• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
शिक्षण और प्रशिक्षण

कैसे करवाएं अपने बच्चे को बोर्ड परीक्षा की तैयारी

Priya Garg
11 से 16 वर्ष

Priya Garg के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Apr 02, 2020

कैसे करवाएं अपने बच्चे को बोर्ड परीक्षा की तैयारी
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

अपने बच्चे को परीक्षा की तैयारी करवाने के लिए नीचे दिए गए तरीकों का इस्तेमाल करें-

1. समय का सही इस्तेमाल करें- सभी के पास दिन के २४ घंटे हे होते है पर कुछ लोग उसमे ज्यादा काम कर पाते है और कुछ कम्| इसका कारन है की कुछ लोग समय का सही इस्तेमाल करते हैं| इसलिए ज़रूरी है की दिन के 24 घंटों को ठीक से प्लान किया जाए ताकि कम समय में ज्यादा काम किया जा सके| बच्चों के लिए एक टाइम-टेबल बनाएँ| अपने समय का सही और पूरा इस्तेमाल करें|  

 

2फ़्लोचार्ट और डायग्राम का इस्तेमाल करना- चित्रों, फ्लोचार्ट, डायग्राम जैसे विज़ुअल देखने में आकर्षित और समझने में आसान होते हैं| इनकी मदद से महत्वपूर्ण (Important) बिंदुओं/ बातों को समझने और दोहराने में आसानी होती है| इसलिए ज़रूरी है की पढ़ते समय महत्वपूर्ण बिंदुओं को फ़्लो चार्ट या डायग्राम की मदद से समझा और याद किया जाए| इस तरह के दृश्यक चित्रों की मदद से बातों को ज्यादा समय तक याद रखना आसान होता है|

 

3. पिछले परीक्षा-पत्रों से तैयारी- परीक्षा के समय में प्रश्न-पत्र का प्रारूप (Format) समझना बहुत ज़रूरी होता है| इसके लिए पिछले साल के प्रश्न-पत्र मददगार होते है| बीते वर्षों के प्रश्न-पत्रों को पढ़कर और दोहराकर जहाँ एक तरफ प्रश्नों को दोहराया जा सकता है वहीँ दूसरी और प्रारूप को भी समझने में आसानी होती है| इसी के साथ-साथ उन परीक्षा-पत्रों को पूरी तरह हल करके समय-व्यस्था (Time-Management) का भी अभ्यास हो जाता है| बच्चे के लिए ये समझना आसान हो जाता है की प्रश्न-पत्र के किस भाग (section) को कितना समय दुया जाए|

5. उत्तर को अपने शब्दों में दोहराना- उसके लिए सबसे आसान तरीका है की जो भी उत्तर आप समझ गए है उसे अपनी भाषा मे किसी दूसरे व्यक्ति हो सुनाइए| जब हम अपनी कोई बात किसी दूसरे व्यक्ति को बताते है तो हम अपने विचारों को व्यवस्थित करते है| ये तरीका उत्तर बताने के तरीके में भी काम करता है| जब बच्चे अपने उत्तर सुनाते है तो वे उसे मानसिक तौर पर व्यवस्थित कर लेते है जिससे उत्तर को ज्यादा समय तक याद रखा जा सकता है|

 

4. समूह में पढ़ाई- अपने पढ़ने के समय को अपने दोस्तों-साथियों के साथ बाँटना| हर समूह में अलग-अलग तरह से पढ़ने और समझने वाले बच्चे होते हैं| समूह में पढ़ते हुए बच्चें एक-दूसरे से बहुत से सवाल पूछते है और आपस में मिलकर ही उन प्रश्नों का हल ढूँढते हैं| इस तरह से पढ़ना जहाँ एक तरफ़ घंटों अकेले पढ़ने की बोरियत से बचाता है वहीँ दूसरी और अलग-अलग तरीके और तर्क के साथ प्रश्नों और विषयों को समझने में मदद भी करता है|

 

5. परीक्षा के दिन के तैयारी- परीक्षा के दिन के लिए सभी चीज़ें पहले से जमा करके रख लें| चाहें वो चीज़े छोटी हो या बड़ी उन्हें अपने पास एक साथ रखें| कोई भी चीज़ उस दिन या पहले दिन के लिए न छोड़ें| हर परीक्षा से पहले उसे पिछले वर्ष में प्रश्न-पत्र देखकर समय और प्रारूप को एक बार फिर समझ लें| इसी के साथ परीक्षा-केंद तक जाने में लगने समय और तरीके के बारे में विचार कर लें और उसके अनुसार पूरी व्यवस्था कर लें|

 

ऊपर दिए गए सभी बातों के साथ-साथ एक बात और बहुत ज़रूरी है वह ये कि बच्चों के साथ रोज़ बात करें, उनका आत्मबल बढ़ाए, उन्हें ये भरोसा दिलाएँ की उनकी मेहनत, उनके अंक से ज़्यादा महत्व रखती है|

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • कमेंट
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें
Deepak Pratihast
मॉमबेस्डर
आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट
आज का पैरेंटून
पैरेंटिंग के गुदगुदाने वाले पल

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}