• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
स्वास्थ्य

प्रेग्नेंसी के दौरान कोरोना से संक्रमित होने पर किन उपायों का पालन करें?

Dr Pooja Mittal
गर्भावस्था

Dr Pooja Mittal के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया May 11, 2021

प्रेग्नेंसी के दौरान कोरोना से संक्रमित होने पर किन उपायों का पालन करें
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

आम लोगों की तुलना में गर्भवती महिलाओं को संक्रमण से प्रभावित होने की ज्यादा संभावना नहीं है। हालांकि, गर्भावस्था स्वयं शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली और वायरल संक्रमणों की प्रतिक्रिया को बदल देती है, जो कभी-कभी अधिक गंभीर लक्षणों से संबंधित हो सकती है और COVID-19 के लिए भी ये संभव है। गर्भावस्था में COVID-19 (covid 19 and pregnancy) निमोनिया के रिपोर्ट किए गए मामले हल्के व अच्छी रिकवरी वाले होते हैं।

गर्भावस्था के दौरान कोरोना के जोखिम/ Risks During Pregnancy In Hindi

COVID-19 के साथ महिलाओं में Preterm Birth के कुछ मामले सामने आए हैं  लेकिन ये स्पष्ट नहीं है कि क्या प्रीटर्म बर्थ जन्मप्रेरित था या गर्भवती महिलाएं पहले से ही बीमार थी।

  •  हृदय रोग वाली गर्भवती महिलाओं को सबसे अधिक खतरा होता है (जन्मजात या अधिगृहीत)।
  • कोरोनोवायरस महामारी चिंता और अवसाद का खतरा बढ़ाती है और उसके बारे में अपने डॉक्टर से अवश्य बात करनी चाहिए

 क्या गर्भावस्था के दौरान मां के संक्रमित होने से शिशु भी संक्रमित हो सकता है?

गर्भावस्था के दौरान वायरस बच्चे तक नहीं जाता है,  कोरोना संक्रमण जन्मजात विकृतिओं के खतरे को नहीं बढ़ाता है। हालांकि अब तक बहुत कम ऐसे मामले सामने आए हैं जिनमें कोरोना संक्रमण के बाद गर्भवती हुए हैं। गर्भधारण के 4 से 6 सप्ताह में तेज बुखार होने की स्थिति में दिमाग और रीढ़ की विकृतिओं के होने का खतरा बढ़ जाता है। शोध के मुताबिक 1000 महिलाओं में से किसी 2 के साथ ऐसा हो सकता है लेकिन ये खतरा किसी भी प्रकार के तेज बुखार होने पर हो सकता है औऱ ये जरूरी नहीं कि कोरोना की स्थिति में ही ऐसा हो। प्रेग्नेंसी के दौरान अल्ट्रासाउंड से इस तरह की विकृतियों का पता किया जा सकता है।  

कोरोना संक्रमित होने की स्थिति में प्रसव के दौरान ऑक्सीजन की कमी होने पर बच्चे को भी समस्या हो सकती है। इन हालातों में प्रसव किसी हॉस्पीटल में ही कराएं क्योंकि वहां आपकी अच्छे से देखभाल हो सकती है। इसके साथ ही हम आपको ये बता दें कि सिर्फ कोरोना संक्रमित होने के चलते ही सीजेरियन की आवश्यकता नहीं है। कुछ इस तरह के रिसर्च भी सामने आए हैं जिनमें कोरोना संक्रमण के चलते शिशु का विकास अवरुद्ध हो सकता है इसलिए ये बहुत आवश्यक है कि संक्रमण होने के 2 से 4 सप्ताह तक अल्ट्रासाउंड जरूर करवाएं। वर्तमान में, योनि स्राव के COVID- 19 के लिए सकारात्मक परीक्षण किए जाने के कोई दर्ज मामले नहीं हैं। इसके अलावा वर्तमान में, COVID-19 के लिए स्तन के दूध के परीक्षण के सकारात्मक होने के कोई दर्ज मामले नहीं हैं।

 

गर्भावस्था में संक्रमित होने पर शिशु पर प्रभाव

  • वर्तमान में COVID-19 के संबंध में गर्भपात या गर्भावस्था के प्रारंभिक जोखिम में वृद्धि का कोई संकेत नहीं है।
  • वर्तमान में कोई सबूत नहीं है कि वायरस बच्चे में जन्म दोष का कारण बनता है। दीर्घकालिक डेटा प्रतीक्षित है।
  • कोविद - 19 बीमारी गर्भावस्था के नियोजित समाप्ति के लिए संकेत नहीं है।

गर्भवती महिलाओं को निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए

1. अधिकांश गर्भवती महिलाएं मामूली बीमारी विकसित करेंगी जिससे वे अंततः पूरी तरह से ठीक हो जाएंगी।

2. यदि लगातार और गंभीर लक्षण हैं (जैसे कि बुखार 100.4 F से अधिक, लगातार खांसी, सांस फूलना, सांस लेने में तकलीफ), तो यह अधिक गंभीर बीमारी को इंगित करता है जिसके लिए स्वास्थ्य देखभाल सुविधा में विशेष देखभाल की आवश्यकता होती है।

3. जो महिलाएं सकारात्मक परीक्षण करती हैं, उन्हें नवजात और मातृत्व संबंधी जटिलताओं से निपटने के लिए किसी अस्पताल में ही प्रसव होना चाहिए।

यदि गर्भवती महिला कोरोनो वायरस से संक्रमित हो जाती हैं तो क्या करना चाहिए?

प्रेग्नेंसी के दौरान अगर कोरोना वायरस से संक्रमित हो जाएं तो उपचार के दौरान (covid treatment for pregnant ladies) इन उपायों का अवश्य ध्यान रखें।

1. घबराएं नहीं, अपने स्वास्थ्य-देखभाल प्रदाता / क्लिनिक या अस्पताल से तुरंत संपर्क करें।

2. अधिकांश महिलाएं ठीक हो जाएंगी और केवल हल्के लक्षण होंगे। संक्रमित महिलाओं को स्वयं को अलग-थलग करना चाहिए और सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क पहनना, बार-बार हाथ धोना, हैंड सैनिज़र का उपयोग करना जैसे नियमों का पालन करते रहना चाहिए।

3. एक स्वस्थ संतुलित आहार लेना, बहुत सारे तरल पदार्थ पीना महत्वपूर्ण है।

4. दवाइयों और सप्लीमेंट्स और आवश्यक परीक्षणों के बारे में मार्गदर्शन के लिए डॉक्टर के साथ लगातार संपर्क में रहें।

5. गंभीर / लंबे लक्षणों (तेज बुखार, सांस फूलना, गंभीर खांसी) के मामले में, तुरंत अपने डॉक्टर से बात करें, आपको अस्पताल में प्रवेश और अधिक गहन देखभाल और निगरानी की आवश्यकता हो सकती है।

6. COVID-19 के परीक्षण के लिए प्रसूति प्रबंधन में देरी नहीं की गई है

7. नियमित जांच अपने डॉक्टर से कराते रहें।

8. प्रसव योजना गर्भावस्था के संकेत के अनुसार आपके डॉक्टर द्वारा निर्देशित है, इस पर अपने डॉक्टर की सलाह का पालन करें।

9. बच्चे को 14 दिनों के लिए माँ से अलग किया जाता है / या आपके डॉक्टर द्वारा निर्देशित किया जाता है, अगर माँ सकारात्मक है।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • कमेंट
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}