• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
गर्भावस्था

प्रेग्नेंसी में घी खाना कितना सही

Deepak Pratihast
गर्भावस्था

Deepak Pratihast के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया May 12, 2021

प्रेग्नेंसी में घी खाना कितना सही
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

प्रेग्नेंसी (Pregnancy) के दौरान यूं तो गर्भवती को बहुत बातों का ध्यान रखना पड़ता है। दवाई (Medicine) से लेकर अपने शरीर व गर्भ में पल रहे बच्चे की देखभाल तक सबकुछ मैनेज करना पड़ता है। इस दौरान खानपान को लेकर भी महिलाओं के मन में कई सवाल चल रहे होते हैं। क्या खाना उनके और गर्भ के लिए फायदेमंद हो सकता है और क्या खाना नुकसानदायक, ऐसे कई सवाल गर्भवती को परेशान भी करते हैं। आम दिनों में जो घी (Ghee) फायदेमंद होता है, उसे प्रेग्नेंसी में लेना ठीक है या नहीं, इस सवाल को लेकर भी कुछ महिलाएं कंफ्यूज रहती हैं। अगर आप भी गर्भवती हैं तो आपके मन में ये सवाल है, तो आपकी परेशान हम दूर करेंगे। इस ब्लॉग में हम बताएंगे कि प्रेग्नेंसी में घी खाना फायदेमंद है या नुकसानदायक, गर्भावस्था में कितनी मात्रा में घी खा सकते हैं, प्रेग्नेंसी में घी खाने के क्या फायदे हैं और क्या नुकसान।

गर्भावस्था में घी खाएं या नहीं

गर्भावस्था के दौरान घी का सेवन गर्भवती को कई तरह के फायदे पहुंचाता है। अतः महिलाएं इस दौरान घी खा सकती हैं। हालांकि इसकी अधिकता होने पर यह नुकसान भी पहुंचा सकता है। ऐसे में आपको इसकी मात्रा सीमित रखनी होगी। बहुत ज्यादा घी खाने से बचना होगा।

कैसे और कितना घी का सेवन कर सकते हैं

डॉक्टरों व एक्सपर्ट के अनुसार, गर्भवती महिलाओं के लिए रोजाना 1-2 चम्मच घी का सेवन पर्य़ाप्त है। इससे ज्यादा घी आपको नुकसान पहुंचा सकता है। आप घी को चपाती, सब्जी व दाल के साथ मिक्स करके खा सकती हैं।

क्या हैं घी खाने के फायदे

जैसा कि हमने आपको बताया कि अगर सीमित मात्रा में घी का सेवन किया जाए तो गर्भवती को इससे कोई नुकसान नहीं पहुंचता। घी में वसा काफी मात्रा में होती है। इससे मेटाबॉलिज्म (चयापचय) बेहतर होता है। इसके अलावा घी में एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन, खनिज व ओमेगा फैटी एसिड भी प्रचूर मात्रा में होता है। आप चाहें तो इसे मक्खन या तेल की जगह खा सकती हैं। आइए जानते हैं गर्भावस्था में घी खाने के कुछ महत्वपूर्ण फायदों के बारे में।

  1. बच्चे का विकास – प्रेग्नेंसी की सेकंड ट्राइमेस्टर (दूसरी तिमाही) व थर्ड ट्राइमेस्टर (तीसरी तिमाही) में बच्चे का विकास शुरू होता है। डॉक्टर बताते हैं कि इस दौरान गर्भवती महिला को प्रतिदिन 300 कैलोरी की जरूरत पड़ती है। क्योंकि घी में कैलोरी काफी होती है, ऐसे में इसका सेवन फायदेमंद हो सकता है। यह गर्भ में बच्चे के शारीरिक व मस्तिष्क विकास में कारगर होता है।
     
  2. पाचन शक्ति को बनाता है मजबूत – अपने एंटीवायरल गुण की वजह से घी आपकी पाचन प्रणाली को मजबूत कर सकता है। दरअसल प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं में अपच और एसिडिटी की समस्या आम होती है। घी का सेवन आपको इस समस्या से भी दूर रखता है। अधिक मात्रा में फैटी एसिड होने की वजह से यह स्वास्थ्य संबंधी कई अन्य फायदे भी पहुंचाता है।
     
  3. पोषण में कारगर – प्रेग्नेंसी में शरीर को पोषक तत्वों की काफी जरूरत होती है। यही वजह है कि डॉक्टर आहार में ऐसी चीज शामिल करने को कहते हैं, जिनमें पोषक तत्व अधिक हो। घी आपके लिए एक विकल्प हो सकता है। इसका सेवन आपके शरीर को जरूरी पोषण दे सकता है।
     
  4. तनाव करता है दूर – गर्भावस्था में हार्मोनल बदलाव, शारीरिक बदलाव और मोटाबॉलिज्म बदलने से महिलाएं तनाव का शिकार हो जाती हैं। अगर आप रोजाना देसी घी का सेवन करेंगी तो नसों को आराम मिलेगा और अच्छे हार्मोन रिलीज होंगे, जो आपके तनाव को दूर करेगा।

क्या हैं गर्भावस्था में घी खाने के नुकसान

जब तक आप प्रेग्नेंसी में घी का सेवन सीमित मात्रा में करेंगी तब तक यह आपके लिए फायदेमंद होगा, लेकिन ज्यादा मात्रा में इसे खाना आपको कई नुकसान पहुंचा सकता है। आइए जानते हैं इससकी अधिकता पर होने वाले नुकसान के बारे में।

  1. वजन बढ़ने व मोटापे का खतरा –नप्रेग्नेंसी के आखिरी कुछ महीनों में गर्भवती की शारीरिक सक्रियता लगभग ख्तम हो जाती है। ऐसे में प्रेग्नेंसी के दौरान ज्यादा मात्रा में घी लेने से आपका व आपके बच्चे का वजन और मोटापा बढ़ सकता है और इसकी वजह से नॉर्मल डिलिवरी में परेशानी हो सकती है।
     
  2. सर्दी व कफ में दिक्कत – अगर आपको सर्दी और कफ है तो घी का सेवन न करें। इससे समस्या बढ़ सकती है
     
  3. अपच और लूजमशन – यहां आपको ये बात समझना होगा कि अधिक मात्रा में घी खाने से आपको अपच व लूज मोशन की शिकायत हो सकती है।
     
  4. प्रसव से जुड़ी समस्या – कई मामलों में देखा गया है कि प्रेग्नेंसी के अंतिम दिनों में जाकर महिलाएं थोड़ी लापरवाही बरतने लगती हैं। अगर आप भी ऐसा कर रहीं हैं तो इस आदत को छोड़ दें। गर्भावस्था के अंतिम दिनों में भी आपको सावधानी बरतकर रखनी चाहिए। दरअसल प्रेग्नेंसी के अंतिम दिनों में घी की अधिकता होने से सामान्य प्रसव होने पर दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।
     
  5. पेट से जुड़ी समस्या – दरअसल घी के अंदर लैक्सेटिव (पेट साफ करने वाला गुण) होता है। ऐसे में इसकी अधिक मात्रा होने पर पेट से जुड़ी समस्या हो सकती है जो बढ़कर गर्भाशय तक पहुंच सकती है और यह बच्चे के लिए नुकसानदायक हो सकता है।
     
  6. शहद के साथ न खाएं – ऊपर हमने आपको बताया है कि आप घी का सेवन किस-किस के साथ कर सकती हैं। यह बात ध्यान रखें कि कभी भी घी का सेवन शहद के साथ न करें। ऐसा करना आपको व आपके बच्चे को नुकसान पहुंचा सकता है।

इस मिथक पर न दें ध्यान

प्रेग्नेंसी में घी खाने को लेकर कई मिथक भी हैं। जैसे कई लोग कहते हैं कि अधिक घी खाने से योनि में चिकनाहट आती है। इस वजह से नॉर्मल डिलिवरी आसान हो जाती है। पर आपको यह समझना होगा कि इस बात को लेकर कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है। प्रेग्नेंसी में घी का सेवन करना गलत नहीं है। इसका सेवन गर्भवती को कई तरह के फायदे पहुंचाता है। अतः महिलाएं इस दौरान घी खा सकती हैं। हालांकि इसकी अधिकता होने पर यह नुकसान भी पहुंचा सकता है। ऐसे में आपको इसकी मात्रा सीमित रखनी होगी। बहुत ज्यादा घी खाने से बचना होगा।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • कमेंट
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें

टॉप गर्भावस्था ब्लॉग

Ask your queries to Doctors & Experts

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}