• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
खाना और पोषण

खाने को ना-ना करने वाले बच्चे अब हां कहेंगे, जानिए कैसे

दीप्ति अंगरीश
1 से 3 वर्ष

दीप्ति अंगरीश के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Dec 31, 2019

खाने को ना ना करने वाले बच्चे अब हां कहेंगे जानिए कैसे
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

शाम के समय में हमारी सोसाइटी के पार्क में बहुत रौनक रहती है। मैं भी अपनी बेटी पीहू के साथ पार्क में जरूर जाती हूं। इस बहाने पीहू का खेलकूद भी हो जाता है और सोसाइटी की अन्य महिलाओं के साथ मेरी गप्प-शप्प भी। हाल ही में हमने पीहू का तीसरा बर्थडे सेलेब्रेट किया है। मेरे पड़ोस में रहने वाली मिसेज शर्मा का बेटा येशु भी तकरीबन 4 साल का है। कल की ही बात है, मिसेज शर्मा ने अपनी परेशानी मेरे साथ शेयर करते हुए कहा कि मेरा बच्चा अच्छे से खाना खाता ही नहीं है। मिसेज शर्मा ने कहा कि कई बार तो मुझे उसको खाना खिलाने में 2 घंटे लग जाते हैं। उनकी  बातों को सुनकर मुझे अपनी आपबीती याद आ गई। पीहू भी तो बिल्कुल ऐसे ही किया करती थी। कई बार ऐसा लगता है जैसे कि बच्चे को खाना खिलाने का मतलब है मैराथन में भाग लेना। इसके बाद मैंने कुछ नायाब तरीके ढ़ूंढ़ना शुरु किया, कुछ ऐसे तरकीबों के बारे में सोचना शुरु किया ताकि मैं अपनी बच्ची को अच्छे से और पौष्टिकता से भरपूर खाना खिला सकूं। अपने उन्हीं अनुभवों को मैं आज आपके संग साझा करना चाहती हूं।

ऐसे खिलाएं 2-5 साल के बच्चे को पौष्टिक खाना

नए-नए व्यंजनों को ट्राई करें

अगर आपको प्रत्येक दिन एक जैसा खाना खाने को मिले तो क्या आप बोर नहीं हो जाएंगी? यही बात छोटे बच्चे पर भी लागू होती है।  टेस्ट का आपको खास ख्याल रखना चाहिए। अब अगर रोटी की बात करूं तो मैंने रोटी पर भी कुछ प्रयोग किए। अगर एक दिन आंटे में पालक की साग मिलाकर रोटी बनाया तो दूसरे दिन  चना, मूंग, उड़द, मेथी, आलू, गोभी, मूली, प्याज, पनीर इत्यादि भरकर भरमा रोटी भी बनाया। घी युक्त मेथी पराठा, लौकी पराठा, दाल पूरी, सत्तू पराठा जैसे रेसिपी को भी मैंने ट्राई किया ताकि मेरे बच्चे को स्वादिष्ट भी लगे और उसको पर्याप्त मात्रा में पौष्टिकता भी मिल सके। मैंने गोभी, शिमला मिर्च, मटर, आलू एवं अन्य सब्जियों को मिलाकर खिचड़ी बनाया और पीहू को ये अच्छा भी लगा।   

बच्चे को दें फूड च्वाइस

मान लें कि आपके बच्चे को सेब का स्वाद अच्छा नहीं लगता है तो आप उसे गोल्डन ग्रीन ऐप्पल या नाशपाती या किशमिश दें। इन फलों में आयरन की प्रचुरता होती है। इसके अलावा आप अपने बच्चे को सेरेग्रो दें। इस तरह के विकल्पों से बच्चे को फाइबर, कार्बोहाड्रेट, प्रोटीन, विटामिन ए, कैलशियम, आयरन, सोडियम जैसे पोषक तत्व मिल जाएंगे। अपने बच्चे के स्वाद को देखते हुए आप इस तरह के ही अन्य फूड आप्शन को खोजें ।

कार्टून वाली कटलरी

बच्चे की खाने की बाउल, प्लेट, चम्मच व गिलास कार्टून वाली रखें, बड़ों से अलग। यकीन मानिए बच्चा इसमें चाव से खाएगा और खाना खिलाना टास्क नहीं होगा।

एक कटोरी सेरेग्रो

हम अपने बच्चे को अपने हिसाब से तो सर्वश्रेष्ठ आहार देना चाहते हैं लेकिन ये बात भी उतनी  ही सच है कि बच्चे खाना खाने के समय में बहुत ज्यादा आनाकानी करते हैं।मुझे इस बात की चिंता रहती है कि मेरे बच्चे को संपूर्ण पोषण मिल रहा है कि नहीं, इसलिए मैंने घर के खाने के साथ ही बच्चे को एक कटोरी सेरेग्रो भी नियमित रूप से दिया। मल्टीग्रेन, दूध और फलों से युक्त सेरेग्रो में प्रोटीन, कैल्शियम, आयरन, विटामिन A, विटामिन C, विटामिन D, विटामिन B6, विटामिन B12, समेत कई और विटामिन्स और मिनरल्स शामिल हैं। सबसे बड़ी बात कि इसका स्वाद भी मेरे बच्चे को बहुत अच्छा लगता है। मैं अब उसके न्यूट्रिशन को लेकर निश्चिंत हूं।

उम्मीद करती हूं कि मेरा ये अनुभव आपके भी जरूर काम आएगा। इस तरह के कुछ और टिप्स अगर आपने आजमाएं हैं तो उन्हें भी आप जरूर कमेंट्स में साझा करें।

Disclaimer-  This Blog is supported by Nestle Ceregrow. A child needs more nutrition than an adult. Each bowl of Ceregrow contains the goodness of grains, milk & fruits and makes up for the lack of sufficient nutrition.

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • 11
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Jan 10, 2020

Ceregrow तो सच में अच्छा है,वैसे आपने बच्चो को रिझाने के तरीके से समझाए है. ये बहुत ही आवश्यक है पैरेंट के लिए जानना |

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Jan 10, 2020

नए-नए व्यंजनों को ट्राई करना जरूरी भी है मेरी जैसी माँ के लिए. | अगर बच्चे आज नहीं खाये ढंग से तो आगे उनकी आदत बदलने में प्रॉब्लम होती है

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Jan 17, 2020

Accha hai

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Mar 01, 2020

kuch nai hota mane ye sav tray kiya lakin meri beti nai khati

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Mar 01, 2020

kuch nai hota mane ye sav tray kiya lakin meri beti nai khati

  • Reply | 2 Replies
  • रिपोर्ट

| Mar 31, 2020

हा

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Mar 31, 2020

Ha sahi bat h bacche khate hi nahi h chahe kuch vi kar lo aana kani kartehi h khane me mai vi paresan rahti hu mera vi beta khata nahi h kuch srif milk pita h jab ki 5 uska start ho gaya h

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Mar 01, 2020

kuch nai hota mane ye sav tray kiya lakin meri beti nai khati

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Mar 01, 2020

kuch nai hota mane ye sav tray kiya lakin meri beti nai khati

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Mar 01, 2020

kuch nai hota mane ye sav tray kiya lakin meri beti nai khati

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Mar 18, 2020

Baby ko times se bhi khana khilaye

  • Reply
  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें

टॉप खाना और पोषण ब्लॉग

Sadhna Jaiswal

आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट

गर्भावस्था

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}