पेरेंटिंग शिक्षण और प्रशिक्षण बाल मनोविज्ञान और व्यवहार स्पेशल नीड्स

10 तरीके बच्चों को यौन शोषण से बचाने के लिए

Prasoon Pankaj
7 से 11 वर्ष

Prasoon Pankaj के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Aug 13, 2018

10 तरीके बच्चों को यौन शोषण से बचाने के लिए

आए दिन स्कूलों में बच्चों के साथ हो रहे यौन शोषण के मामले सामने आ रहे हैं। अगर आंकड़ों की बात करें तो लगभग 70 फीसदी बच्चे यौन शोषण के शिकार होते हैं। आज हम इस ब्लॉग में यही बताने जा रहे हैं कि कैसे स्कूल में आप अपने बच्चे को यौन उत्पीड़न का शिकार होने से बचा सकते हैं।  बचपन मासूम होता है लेकिन कई बार मानवीय विकार इस मासूमियत को दबाने और कुचलने का काम करते हैं जिसे यौन शोषण कहा जाता है। अपने बच्चे की सुरक्षा के लिए माता-पिता को सतर्क रहने की आवश्यकता है। 

बाल यौन शोषण के आंकड़ों पर एक नजर / Child sexual abuse statistic in Hindi

  • आंकड़ों के मुताबिक 5 से 12 वर्ष की उम्र के बच्चे सबसे ज्यादा यौन शोषण के शिकार होते हैं
     
  • लड़के और लड़कियां दोनो समान रूप से यौन शोषण का शिकार बनाए जाते हैं
     
  • स्कूलों में भी बच्चों के साथ यौन शोषण के मामले सामने आ रहे हैं
     
  • 90 फीसदी से अधिक मामलों में माता-पिता और परिवार के लोगों को इस बात का पता नहीं चल पाता है कि उनका बच्चा यौन उत्पीड़न का शिकार बन रहा है
     
  • स्कूल बस में ड्राइवर या कंडक्टर के द्वारा भी यौन शोषण की घटनाएं हो रही हैं। 

इन 10 तरीकों की मदद से आप अपने बच्चे को यौन शोषण का शिकार होने से बचा सकते हैं/  you can save your child from being victimized by sexual abuse in Hindi

  1. उम्र के हिसाब से बच्चे को इस बात के बारे में जरूर बताएं कि उनके साथ होने वाली कोई गतिविधि सही है या गलत
     
  2. आप अपने बच्चे के साथ दोस्ताना व्यवहार रखें और अपने घर में ऐसा माहौल रखें कि वो आपके साथ हर बात को शेयर करने के लिए सहज हो सके
     
  3. बच्चे को ये अच्छे और बुरे स्पर्श के बारे में जरूर बताएं। बच्चे को बताएं कि उनको छूने, गाल खींचने या शरीर के अन्य अंगो को स्पर्श करने वाली गतिविधियों को कैसे पहचाना जाए और कुछ भी गलत लगे तो इस पर क्या प्रतिक्रिया दी जाए।
     
  4. सबसे बड़ी बात की बच्चे को निडर बनाएं और उनको विरोध करने का तरीका जरूर सीखाएं। अपने बच्चे को इस कदर मानसिक रूप से मजबूत बनाने का प्रयास करें कि अगर उसके साथ कुछ भी गलत हो तो वो विरोध करने में कोई झिझक ना करे। आप अपने बच्चे को इस बात का यकीन दिलाएं कि आप हर कदम पर उसके साथ हैं।
     
  5. बाहरी लोगों, स्कूल के टीचर, बस चालक या स्कूल के अन्य कर्मचारियों से सतर्क रहने के लिए कहें 
     
  6. बच्चे की दिनचर्या से संबंधित सवाल जरूर पूछें जैसे कि उसने आज दिन भर में क्या कुछ किया। लंच ब्रेक से लेकर स्कूल में पढ़ाई को लेकर भी सवाल पूछें। स्कूल में उनसे मस्ती की या फिर किसी तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ा
     
  7. आप अपने बच्चे से उसके दोस्तों और टीचरों के बारे में जरूर पूछे। ये भी पूछे कि उसको कौन से टीचर अच्छे लगते हैं और कौन बुरे। अच्छे और बुरे लगने के पीछे की वजहों के बारे में भी खुलकर बातचीत करें
     
  8. कई बार देखा गया है कि इस तरह की कुत्सित विचारधारा से प्रेरित लोग बच्चे को चॉकलेट या खिलौने का प्रलोभन देते हैं। तो आप ये जरूर नोटिस करें कि क्या इस तरह अनावश्यक रूप से कोई आपके बच्चे को लुभाने का प्रयास कर रहा है
     
  9. अगर ऐसा है तो उस व्यक्ति से सतर्क हो जाएं अगर आपको ऐसे किसी व्यक्ति पर संदेह है तो इसके बारे में पुलिस को जरूर इत्तिला कर दें
     
  10. समय-समय पर स्कूल में होने वाले पैरेंट्स मीट में जरूर जाएं और प्रिंसिपल से बच्चों की सुरक्षा के संदर्भ में जानकारी अवश्य लें।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • 2
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Oct 12, 2018

bahut sy bat kahi

  • रिपोर्ट

| Aug 14, 2018

Bahut hi accha bataya aapne

  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}