• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
खाना और पोषण

बच्चों में कैसे डालें नॉनवेज की आदत

Prasoon Pankaj
1 से 3 वर्ष

Prasoon Pankaj के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया May 03, 2021

 बच्चों में कैसे डालें नॉनवेज की आदत
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

छोटे बच्चों के आहार (Kids Food) को लेकर पैरेंट्स अक्सर परेशान रहते हैं। बच्चे के ठोस आहार लेने की शुरुआत करने से लेकर उसके तीन साल के होने तक यह चिंता ज्यादा होती है। बच्चे को कौनसा आहार देना सही रहेगा, क्या देना नुकसानदायक रहेगा, ऐसे कई और सवाल पैरेंट्स के मन में होते हैं जिन्हें लेकर वह परेशान रहते हैं। आजकल इसी में एक सवाल नॉनवेज (no-veg) को लेकर रहता है। कई पैरेंट्स जानना चाहते हैं कि बच्चे को नॉनवेज खिलाना किस तरह शुरू करें। अगर आपके सामने भी यह सवाल है तो यह ब्लॉग आपको इसका जवाब देगा। इस ब्लॉग में आप जानेंगे कि आखिर बच्चे को नॉनवेज (non vegetarian) खिलाना किस तरह शुरू कर सकते हैं।

बच्चे के लिए क्यों जरूरी है नॉनवेज

नॉनवेज भोजन में अंडा (Egg), मुर्गा, मछली (Fish) व मीट (meat) शामिल है। इनमें जिंक, आयरन और प्रोटीन की प्रचूर मात्रा होती है। ये सभी चीजें बच्चे के शारीरिक व मानसिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। हालांकि आप कोशिश करें कि जब बच्चा 9 महीने या 1 साल का हो जाए उसके बाद ही उसे नॉनवेज देना शुरू करें। दरअसल इससे कम उम्र में कमजोर पाचन तंत्र की वजह से वह नॉनवेज को पचा नहीं पाएगा और इससे नुकसान पहुंच सकता है।

नॉनवेज में पहले किससे करें शुरुआत

बच्चे को नॉनवेज (मांसाहारी) भोजन की शुरुआत आपको मछली, अंडे और मुर्गे से करनी चाहिए। दरअसल इनका स्वाद नरम होता है। हालांकि यहां इस बात का ध्यान रखना होगा कि बच्चे को इस अवस्था में शैलफिश मछली न दें। इन दोनों के बाद आप उसे लाल मांस देने की शुरुआत कर सकते हैं।  

बच्चे में ऐसे डालें मांसाहारी भोजन खाने की आदत

बच्चे को शुरुआत में हो सकता है कि नॉनवेज अच्छा न लगे। इससे आपको घबराना नहीं चाहिए। अगर आप धीरे-धीरे कोशिश करेंगे तो वह नॉनवेज खाना शुरू कर देगा। यहां हम आपको बताएंगे कैसे आप चरणबद्ध तरीके से उसमें मांसाहारी भोजन की आदत लगा सकते हैं।

  • बच्चा अगर 9 महीने का हो गया है तो आपको उसे नॉनवेज खिलाने की शुरुआत अंडे से करनी चाहिए। इसके बाद जब वह 1 साल का हो जाए तो चिकन व मछली दे सकते हैं। यहां यह भी समझना होगा कि इस अवस्था में उसे चिकन व मछली सूप या शोरबा के रूप में दें। उसे इसका टुकड़ा सीधे न दें। चिकन से पहले बच्चे को मछली खाने को दें।    
     
  • बच्चा अगर शुरु के दिनों में नॉनवेज में रुचि नहीं दिखा रहा है तो आप स्वाद की आदत डालने के लिए उसे पतला सूप बनाकर दे सकते हैं। आप उस सूप में गाजर व आलू भी मिला सकते हैं। इससे उसे धीरे-धीरे इस स्वाद की आदत लगने लगेगी।
     
  • एक बार जब बच्चा नॉनवेज का स्वाद समझ जाए और उसे खाने में आनाकानी न करे, तो फिर आप उसे नॉनवेज की प्युरी बनाकर दे सकते हैं। इससे वह मांसाहारी भोजन को आराम से खा सकेगा। आप सब्जियों और मांस को अलग-अवग पकाने के बाद एक साथ प्युरी बना लें।
     
  • बच्चा जब प्युरी को खाने लगे और 1 साल से ऊपर का हो जाए तो आप उसे कलेजी भी दे सकते हैं। इसमें मौजूद विटामिन-ए उसकी आंखों की रोशनी तेज करेगा साथ ही उसका इमंयून सिस्टम मजबूत होगा। सप्ताह में एक बार आप उसे चिकन लिवर भी दे सकते हैं। हालांकि इसकी मात्रा अधिक न हो।
     
  • बच्चे को जब नॉनवेज की आदत लगा रहे हैं और वह अभी डेढ़-2 साल से छोटा है तो शुरुआत में उसे हफ्ते में 2 बार ही नॉनवेज दें। कुछ दिन बाद आप दिन में 1 बार भी उसे मांसाहारी भोजन दे सकते हैं। जब बच्चा इसे पूरी तरह पसंद करने लगे और 3 साल या उससे बड़ा हो जाए तो आप दिन में 2 बार भी उसे नॉनवेज दे सकते हैं।
     
  • वहीं बच्चे के दांत निकल आएं तो प्युरी से बाहर आ सकते हैं। आप अब प्युरी को गाढ़ा और चबाने वाला बनाकर दें।
     
  • बच्चा अगर ढाई-तीन साल का है और खाने को अपने हाथ से उठाकर खाना सीख गया है तो आप उसे चिकन या मीट के छोटे-छोटे टुकड़े पका कर भी दे सकते हैं।

इन बातों का भी रखें ध्यान

हमने ऊपर आपको कुछ तरीके बताए हैं जिनको अपनाकर आप बच्चे में नॉनवेज खाने की आदत डाल सकते हैं। लेकिन बच्चे को नॉनवेज खिलाते समय आपको कुछ सावधानियां भी बरतनी चाहिए। अगर आप इन्हें लेकर लापरवाही बरतेंगे तो बच्चे को इससे नुकसान भी हो सकता है।

  1. उम्र का रखें ध्यान – बच्चा 6 महीने का होने पर मां के दूध से अलग ठोस आहार लेना शुरू करता है। लेकिन आप इस बात का ध्यान रखें कि बच्चे को कम से कम 9 महीने से पहले नॉनवेज न दें। संभव हो तो उसके 1 साल का होने का इंतजार करें। दरअसल छोटे बच्चों की किडनी पूरी तरह से विकसित नहीं हुई होती और वह प्रोटीन की अधिक मात्रा को एडजस्ट नहीं कर पाता। इससे उसे नुकसान हो सकता है।
     
  2. मात्रा का भी रखें ध्यान – बच्चे को अगर आपने नॉनवेज देना शुरू कर दिया है तो आपको इसकी मात्रा पर भी ध्यान देना चाहिए। बच्चा अगर तीन साल से छोटा है तो उसे रोजाना और अधिक मात्रा में मांसाहारी भोजन न दें। ज्यादा नॉनवेज खाने से उसके शरीर में प्रोटीन की मात्रा बढ़ जाएगी। एक्सपर्ट बताते हैं कि बच्चे को हफ्ते में 2 बार ही नॉनवेज देना चाहिए। इससे अधिक मात्रा बच्चे पचा नहीं पाते और उनकी पाचन क्षमता खराब होती है।
     
  3. लंच में न दें नॉनवेज – बच्चे को कभी भी नॉनवेज डिनर में देना चाहिए। इसे लंच में लेना ठीक नहीं है, क्योंकि इसे पचाने के लिए उसे समय नहीं मिल पाएगा। इसके अलावा बच्चे को तीन साल तक स्टीम्ड, बॉयल्ड व ग्रिल्ड मांस ही दें। 
     
  4. लिवर व मीट बहुत कम दें – बेशक लिवर व मीट भी बच्चे को फायदा पहुंचाता है, लेकिन इसकी मात्रा पर ध्यान देना बहुत जरूरी है। मात्रा से अधिक होने पर दोनों ही नुकसानदायक हो सकते हैं। लिवर में विटामिन-ए टोक्सीकेशन होने की वजह से यह विटामिन-डी को प्रभावित करता है। इससे हड्डियों पर भी असर पड़ता है।
     
  5. पांच साल तक न दें लाल मांस – बच्चे को 5 साल तक लाल मांस नहीं देना चाहिए। लाल मांस में नाइट्रेट काफी मात्रा में होता है और यह बच्चे के दिमाग के विकास में अड़चन डालता है। लाल मांस की जगह लैंब एक बेहतरीन विकल्प हो सकता है।
     
  6. रसायनयुक्त मीट न दें – रसायनयुक्त मीट (सौसेज, हैम व सलामी ) के अंदर सोडियम और नाइट्रेट अधिक मात्रा में पाया जाता है। यह सभी आपके बच्चे को नुकसान पहुंचा सकते हैं।
     
  7. मीट न ज्यादा पका हो और न कच्चा – बच्चे को मीट देने से पहले आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वह ठीक से पका हुआ हो। मीट के टुकड़े का कोई भी भाग कच्चा न रहे। इसके अलावा आपको इस बात का भी ध्यान रखना होगा कि मीट जरूरत से ज्यादा न पक हो। ज्यादा पकने की स्थिति में मीट सख्त हो जाएगा और बच्चा उसे नहीं खा पाएगा।

 क्योंकि हर बच्चे की शरीर की बनावट, शरीर का विकास व पाचनतंत्र एक जैसा नहीं होता। किसी का कमजोर होता है तो किसी का तेज। ऐसे में बेहतर होगा कि बच्चे को नॉनवेज की आदत डालने के लिए इन उपायों को अपनाने से पहले एक बार आप डॉक्टर से भी सलाह जरूर लें।छोटे बच्चों के आहार (Kids Food) को लेकर पैरेंट्स अक्सर परेशान रहते हैं। बच्चे के ठोस आहार लेने की शुरुआत करने से लेकर उसके तीन साल के होने तक यह चिंता ज्यादा होती है। बच्चे को कौनसा आहार देना सही रहेगा, क्या देना नुकसानदायक रहेगा, ऐसे कई और सवाल पैरेंट्स के मन में होते हैं जिन्हें लेकर वह परेशान रहते हैं। डॉक्टरों के अनुसार, बच्चे को नॉनवेज देना फायदेमंद है। पौष्टिक तत्वों की वजह से वह बच्चे के शारीरिक व मानसिक विकास में सहायता करता है, लेकिन इसके लिए कुछ सावधानी भी जरूरी है। 9 महीने से कम उम्र के बच्चे को नॉनवेज देने से बचें। 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • कमेंट
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें

टॉप खाना और पोषण ब्लॉग

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}