• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
पेरेंटिंग शिशु की देख - रेख

10 माह तक के शिशु का कैसा हो आहार ?

Supriya Jaiswal
0 से 1 वर्ष

Supriya Jaiswal के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Aug 20, 2019

10 माह तक के शिशु का कैसा हो आहार

बच्चो के आहार को लेकर हमें बहुत से लोग सलाह देते है। 6 माह तक बच्चो को सिर्फ माँ दूध या फार्मूला दूध (formula milk) देना ही श्रेष्ठ माना जाता है। 6 माह से पहले ठोस आहार शुरू करने से बच्चे में पाचन और एलर्जी की समस्या हो सकती है। 6 month से पहले बच्चे को पानी तक नहीं देना चाहिए। बाल रोग विशेषज्ञों की राय माने तो 6 महीने से पहले बच्चे को पानी पिलाना खतरनाक हो सकता है।

 

कैसा होना चाहिए शुरूआती 6 महीने तक बच्चे का आहार ?/What Should Be 10 Months Child Diet in Hindi

बच्चों में भोजन पचाने वाले enzyme का बनना 4-से-6 महीने के बाद ही शुरू होता है जो की पाचन के लिए आवश्यक है।जब तक की बच्चे का पाचन तंत्र भोजन पचाने वाले enzyme को बनाना शुरू न कर दे तब तक ठोस आहार ना दें।

  • शिशु को 5 महीने तक सिर्फ मां का दूध या फार्मूला दूध ही पिलाना चाहिए और उसे छोड़कर खाने पीने के सभी पदार्थों से बच्चों को दूर रखें। क्योंकि बच्चे का पाचन तंत्र इस अवस्था तक विकसित हो रहा होता है इसलिए वो हर तरह के आहार को नहीं पचा पाता है। 

  • बच्चे को इस उम्र में किसी भी प्रकार का ठोस आहार बिल्कुल भी न खिलाएं।

 

10 महीने तक के आपके बच्चे का आहार / 10 Months Old Baby Food Chart in Hindi

 

पहले 6 महीने तक बच्चे को क्या ना दें? / Foods You Should Not Feed to Infants in Hindi

शुरुआती 6 महीने में आपको अपने बेबी को कुछ खाद्य पदार्थों को बिल्कुल नहीं देना चाहिए। 

  1. शहद (Honey) - बच्चे को पहले वर्ष के दौरान शहद से दूर रखें, क्योंकि इसमें क्लोस्ट्रीडियम बोटुलिनम नामक बैक्टीरिया पाया जाता है। बड़ो का पाचन तंत्र इस बैक्टीरिया के विकास से लड़ सकता है, लेकिन यह शिशुओं में बोटुलिज्म रोग पैदा कर सकता है। यह एक खतरनाक बीमारी है जिसके कारण बच्चों को निमोनिया भी हो सकता है।
     
  2. गाय का दूध (Cow Milk) - गाय के दूध में प्रोटीन भरपूर होता है जो इस उम्र में बच्चे के लिए पचाना थोड़ा कठिन हो सकता है। यह आपके शिशु के पेट को नुकसान भी पहुंचा सकता है। इसके अलावा, बच्चे को उचित विकास के लिए आयरन और विटामिन ई जैसे पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है, जो गाय के दूध में प्रचुर मात्रा में मौजूद नहीं होता है। यदि बच्चे के लिए मां का दूध कम पड़ रहा है तो आप उसे फार्मूला मिल्क दे सकते हैं।
     
  3. नमक (Salt) - शिशु के गुर्दे इतने विकसित नहीं होते कि नमक जैसी चीजों को पचा सके। इसलिए बच्चों के खाने में नमक का प्रयोग ज्यादा मात्रा में कभी न करें।
     
  4. दम घुटने का खतरा (Suffocation) - कुछ खाने के चीजे ऐसे होते हैं जो पहले वर्ष के लिए हमेशा कम से कम मात्रा में होनी चाहिए, क्योंकि ये उनके विंडपाइप में अटक सकते हैं। इससे बच्चों में घुटन का खतरा बढ़ जाता है। जैसे कि नट्स, सीड्स, पॉपकॉर्न, अंगूर, जेली, कच्ची सब्जियां आदि को हमेशा मसल कर या पीस कर ही बच्चे को खिलाएं।

 

Happy Parenting!

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • 13
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Sep 20, 2019

Mera 10 month ka baby boy hai ushe cow milk jab v pilate hai to o ulti kar deta hai kya khilaye use Please let me

  • रिपोर्ट

| Sep 18, 2019

Thanks

  • रिपोर्ट

| Sep 16, 2019

Nice

  • रिपोर्ट
  • रिपोर्ट

| Sep 07, 2019

vary nice

  • रिपोर्ट

| Sep 06, 2019

Thanks

  • रिपोर्ट

| Sep 06, 2019

Thanks

  • रिपोर्ट

| Sep 06, 2019

thanks

  • रिपोर्ट

| Sep 05, 2019

thnks

  • रिपोर्ट

| Sep 02, 2019

v. nice

  • रिपोर्ट

| Sep 01, 2019

p nice

  • रिपोर्ट

| Aug 30, 2019

nice

  • रिपोर्ट

| Aug 21, 2019

mere bete k chahre par safed dhabbe ho gye h please upay batay

  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें

Always looking for healthy meal ideas for your child?

Get meal plans
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}