• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
स्वास्थ्य

कैच-अप वैक्सीनेशन : आपके बच्चे के स्वास्थ्य का रक्षक

दीप्ति अंगरीश
0 से 1 वर्ष

दीप्ति अंगरीश के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Aug 25, 2020

कैच अप वैक्सीनेशन आपके बच्चे के स्वास्थ्य का रक्षक
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

कोरोना की वजह से हुए लॉकडाउन ने सबको किसी ना किसी रूप से प्रभावित किया है। इसके असर से छोटे बच्चों के पैरेंट्स भी अछूते नहीं हैं। हमारे सामने सबसे बड़ी समस्या वैक्सीनेशन को लेकर है। मेरी कई फ्रेंड्स बच्चों के वैक्सीनेशन को लेकर मुझसे कई तरह के सवाल पूछती हैं। कोरोना की वजह से इस तरह के सवालों की संख्या और बढ़ गई है। वैक्सीनेशन का समय निकल जाने की वजह से उनकी चिंताएं बढ़ गई हैं, वे जानना चाहती हैं कि अब उनके लिए क्या विकल्प है, क्या टाइम बीत जाने के बाद कोई टीका लगाया जा सकता है?

मैं दीप्ती हूं और मैं 7 महीने के बच्चे की मां हूं। लाखों अभिभावकों की तरह मेरे बच्चे का भी वैक्सीनेशन लॉकडाउन की वजह से समय पर नहीं हो पाया। मेरी समझ में नहीं आ रहा था कि मैं अब क्या करूं क्योंकि मैं अपने बच्चे के वैक्सीनेशन शेड्यूल का नियम से  पालन करती थी। अब जबकी वैक्सीनेशन मिस हो गए थे तो मैं चिंतित हो गई। फिर मेरे मन में अचानक विचार आया कि क्यों नहीं एक बार अपने डॉक्टर से इसके बारे में बात करूं और फिर जब मैंने अपने डॉक्टर को कॉल किया तो उन्होंने मेरी परेशानी दूर कर दी।अपने उन्हीं अनुभवों के आधार पर आज मैं आपको बताऊंगी कि आपके पास क्या विकल्प है और आपको क्या करना चाहिए।

वैक्सीनेशन को लेकर डॉक्टर से सलाह जरूरी

अगर लॉकडाउन की वजह से आप बच्चे का टीकाकरण नहीं करा पाईं हैं तो आप परेशान मत होइए, आपके पास कैच-अप इम्यूनाइजेशन वैक्सीनेशन शेड्यूल का विकल्प है। इसके तहत उन बच्चों को टीके लगाए जाते हैं जिनका समय पर टीकाकरण नहीं हो पाया है। हालांकि कैच-अप वैक्सीनेशन में एक तय समय तक का ही गैप चलता है। ऐसे में जरूरी है कि आप फौरन डॉक्टर से सलाह लें।

शिशु के पहले साल में वैक्सीनेशन का सही समय

 IAP इम्यूनाइजेशन कैलेंडर के अनुसार, बच्चे को जन्म के समय बीसीजी यानि बैसिलस कैलमेट-गुएरिन ( bacille Calmette-Guerin), ओरल पोलियो वैक्सीन और हैपेटाइटिस बी का टीका लगाया जाता है।

-जब बच्चा 6 हफ्ते का हो जाता है तो उसे एचबी 2(hepatitis B) , आईपीवी 2(Inactivated Polio Vaccine (IPV)),  डीटीपी-1(diphtheria, tetanus, and pertussis), एचआईबी 1(Haemophilus influenzae type b), पीसीवी 1(pneumococcal conjugate vaccine), रोटा 1 (Rotavirus) वैक्सीन लगाई जाती है।

-10 हफ्ते के बच्चे को एचबी 3(hepatitis B), आईपीवी 2(Inactivated Polio Vaccine (IPV)), डीटीपी-2, डीटीपी 2(diphtheria, tetanus, and pertussis), एचआईबी 2(Haemophilus influenzae type b), पीसीवी 2 (pneumococcal conjugate vaccine) रोटा-2 (Rotavirus) के टीके लगाए जाते हैं।

-14 हफ्ते के बच्चे को एचबी 4(hepatitis B), आईपीवी 3 (Inactivated Polio Vaccine (IPV)), डीटीपी-3 (diphtheria, tetanus, and pertussis), एचआईबी 3 (Haemophilus influenzae type b), पीसीवी 3 (pneumococcal conjugate vaccine), रोटा 3 (Rotavirus) टीके लगाए जाते हैं।

- 6 महीने के होने पर TCV (typhoid conjugate vaccine) यानि टाइफाइड और इंफ्लूएंजा के टीके लगाए जाते हैं।

-9 महीने के होने पर एमएमआर 1(Measles, Mumps, Rubella) और एमसीवी 1(Meningococcal conjugate vaccines) के टीके लगाए जाते हैं।

-12 महीने के होने पर हेप1(Hepatitis A), जेई 1 (Japanese encephalitis vaccine), एमसीवी 2 (Meningococcal conjugate vaccines) के टीके लगाए जाते हैं।

वैक्सीनेशन का कैच अप शेड्यूल क्या है?

जब मैंने अपने डॉक्टर से वैक्सीनेशन छूटने को लेकर सवाल किया तो उन्होंने बताया कि बच्चे को शुरू के 1 साल तक लगने वाले प्राइमरी वैक्सीन को मिस नहीं करना चाहिए। किसी मजबूरी वश अगर आप टीका नहीं लगवा पाईं हैं तो 2 हफ्ते के अंदर वैक्सीनेशन करा लें।

डॉक्टरों के अनुसार, 1 साल व इससे अधिक उम्र के बच्चों के वैक्सीनेशन में 3-4 महीने तक का गैप भी चल जाता है, लेकिन इनके मामले में भी समय का ध्यान रखना बहुत जरूरी है। हालाँकि ये सभी जानकारियां मुझे मेरे डॉक्टर से मिली है पर मैं आपको सलाह दूंगी की आप अपने डॉक्टर से बात करके और उनका सुझाव ले कर ही निश्चय करियेगा। डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

Disclaimer: A public awareness initiative by GlaxoSmithKline Pharmaceuticals Limited. Dr. Annie Besant Road, Worli, Mumbai 400 030, India. Information appearing in this material is for general awareness only and does not constitute any medical advice. Please consult your physician for any question or concern you may have regarding your condition. Please report adverse event with any GSK product to the company at india.pharmacovigilance@gsk.com.

NP-IN-GVX-OGM-200086, DOP Jul 2020.

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • कमेंट
+ ब्लॉग लिखें
Sadhna Jaiswal

आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट

गर्भावस्था

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}