Pregnancy

गर्भावस्था में कब और कितना आंवला खाना चाहिए

Parentune Support
Pregnancy

Created by Parentune Support
Updated on Mar 01, 2018

गर्भावस्था में कब और कितना आंवला खाना चाहिए

आंवला ऐसा फल है जिसका उपयोग न सिर्फ खाने बल्कि औषधी के लिए भी प्रयोग किया जाता है। इसके कई फायदे हैं। आंवले में सबसे अधिक विटामिन-सी होता है। इसके अलावा इसमें कई और गुण हैं जो शरीर को स्वास्थ्य रखने में मदद करता है। इस फल की एक और खासियत है। गर्भावस्था के दौरान इसके सेवन से महिलाओं को काफी फायदा पहुंचता है और यह उन्हें कई दिक्कतों से दूर रखता है। यहां बात करेंगे आखिर आंवले के क्या फायदे हैं गर्भवती महिलाओं के लिए और इसे कब और कितना खाना चाहिए।
 

ये हैं फायदे
 

  1. पहुंचाता है पोषण – आंवले का सेवन गर्भवती महिला को पोषण पहुंचाता है। दरअसल आंवले में विटामिन-सी, फाइबर, आयरन और एंटी ओक्सिडेंट जैसे कई पोषक तत्व होते हैं। ये तत्व शरीर को सही तरीके से चलाते हैं।
     
  2. वजन करता है कम – प्रेग्नेंसी में वजन बढ़ना सामान्य बात है। पर इस दौरान आंवले का सेवन करने से वजन नहीं बढ़ता है। दरअसल आंवले में एंटी ओक्सिडेंट पाए जाते हैं। इसकी वजह से शरीर हल्का रहता है और वजन नहीं बढ़ता है।
     
  3. एनीमिया से बचाता है – प्रेग्नेंसी के दौरान कई बार महिला को एनीमिया की प्रॉब्लम हो जाती है। आंवला इसे दूर करने में काफी कारगर होता है। रोजाना आंवले का जूस पीने या इसके सेवन करने से एनीमिया नहीं होता।
     
  4. पेट को रखता है ठीक – प्रेगनेंसी में कई बार महिला को पेट की समस्या जैसे उलटी दस्त और कब्ज होने लगता है। इससे मां और बच्चे दोनों पर बुरा असर पड़ता है। पर आंवले का सेवन गर्भवती को पेट की समस्या से दूर रखता है। आंवलने का सेवन करने
     
  5. ऑक्सीजन के प्रवाह को बनाए रखता है – पेट में बच्चे के ठीक रहने के लिए जरूरी है कि गर्भवती के शरीर में ऑक्सीजन का फ्लो सही तरीके से हो और वह बच्चे तक आसानी से पहुंचे। आंवले का प्रयोग करने से शरीर में ऑक्सीजन का प्रवाह ठीक से होता है।
     
  6. इम्यून सिस्टम रखता है ठीक – आंवले का सेवन गर्भवती महिलाओं के इम्यून सिस्टम को भी ठीक रखता है। दरअसल प्रेग्नेंसी के दौरान अगर शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने पर मां व बच्चे पर बुरा असर पड़ता है। ऐसे में रोजाना एक आंवले का सेवन या फिर इसका जूस पीने से इम्यून सिस्टम ठीक रहता है।
     
  7. सूजन के लिए भी फायदेमंद – प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं के शरीर में सूजन आ जाती है। सबसे ज्यादा सूजन पैरों में आती है। यह समस्या भी रोजाना आंवले के सेवन से दूर हो जाती है।
     
  8. प्री-मैच्योर डिलिवरी की संभावना भी कम करता है – आंवले को रोजाना सेवन करने से प्री-मैच्योर डिलिवरी की संभावना भी बहुत कम रहती है।
     
  9.  मूड रखता है ठीक – प्रेग्नेंसी में थकान व चिड़चिड़ापन जैसी समस्या काफी आती है। पर आंवला के सेवन करने से शरीर ऊर्जावान बना रहता है और मूड भी ठीक रहता है।
     

कब खाना चाहिए

आंवले का सेवन किसी के लिए भी फायदेमंद है। अगर बात की जाए प्रेग्नेंसी में कब इसका सेवन करना चाहिए, तो इसके लिए भी कोई समय जरूरी नहीं है। हालांकि माना जाता है कि गर्भावस्था के दूसरे महीने से आंवले का सेवन महिला को कर देना चाहिए। क्योंकि इसके सेवन का फायदा न सिर्फ जच्चा बल्कि बच्चे तक भी पहुंचता है। 

 

कितना खाना चाहिए
 

आंवला खाना शरीर के लिए फायदेमंद है, लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि एक ही दिन में और एक साथ बहुत सा आंवला खा लिया जाए। अधिक मात्रा में खाने से नुकसान भी हो सकता है। अगर आप कच्चा आंवला खाना चाहती हैं, तो सुबह-शाम एक-एक आंवला लेना काफी है। वहीं अगर आप आंवले का जूस ले रहीं हैं, सुबह-शाम  2-3 चम्मच आंवले का रस पानी के साथ मिलाकर ले सकती हैं।

  • Comment
Comments()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ START A BLOG
Top Pregnancy Blogs
Loading
Heading

Some custom error

Heading

Some custom error