• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
पेरेंटिंग

क्या आपका बच्चा हॉरर फिल्म देखता है ?

Divya Marwaha
7 से 11 वर्ष

Divya Marwaha के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Jul 14, 2020

क्या आपका बच्चा हॉरर फिल्म देखता है
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

बच्चों का मन और दिल बहुत कोमल व नाजुक होता है, उन्हें जो दिखता है, उसे वह सच मान लेते हैं। हॉरर फिल्में, सीरियल या कहानी देखने व सुनने के बाद उनके मन में डर बैठ जाता है। इससे वे रात को अकेले बाहर जाने से डरने लगते हैं। कई बार उनके सपने में वही डरावनी चीजें आती हैं, जो वे सीरियल या फिल्म में देखते हैं। ऐसे में जरूरी है कि पैरेंट्स अपने बच्चों को हॉरर फिल्मों से दूर रखें। अगर बच्चे के मन में डर घर कर गया है, तो उन्हें ये बताकर शांत कराएं कि उन्होंने जो देखा है वह काल्पनिक था, उसका असल जिंदगी से कोई लेना देना नहीं है।
 

हॉरर फिल्मों से बच्चों को नुकसान/ Disadvantages to Children From Horror Movies In Hindi

  1. मन में डर बैठने से आपका बच्चा दब्बू हो सकता है।
     
  2. डर की वजह से उसकी नींद भी कम हो सकती है।
     
  3. डरावनी फिल्म देखने से बच्चे कई बार ऐसे कैरेक्टर व चीजों पर भी विश्वास करने लगते हैं जो असल जिंदगी में नहीं हैं।
     
  4. हॉरर फिल्मों में कई अलग-अलग तरह की आवाजें व डरावनी तस्वीरों का इस्तेमाल होता है, जिससे बच्चे डरते हैं और एकांत में भी इनकी कल्पना करते हैं। इससे हमेशा उनके मन में यही सब चलता है।

इसे जरूर पढ़ें : हॉरर फिल्म्स से करे अपने बच्चो को करे दूर! हो सकता है बुरा असर

कैसे भगाएं बच्चे के मन से डर
 

  • डरावनी फिल्मों से रखें दूर – बच्चे को रात में हॉरर फिल्म या टीवी शो ना देखने दें। उनके सामने कभी भी कोई ऐसी बात न करें, जिनसे उन्हें डर लगता हो। डर निकालने के लिए दिन में आराम से उनसे इस विषय पर बात करें और उनका आत्मविश्वास बढ़ाएं।
     
  • बच्चे के साथ समय बिताएं – अगर बच्चे अकेले सोते हैं और डरते हैं, तो उनके साथ लेटकर थोड़ा समय बिताएं। इस दौरान उन्हें अच्छी बात बताते रहें। जब बच्चा सो जाए, उसके बाद भी 25-30 मिनट के गैप पर कमरे में आते रहें, इससे बच्चा खुद को अकेला नहीं समझता और डर महसूस नहीं करता ।
     
  • बच्चों को निडर बनाएं – बच्चों को निडर बनाने के लिए उन्हें साहसिक कहानियां सुनाएं, ताकि उनके मन से डर बाहर निकल सके। उन्हें अंधेरे कमरे में ले जाकर हंसी का माहौल बनाएं।
     
  • डर का वैज्ञानिक एंगल भी बताएं – बच्चा अगर किसी चीज से डर रहा है, तो उसका डर निकालने के लिए जबरदस्ती उस चीज से उसका सामना न कराएं। डर निकालने के लिए उसे उस घटना का सही कारण बताएं, जैसे- अगर बच्चा तेज हवा और बारिश से डर रहा है तो उसे उसका वैज्ञानिक कारण बताएं, इससे बच्चे का डर जरूर खत्म होगा।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • 2
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Aug 14, 2018

vi 7 go lookup tâi@à

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Aug 16, 2018

Good

  • Reply
  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
Sadhna Jaiswal

आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट

गर्भावस्था

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}