पेरेंटिंग स्वास्थ्य

फूड आइटम्स से भी हो सकता है आपके बच्चों को एलर्जी

Sadhna Jaiswal
1 से 3 वर्ष

Sadhna Jaiswal के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Aug 19, 2018

फूड आइटम्स से भी हो सकता है आपके बच्चों को एलर्जी

बच्चो को एलर्जी होने के कई कारण हो सकते हैं जैसे कि यदि आपके परिवार में पहले से किसी को ऐसी समस्या हो तो लेकिन सवाल ये है कि आखिर कैसे पता करे की आपके बच्चे को एलर्जी है या नहीं? वो कौन से खाद्य प्रदार्थ है जिनसे आपके बच्चो को एलर्जी का खतरा हो सकता है? किन लक्षणों से पहचाने अपने बच्चे के एलर्जी को और इससे बचने के लिए क्या करे? बच्चो में एलर्जी किसे कहते है? जब बच्चा कोई भोजन लेता है, तो कुछ स्थितियों में उसका शरीर भी प्रतिक्रिया कर देता है। इस अवस्था में शरीर में हिस्टामइन नाम का रसायन पैदा कर देता है। यह अवस्था एलर्जी कहलाती है। बच्चो का इम्यूनिटी सिस्टम कमजोर होता है इसलिए कभी कभी कुछ खाद्य पादर्थ के लिए बच्चो का शरीर संवेदनशील प्रतिक्रिया देता है।

पता करे की आपके बच्चे को एलर्जी होने की संभावना है या नहीं

-- आमतौर पर यह देखा जाता है की बच्चों से पहले की पीढ़ी में किसी प्रकार की एलर्जी तो नहीं। यदि पहले किसी को एलर्जी हो तो यह अवस्था बच्चे के शरीर में भी आ जाती है। छोटे बच्चों के शरीर में यह जींस उस विशेष भोजन के प्रति तुरंत प्रतिक्रिया करते हैं। परिणामस्वरूप उनके शरीर में भी एलर्जी के लक्षण दिखाई दे जाते हैं।इसलिए इस बात का ध्यान रखें की कुछ नया खाने के बाद शिशु के शरीर में कोई परिवर्तन तो नहीं आता? 


बच्चो में एलर्जी के लिए जाने जाते है यह खाद्य पदार्थ

-- अनाज,अंडे,दूध,मूँगफली,काजू और अखरोट’,  मछ्ली,शैलफिश,तिल, सरसों आदि | यह सभी आहार सामान्य रूप से बच्चों को एलर्जी की परेशानी कर सकते हैं। लेकिन आपके बच्चे को इसके अलावा किसी भी अन्य आहार से एलर्जी हो सकती है। इसलिए आपको बच्चों को खाना खिलाते समय थोड़ा सतर्क रहना होगा। विशेषकर जब आप शिशु के भोजन में कोई नया आहार शामिल कर रहीं हैं। इस स्थिति में विशेषकर एलर्जी के लक्षणों का ध्यान रखें।

ऐसे पहचानें बच्चो में एलर्जी  के लक्षण

- किसी आहार के बाद यदि छोटे बच्चों की त्वचा, सांस या पेट में किसी भी प्रकार की परेशानी होती है तो इसे अनदेखा न करें। यह लक्षण हल्की या तीव्र एलर्जी के हो सकते हैं। इसके अतिरिक्त एलर्जी के लक्षण और भी कई रूप में हो सकते है ,होंठों पर, ज़ुबान और चेहरे पर हल्की सूजन,आँखों में हल्की लाली और पानी आना,छींके आना और नाक से पानी आना,छींक और खांसी का एकसाथ आना,पेट में दर्द होना ,दस्त होना ,उल्टी होना|

बच्चे को एलर्जी से बचाने के लिए क्या करे -- जब बच्चा छह महीने की आयु पूरी कर लेता है तभी उसे ठोस आहार देना शुरू करें और अपने नन्हें-मुन्ने को कोई भी नया आहार शाम के समय या ऐसे दिन न दे जब डॉक्टर मिलना मुश्किल हो ,विशेषकर जब आपके परिवार में किसी को एलर्जी की शिकायत पहले से रही हो। अगर आप बच्चे को अधिक समय तक स्तनपान करवातीं हैं तो घबराएँ नहीं। यह बिलकुल भी गलत नहीं है। सच तो यह है की इससे बच्चे में एलर्जी होने की संभावना न्यूनतम हो जाती है।

 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • कमेंट
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}