पेरेंटिंग स्वास्थ्य

बारिश के मौसम में बच्चों का ऐसे रखें ख्याल

Supriya Jaiswal
7 से 11 वर्ष

Supriya Jaiswal के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Jul 29, 2018

बारिश के मौसम में बच्चों का ऐसे रखें ख्याल

बारिश का मौसम आते ही सभी के लिए ख़ुशी और आनंद का माहौल बन जाता है। जून माह से शुरू होने वाली बारिश अगस्त, सितम्बर तक चलती है। इस मौसम का आनंद सबसे ज्यादा बच्चे उठाते है। वे जानबूझ कर पानी में खेलना या ऐसे ही नंगे पैरो से घूमना पसंद करते है। उमस भरी गर्मी और तीखे तेवर के बाद बारिश का आना पूरे माहौल को खुशनुमा बना देता है और बच्चे बारिश का लुफ्त भी खूब उठाते है लेकिन बच्चे ये भूल जाते है की वो बीमार भी पड सकते है। कई जगहों पर जलजमाव होने की वजह से उसमे मच्छर, कीड़े, मकोड़े, आदि पनपने लगते है। जो बीमारी का कारण बन सकते है, तो ऐसे में पेरेंट्स की अपने बच्चे के प्रति जिम्मेदारी कुछ और बढ़ जाती है। तो आईये जानते है की किन उपायों को अपनाकर बच्चे मानसून के साथ आने वाली बीमारियों से बच सकते है और मानसून का आनंद उठा सकते हैं।   

 

बारिश के मौसम में बच्चों को बीमार होने से ऐसे बचाएं  / Save The Children From Getting Sick in Rainy Season in Hindi

  • बच्चो को भीगने से बचाए:  बारिश में जब पहली बार बरसात हो तो बच्चो को भींगने नहीं देना चाहिए। बच्चे के बरसात में भींगने पर सबसे पहले बच्चे का सर अच्छे से तौलिये से पोछे और फिर पूरा शरीर टॉवेल से पोछकर कपडे बदल दे और बच्चे को एक गिलास हल्दी अदरक वाला दूध भी बनाकर दे। जिससे उसके शरीर को गर्माहट मिलेगी और ये बच्चे को बारिश से किसी भी प्रकार के होने वाले इन्फेक्संस से बचाएगा। बच्चा जब भी बारिश के मौसम में स्कूल जाये तो एक रेन कोट भी उसके बैग में जरुर रखें।   
  • बच्चे की साफ़ सफाई का रखें ध्यान: बच्चे को बारिश में जमा हुए पानी में नहीं खेलने दे। बच्चे को हर बार खाना खाने से पहले और खाना खाने के बाद साबुन से हाथ धोने की आदत डालें। बच्चो की स्किन बहुत ही सेंसिटिव होती है लिहाजा उन्हें नहलाने के लिए एंटीसेप्टिक साबुन का प्रयोग करें ऐसा करने से वो फंगल इन्फेक्शन और एलर्जी से बचेंगे।     
  • बच्चे के खान पान की स्वछता का ध्यान: मानसून के आने से जीवाणुओं (Bacteria) के बढ़ने का खतरा काफी बढ़ जाता है। इसके चलते बच्चे एलर्जी से ग्रसित होते हैं। इसलिए खानपान की वस्तुओं की स्वच्छता जरूरी है। बच्चे खानपान में गंदगी के कारण अधिक प्रभावित होते हैं, इसीलिए पेरेंट्स को ये ख्याल रखना चाहिए कि जो अपने बच्चे को खाने के लिए दे रहे हैं, वह स्वच्छ है भी या नहीं। बच्चो को कोई भी फल खिलाने से पहले अच्छी तरह से धो लें और तब खाने ले लिए दे। भोजन परोसने से पहले अपने हाथों को धो लें फिर परोसे। अगर खाना गर्म है तो उसे ठंडा होने से पहले ही बच्चो को खिला दे। बचे हुए भोजन को गरम कर के खिलाने की बिल्‍कुल भी ना सोचें।  
  • बच्चो को फ़िल्टर का ही पानी पिलाये: जून के माह में बारिश और तेज गर्मी होने की वजह से कई बार बच्चे डीहाईड्रेसन का शिकार हो जाते है इसीलिए बच्चो को पीने के लिए साफ़ उबला हुआ पानी या फ़िल्टर का पानी ही दें। और बच्चो को थोड़े थोड़े समय पर जूस या नारियल पानी भी पिलाते रहे जिससे बच्चो के शरीर में पानी की कमी न हो।      
  • बच्चे के बेडरूम की सफाई का भी रखें खयाल: अपने बच्चो के बेडरूम को सीलन मुक्त रखें और वहां की साफ़ सफाई का ध्यान रखें। बेडरूम की खिड़कियां खोलकर रखें जिससे पर्याप्त ताजा हवा पास हो और रात को बच्चे के बेडरूम का तापमान सामान्य रखें। ए. सी. का उपयोग नहीं करें। बारिश में ए. सी. की हवा नुकसान दायक होती है।   
  • आरामदायक कपडे पहनाये: बारिश के मौसम में कीड़े मकोड़े बहुत बढ़ जाते हैं। इसलिए बच्चो को फुल पेंट और पूरी बाजु के कपडे पहनाये और बच्चो को कपडे ढीले ढाले ही पहनाये। जिसमे हवा पास होती हो। इस मौसम में बच्चो को हल्के से भी गीले कपडे या गीले मौजे न पहनने दे इससे संक्रमण होने का डर रहता है।      

बारिश का मौसम बच्चो के लिए ख़ुशीयों के साथ-साथ समस्याएं भी लेकर आता है। अगर वक्त पर ध्यान ना दिया जाए, तो आप परेशानी में पड़ सकते हैं। अपने बच्चे और आस पास की स्वच्छता का ध्यान रखें ।स्वास्थ्य के प्रति कुछ सावधानी रखने पर संबंधित रोगों से बचाव किया जा सकता है। 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • कमेंट
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}