिक अगर बच्चे को वैक्सीन की पहली डोज आज लगी है तो दूसरी डोज 28वें दिन और फिर वैक्सीन की तीसरी डोज 56 वें दिन लग सकती है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने भी जानकारी देते हुए कहा था कि जल्द ही बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीनेशन शुरू होने की उम्मीद है। अभी अपने देश में 18 साल या उससे अधिक उम्र के लोगों के लिए ही कोरोना की वैक्सीन दी जा रही है।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

https://health.economictimes.indiatimes.com/news/policy/in-a-world-first-cuba-to-give-covid-jabs-to-anyone-over-2/86025470

  • कमेंट
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें

टॉप स्वास्थ्य ब्लॉग

Ask your queries to Doctors & Experts

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}