• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
पेरेंटिंग स्वास्थ्य

बारिश के मौसम में बच्चों का ऐसे रखें ख्याल

Supriya Jaiswal
7 से 11 वर्ष

Supriya Jaiswal के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Jul 29, 2018

बारिश के मौसम में बच्चों का ऐसे रखें ख्याल

मुंबई में लगातार हो रही बारिश से जनजीवन अस्त व्यस्त हो चुका है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मुंबई के अलग-अलग इलाकों में हालात बद से बदतर हो गए हैं। राहत और बचाव के लिए बीएमसी (BMC) के अनुरोध पर भारतीय नौसेना के जवानों को कई जगहों पर तैनात किया गया है। हर तरफ पानी भरने की वजह से लोगों को अपने घरों से निकलने में भी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। स्कूल-कॉलेज और कुछ दफ्तरों को भी बंद करने का आदेश दे दिया गया है। मौसम विभाग के मुताबिक अगले कुछ घंटों में जमकर बारिश होने का अनुमान बताया गया है। कई जगहों पर जलजमाव होने की वजह से उसमे मच्छर, कीड़े, मकोड़े, आदि पनपने लगते है। जो बीमारी का कारण बन सकते है, तो ऐसे में पेरेंट्स की अपने बच्चे के प्रति जिम्मेदारी कुछ और बढ़ जाती है। तो आईये जानते है की किन उपायों को अपनाकर बच्चे मानसून के साथ आने वाली बीमारियों से बच सकते है।   

मुंबई बारिश के दौरान पैरेंट्स किन बातों का रखें ध्यान / Child care during rainy season: Tips every Parent's should follow In Hindi

मुंबई बारिश की वजह से बाढ़ के खतरे का भी अंदेशा जताया जा रहा है इसलिए जरूरी है कि आप पूरा एहतियात बरतें।

  1. बहुत जरूरी होने पर ही घर से बाहर निकलें- स्थानीय नगर निकायों के मुताबिक लोगों से अपील की जा रही है कि बहुत जरूरी काम होने पर ही घर से बाहर निकलें। बारिश के चलते कई ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है और सड़कों पर भारी जलजमाव के चलते गाड़ियों की आवाजाही भी अवरुद्ध हो रही है।
     
  2. घर में खाने पीने के सामान को स्टोर कर लें- मुमकिन है कि आने वाले 3-4 दिनों तक ऐसे ही हालात बने रहे ऐसे में ये सबसे ज्यादा जरूरी है कि आप अपने घर में खाने पीने के सामान को जरूर स्टोर कर लें। सब्जियों में आलू प्याज एवं कुछ हरी सब्जियां, दाल, राजमा, चना इत्यादि के अलावा चावल, आंटा जरूर स्टोर कर के रख लें। कुछ जरूरी दवाएं भी अपने घर में रखें। रोजमर्रा के सामान की व्यवस्था पहले से कर के रखें।
     
  3. बिजली संकट- बारिश के चलते बिजली आपूर्ति व्यवस्था भी बाधित हो सकती है तो ऐसे में आप अपने घर में पर्याप्त मात्रा में मोमबत्तियां, टॉर्च की सेल यानि बैटरियां इत्यादि साथ में जरूर रखा करें। इस बात का जरूर ध्यान रखें कि बिजली के तार एवं कनेक्शन सुरक्षित हों क्योंकि पानी के संपर्क में आने की वजह से शॉर्ट सर्किट होने का खतरा बना होता है। वैसे भी अगर लगातार बारिश हो रही है या आपके बिल्डिंग के बाहर पानी जमा हो चुका है तो सुरक्षा के लिहाज से बिजली का मेन स्वीच बंद कर दें।
     
  4. इस मौसम में बच्चे को कहीं बाहर खेलने के लिए नहीं जाने दें। हालांकि आपके बच्चे बाहर जाने की  जिद कर सकते हैं लेकिन उनको समझा बुझा कर बाहर जाने से बिल्कुल मना कर दें।
     
  5. सड़कों पर अगर 2 फुट से ज्यादा पानी जमा हो चुका है तो वाहन लेकर कहीं बाहर नहीं निकलें और अपने साथ बच्चे को लेकर इस समय में कहीं नहीं जाएं।
     
  6. किसी भी आपातस्थिति से निपटने के लिए अपने घर में एक इमरजेंसी किट जरूर रखें। इस इमरजेंसी किट में टॉर्च, फर्स्ट एड किट, जरूरी दवाएं, बच्चों के लिए हल्के कपड़े, आपके जरूरी दस्तावेज, कुछ नकद जैसे सामान शामिल होने चाहिए।

 

बारिश के मौसम में बच्चों को बीमार होने से ऐसे बचाएं  / Save The Children From Getting Sick in Rainy Season in Hindi

  • बच्चो को भीगने से बचाए:  बारिश में जब पहली बार बरसात हो तो बच्चो को भींगने नहीं देना चाहिए। बच्चे के बरसात में भींगने पर सबसे पहले बच्चे का सर अच्छे से तौलिये से पोछे और फिर पूरा शरीर टॉवेल से पोछकर कपडे बदल दे और बच्चे को एक गिलास हल्दी अदरक वाला दूध भी बनाकर दे। जिससे उसके शरीर को गर्माहट मिलेगी और ये बच्चे को बारिश से किसी भी प्रकार के होने वाले इन्फेक्संस से बचाएगा। बच्चा जब भी बारिश के मौसम में स्कूल जाये तो एक रेन कोट भी उसके बैग में जरुर रखें।   
     
  • बच्चे की साफ़ सफाई का रखें ध्यान: बच्चे को बारिश में जमा हुए पानी में नहीं खेलने दे। बच्चे को हर बार खाना खाने से पहले और खाना खाने के बाद साबुन से हाथ धोने की आदत डालें। बच्चो की स्किन बहुत ही सेंसिटिव होती है लिहाजा उन्हें नहलाने के लिए एंटीसेप्टिक साबुन का प्रयोग करें ऐसा करने से वो फंगल इन्फेक्शन और एलर्जी से बचेंगे।     
     
  • बच्चे के खान पान की स्वछता का ध्यान: मानसून के आने से जीवाणुओं (Bacteria) के बढ़ने का खतरा काफी बढ़ जाता है। इसके चलते बच्चे एलर्जी से ग्रसित होते हैं। इसलिए खानपान की वस्तुओं की स्वच्छता जरूरी है। बच्चे खानपान में गंदगी के कारण अधिक प्रभावित होते हैं, इसीलिए पेरेंट्स को ये ख्याल रखना चाहिए कि जो अपने बच्चे को खाने के लिए दे रहे हैं, वह स्वच्छ है भी या नहीं। बच्चो को कोई भी फल खिलाने से पहले अच्छी तरह से धो लें और तब खाने ले लिए दे। भोजन परोसने से पहले अपने हाथों को धो लें फिर परोसे। अगर खाना गर्म है तो उसे ठंडा होने से पहले ही बच्चो को खिला दे। बचे हुए भोजन को गरम कर के खिलाने की बिल्‍कुल भी ना सोचें।  
     
  • बच्चो को फ़िल्टर का ही पानी पिलाये: जून के माह में बारिश और तेज गर्मी होने की वजह से कई बार बच्चे डीहाईड्रेसन का शिकार हो जाते है इसीलिए बच्चो को पीने के लिए साफ़ उबला हुआ पानी या फ़िल्टर का पानी ही दें। और बच्चो को थोड़े थोड़े समय पर जूस या नारियल पानी भी पिलाते रहे जिससे बच्चो के शरीर में पानी की कमी न हो।   
      
  • बच्चे के बेडरूम की सफाई का भी रखें खयाल: अपने बच्चो के बेडरूम को सीलन मुक्त रखें और वहां की साफ़ सफाई का ध्यान रखें। बेडरूम की खिड़कियां खोलकर रखें जिससे पर्याप्त ताजा हवा पास हो और रात को बच्चे के बेडरूम का तापमान सामान्य रखें। ए. सी. का उपयोग नहीं करें। बारिश में ए. सी. की हवा नुकसान दायक होती है।   
     
  • आरामदायक कपडे पहनाये: बारिश के मौसम में कीड़े मकोड़े बहुत बढ़ जाते हैं। इसलिए बच्चो को फुल पेंट और पूरी बाजु के कपडे पहनाये और बच्चो को कपडे ढीले ढाले ही पहनाये। जिसमे हवा पास होती हो। इस मौसम में बच्चो को हल्के से भी गीले कपडे या गीले मौजे न पहनने दे इससे संक्रमण होने का डर रहता है।      

 अपने बच्चे और आस पास की स्वच्छता का ध्यान रखें ।स्वास्थ्य के प्रति कुछ सावधानी रखने पर संबंधित रोगों से बचाव किया जा सकता है। 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • कमेंट
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें

Always looking for healthy meal ideas for your child?

Get meal plans
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}