पेरेंटिंग समारोह और त्यौहार

अपने बच्चे को जरूर बताएं नवरात्रि के 9 दिनों का महत्व

Deepak Pratihast
3 से 7 वर्ष

Deepak Pratihast के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Oct 09, 2018

अपने बच्चे को जरूर बताएं नवरात्रि के 9 दिनों का महत्व

हिंदू धर्म में नवरात्र व मां दुर्गा की पूजा का विशेष महत्व है। खासकर शारदीय नवरात्र का। इस बार शारदीय नवरात्र 10 अक्टूबर से शुरू हो रहा है। यह 18 अक्टूबर तक चलेगा। इस 9 दिनों के दौरान लोग पूजा पाठ व व्रत करेंगे। आप भी इसकी तैयारियों में लगे होंगे। पर आपके बच्चे शायद इस त्योहार (festival)  व व्रत (fast) के बारे में ज्यादा कुछ नहीं जानते होंगे। ऐसे में जरूरी है कि आप उन्हें नवरात्र के 9 दिनों की महिमा के बारे में जरूर बताएं। दरअसल नवरात्र के हर दिन की अलग महिमा व महत्व है। ये सकारात्मकता (positive), नारीशक्ति, न्याय-अन्याय, पवित्रता व अन्य कई चीजों के बारे में बताता है। आज हम इस ब्लॉग में आपको बताएंगे कि आखिर किस दिन का क्या महत्व (importance) है, ताकि आप अपने बच्चों को इसके हर पहलु के बारे में बता सकें।

नवरात्रि के 9 दिनों की क्या है मान्यताएं / Importance Of 9 Days Of Navaratri In Hindi

माना जाता है कि मां दुर्गा (durga) नवरात्र में अपने बच्चों कार्तिक और गणेश के साथ धरती पर आती हैं। 9 दिन के बाद वह वापस अपने ससुराल भगवान शिव के पास चली जाती हैं। मां के धरती पर आने को लेकर ही लोग उनकी आराधना करते हैं और 9 दिन की पूजा के बाद उनकी विदाई करते हैं। साल में दो बार नवरात्रि आती है। एक गर्मियों (summer) की शुरुआत में तो दूसरा सर्दियों की शुरुआत में। दरअसल मौसम में हो रहे ये बदलाव महत्वपूर्ण माने जाते हैं और बदलाव के इन्हीं दो पड़ावों को दैवीय शक्ति की पूजा के लिए सबसे बेहतर माना गया है। इसके अलावा यह भी माना जाता है कि दैवीय शक्ति पृथ्वी (earth) को वह ऊर्जा प्रदान करती है, जिससे वह सूर्य (sun) के चारों ओर चक्कर लगाती है। इसी से बाहरी मौसम में इस प्रकार के बदलाव आते हैं। प्रकृति में संतुलन बनाए रखने के लिए ही दैवीय शक्ति को धन्यवाद करने के लिए नवरात्रि मनाते हैं। इसमें पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा, दूसरे दिन ब्रह्मचारिणी देवी की पूजा, तीसरे दिन चंद्रघंटा की पूजा, चौथे दिन मां कुशमांडा की पूजा, पांचवें दिन देवी स्कंदमाता की पूजा, छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा, सातवें दिन मां कालरात्रि की पूजा, आठवें दिन महागौरी की पूजा व नौवें दिन सिद्धिरात्रि की पूजा की जाती है।

नवरात्रि के अलग-अलग महत्व

  1. मां को प्राथमिकता – नवरात्र में मां (mother) स्वरूप को प्राथमिकता दी जाती है। उसी की पूजा की जाती है। दरअसल एक बच्चा (child) अपनी मां में सारी खूबियां पाता है। ऐसे ही हम ईश्वर को देवी यानी मां स्वरूप में देखते हैं। पूरे विश्व में हिंदू धर्म ही ऐसा है, जहां ईश्वर में मातृत्व को इतना महत्व दिया गया है।
     
  2. सत्य पर असत्य की विजय – नवरात्र में मां शक्ति की पूजा करके तीनों गुणों में सामंजस्य बैठाकर वातावरण में सत्य का उत्कर्ष किया जाता है और असत्य पर सत्य की विजय के रूप में इसे मनाया जाता है।
     
  3. तीन-तीन अलग चरण – नवरात्रि में 9 दिनों तक देवी की पूजा (worship) की जाती है, लेकिन ये बात सबको नहीं पता कि आखिर 9 दिन पूजा क्यों की जाती है और इन 9 दिनों का चक्र क्या है। दरअसल नवरात्रि को तीन-तीन करके तीन चरणों में बांटा गया है। पहले तीन दिन मां दुर्गा के शक्ति स्वरूप की पूजा की जाती है। इसके बाद अगले तीन दिन धन और ऐश्वर्य की देवी लक्ष्मी की पूजा की जाती है। अंत के तीन दिन में विद्या की देवी सरस्वती की पूजा की जाती है।
     
  4. जीवन के तीनों गुणों को समझने का मौका –  मानव जीवन तीन गुणों (तमो गुण, रजो गुण, सतो गुण) से चलता है, लेकिन बहुत कम लोग इसे पहचान पाते हैं। पर नवरात्र हमें इन तीनों गुणों को पहचानने का मौका देता है। दरअसल नवरात्र के पहले तीन दिन तमो गुण के होते हैं, इसके बाद अगले तीन दिन रजो गुण के और आखिरी के तीन दिन सतो गुण के होते हैं। पूजा के दौरान इन तीनों गुणों को पाकर हम विजय की और बढ़ सकते हैं।
     
  5. शरीर को हर दोषों से मुक्त करने का भी मौका – नवरात्र के 9 दिनों तक लोग व्रत यानी उपवास व ध्यान भी करते हैं। उपवास से शरीर विष मुक्त होता है और वाणी शुद्ध होती है। इससे मस्तिष्क को भी आराम पहुंचता है। इसके अलावा ध्यान से मन एकाग्र होता है और नकारात्मक चीजें खत्म होती हैं।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • कमेंट
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}