• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
स्वास्थ्य गर्भावस्था

गर्भावस्था में ट्रॉफोब्लास्टिक रोग क्या है ?

Deepak Pratihast
गर्भावस्था

Deepak Pratihast के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Jul 15, 2019

गर्भावस्था में ट्रॉफोब्लास्टिक रोग क्या है

प्रेग्नेंसी में गर्भवती को कई तरह की दिक्कतें आती हैं। इनमें से कुछ के बारे में तो उन्हें पता होता है, लेकिन कई ऐसी समस्याएं होती हैं जिनके बारे में बहुत कम महिलाएं ही जानती हैं और जागरूकता के अभाव में वह उन बीमारियों के लक्षण को समझ नहीं पातीं। नतीजतन बीमारी बढ़ती जाती है। इसी तरह की समस्याओं में से एक है गर्भावस्था में ट्रॉफोब्लास्टिक रोग। यह ऐसी दिक्कत है जिसके बारे में बहुत कम गर्भवती को ही पता चल पता है। अगर समय रहते इसका इलाज न कराया जाए तो यह काफी नुकसान पहुंचा सकता है। इस ब्लॉग में हम आपको ट्रॉफोब्लास्टिक रोग के बारे में विस्तार से बताएंगे।

क्या है ट्रॉफोब्लास्टिक / What Is Trophoblastic Disease In Hindi?

गर्भावस्था ट्रॉफोब्लास्टिक रोग (जीटीडी) प्रेग्नेंसी में होने वाले ट्यूमर का एक समूह है। इसमें गर्भाशय के अंदर असामान्य ट्रॉफोब्लास्टिक कोशिकाएं बढ़ती हैं। साथ ही ट्यूमर ऊतक से गर्भाशय के अंदर बढ़ने लगता है, जो गर्भधारण होता है। यह ऊतक ट्रॉफोब्लास्ट कोशिकाओं से बना होता है और गर्भाशय में निषेचित अंडे से घिरा होता है। कभी-कभी निषेचित अंडे और ट्रॉफोब्लास्ट कोशिकाओं में कोई समस्या आ जाती है। इसी से यह बीमारी जन्म लेती है। प्रेग्नेंसी में ट्रॉफोब्लास्टिक बीमारी अधिकतर केस में सामान्य रहती है और ऊतक में गहराई से आक्रमण नहीं करती है। पर किसी-किसी मामले में यह खतरनाक हो सकती है और कैंसर का रूप ले लेती है।

गर्भावस्था में ट्रॉफोब्लास्टिक के प्रकार

गर्भावस्था में ट्रॉफोब्लास्टिक बीमारी (जीटीडी) में कई प्रकार की बीमारियां शामिल होती हैं। ये बीमारियां इस तरह हैं।

  1. हाइडैटिडॉर्म मोल्स (एचएम) -  यह ट्यूमर बहुत धीमी गति से बढ़ते हैं और द्रव की कोशिकाओं की तरह दिखते हैं। इसे दाढ़ी गर्भावस्था भी कहा जाता है। इसके कारणों का अभी पता नहीं चल सका है। यह पूर्ण या आंशिक हो सकता है। पूर्ण एचएम में बिना किसी आनुवांशिक जानकारी वाला अंडा, एक शुक्राणु द्वारा निषेचित किया जाता है। इसका भ्रूण में विकास नहीं होता है। हालांकि यह असामान्य ऊतक के एक गांठ के रूप में विकसित होता है। यह देखने में अंगूर के एक क्लस्टर की तरह होता है जो थोड़ा सा दिखता है और गर्भाशय को भर सकता है। इस स्थिति में गर्भधारण में सिर्फ प्लेसेंटा के हिस्से होते हैं और यह तब बनता है जब शुक्राणु एक खाली अंडे को निषेचित करता है। अंडा खाली होने की वजह से कोई बच्चा भी नहीं बनता। वहीं आंशिक एचएम में एक अंडे को दो शुक्राणु निषेचित करते हैं। प्लेसेंटा एक मोलर ग्रोथ हो जाता है। इस दौरान अगर कोई भी भ्रूण ऊतक बनता है तो उसमें गंभीर दोष की संभावना रहती है। यह तब होता है जब सेल्स में असामान्य कोशिकाएं और एक भ्रूण भी होता है। इसमें असामान्य सेल्स तेजी से बढ़ता है, जबकि भ्रूण इसकी तुलना में पीछे रह जाता है।

  2. गर्भावस्था ट्रॉफोब्लास्टिक नियोप्लासिया (जीटीएन) – जीटीएन एक प्रकार से जीटीडी ही है और यह काफी घातक बीमारी है। यह कई प्रकार के हैं। 

  • आक्रामक मोल :  आक्रामक मोल ट्रॉफोब्लास्ट कोशिकाओं से बने होते हैं। यह गर्भाशय की मांसपेशियों की परत में बढ़ते हैं। आक्रामक मोल एक हाइडैटिडॉर्म मोल की तुलना में ज्यादा बढ़ते और फैलते हैं। 

  • कोरियोकार्सीनोमास (Choriocarcinomas)  :  कोरियोकार्सीनोमास ट्रॉफोब्लास्ट कोशिकाओं से बना होता है और यह काफी घातक ट्यूमर हैं। यह गर्भाशय और पास के रक्त वाहिकाओं की मांसपेशियों की परत में फैलता है। इसके अलावा यह मस्तिष्क, फेफड़े, यकूत, गुर्दे, प्लीहा, आंत व योनि में भी फैल सकता है।

  • प्लेसेंटल साइट ट्रॉफोब्लास्टिक ट्यूमर (पीएसटीटी)  : यह प्लेसेंटा गर्भाशय से जुड़ा हुआ दुर्लभ गर्भावस्था ट्रॉफोब्लास्टिक नियोप्लासिया होता है। इसके कोशिकाओं से ट्यूमर रूप में व गर्भाशय की मांसपेशियों, रक्त वाहिकाओं, फेफड़ों, योनि व लिम्फ नोड्स में भी फैलने की आशंका रहती है। पीएसटीटी के बढ़ने की रफ्तार काफी धीमी होती है और इसके लक्षण सामान्य गर्भावस्था के महीनों या साल बाद सामने आते हैं।

  • एपिथेलियोइड ट्रॉफोब्लास्टिक ट्यूमर (ईटीटी) : इसे भी दुर्लभ प्रकार का गर्भावस्था ट्रॉफोब्लास्टिक नियोप्लासिया माना गया है। यह काफी सौम्य व घातक हो सकता है। जब ट्यूमर घातक होता है, तो इसके फेफड़ों तक फैलने की आशंका रहती है।

गर्भावस्था ट्रॉफोब्लास्टिक रोग के लक्षण / Trophoblastic Disease: Symptoms and Signs In Hindi

बेशक यह बीमारी थोड़ी अलग है और महिलाओं को इसका पता नहीं चल पाता, लेकिन इसके कुछ लक्षणों पर ध्यान दिया जाए तो इसे समय रहते पकड़ा जा सकता है। इसके कुछ लक्षण ये हैं।

 

गर्भावस्था ट्रॉफोब्लास्टिक रोग के कारण

इस रोग के कई कारण सामने आए हैं। उन्हीं में से कुछ कारण इस प्रकार हैं।

  • गुणसूत्रों की असामान्य संख्या

  • पिछली दाढ़ी गर्भावस्था

  • असामान्य रूप से निषेचित अंडे

  • 35 साल की उम्र से अधिक व 20 साल से कम उम्र की महिलाओं में

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • 2
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Sep 23, 2019

7 वा महीना चल रहा है 4 दिन से मोवमेंट नही कर रहा है

  • रिपोर्ट

| Aug 11, 2019

acdt ka Banna kese thik hoga aur pet ka Dil Jana plese help me

  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें

टॉप स्वास्थ्य ब्लॉग

Always looking for healthy meal ideas for your child?

Get meal plans
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}