Parenting Health and Wellness

क्या आपका बच्चा आपको सोने में तंग करता है? यह पांच उपाय आपकी करेंगे मदद !

Parentune Support
3 to 7 years

Created by Parentune Support
Updated on Oct 27, 2017

क्या आपका बच्चा आपको सोने में तंग करता है यह पांच उपाय आपकी करेंगे मदद

अगर, बच्चे को बिस्तर पर अच्छी तरह सुलाने के बाद भी वह जग रहा है, तो यह ध्यान रखें कि बच्चा कितनी आसानी से सो जाता है, यह काफी हद तक उसकी उम्र पर भी निर्भर करता है। और आपको शायद उसके विकास के चरण के अनुसार खुद को व्यवस्थिति करने की जरुरत होगी।

अगर, आपका बच्चा लगातार रात में उठ रहा है, तो इससे आपकी नींद का पैटर्न भी अव्यवस्थित हो सकता है। बच्चों की नींद की समस्या के कारण माँ को अवसाद का खतरा बना रहता है।ऐसी स्थिति से बचने के लिए ये 5 उपाय काफी लाभदायक हो सकते हैं।

1. अगर, बच्चे की नींद संबंधी दिक्कतें आपकी नींद को बाधित कर रही हैं और आपको लगता है कि इससे निपटना मुश्किल हो रहा है, तो डॉक्टर से बात अवश्य करें क्योंकि नींद हर उम्र के इंसान के लिए जरुरी है। अच्छी नींद आपको सुबह उठते समय तरो ताज़ा रखती है। बच्चों का रात में जगने का कोई विशेष कारण नहीं होता, वे किसी भी वजह से रातों को उठ सकते हैं। अगर आपका बच्चा पूरी रात भरपूर नींद नहीं लेता और बीच- बीच में जागता रहता है, तो ऐसा केवल आपके साथ नहीं है। अगर, बच्चे की तबियत ठीक न हो, तो भी उसके नींद की दिनचर्या अस्त-व्यस्त हो सकती है जिससे आपकी नींद भी खराब हो सकती है। हो सकता है वह रात में सोने के लिए तैयार न हो या फिर रात में ऐसे समय उठने लग सकता है जब वह सामान्यतः सोता है। बच्चे को सुलाने के लिए बहुत सी अलग- अलग रणनीतियाँ हैं। शिशु को रोते रहने देने से लेकर उसे अपने साथ सुलाने तक बहुत सी नीतियां आपके सामने होती हैं। निर्णय आपको करना है कि आपके और आपके परिवार के लिए कौन सी रणनीति उचित रहेगी।

2. आप बच्चे के नींद के पैटर्न को नियमित करने से आरंभ करें। बच्चे को शुरुआत से ही सोने की अच्छी आदतें सिखाएं। यह भी ध्यान में रखें कि आप चाहे कोई भी रणनीति अपनाएं, वह तभी काम करेगी जब आप लगातार इसका पालन करें। निश्चित दिनचर्या का पालन करें। अगर आप सारे दिन बच्चे की दिनचर्या एक समान रखें तो रात को बच्चे के सोने का समय तय करने और उसे सुलाने में ज्यादा मुश्किल नहीं होगी। वह आराम से सो जाएगा। अगर बच्चा हर दिन समान समय पर सोए, खाए-पिए, खेले और रात में भी उसे समान समय पर सुलाया जाए, तो पूरी संभावना रहती है कि बच्चा बिना किसी परेशानी के आसानी से सो जाएगा।

3. दिन के समय दूध पिलाते समय या भोजन कराते समय बच्चे से बातें करें और माहौल को उत्साहपूर्ण बनाए रखें। वहीं, रात में दूध पिलाने के समय एकदम शांति होनी चाहिए। इससे आपके बच्चे को अपने शरीर को उसी तरह ढालने में मदद मिलेगी और वह दिन व रात का अंतर समझ सकेगा।


4. माता- पिता अक्सर सोचते हैं कि बच्चे को स्वयं सोना सिखाने के इस तरीके में उसे अकेले रोते हुए छोड़ देना होता है। उसे तब तक रोने दिया जाता है, जब तक वह थककर सो न जाए। मगर, बच्चे को रोने देने की किसी भी प्रक्रिया का मतलब यह है कि बच्चे को निश्चित अवधि तक रोने दिया जाए, जो कि दो से लेकर 10 मिनट से लंबी न हों। उसके बाद उसे संभाला जाना चाहिए। अगर, बच्चे को लिटाने के बाद वह रोना शुरु करता है, तो उसके पास जाएं। उसे आराम से थपथपाएं और बताएं कि सब ठीक है, और अब आपके सोने का समय हो गया है। बच्चे के साथ सौम्यता से पेश आएं, मगर अटल रहें। कमरे से बाहर आ जाएं। एक निश्चित अवधि तक इंतजार करें, करीब दो से पांच मिनट तक, और इसके बाद फिर से बच्चे को देखें। ऐसा बार- बार तब तक करें, जब तक कि बच्चा सो न जाए। बस बच्चे को एक बार से दूसरी बार देखने का अंतराल बढ़ाती जाएं।

5. अगर आप बच्चे को अपने पलंग पर ही सुलाती हैं, तो उसे आराम और राहत दें, ताकि वह समझ सके कि अब सोने का समय है। बच्चे के साथ लेट जाएं और उसे प्यार से सीने से लगाएं। खुद भी कुछ देर आंखें बंद करके लेट जाएं, ताकि बच्चे को लगे कि आप भी सो गई हैं। शांत रहें, ताकि शिशु जान सके कि अब सोने का समय है। कभी आप और कभी आपके पति बच्चे को सुलाएं, ताकि आप दोनों ही बच्चे के सोने में मदद कर सकें। जब आपका बच्चा थोड़ा बड़ा हो जाता है और रात के समय दूध पीना बंद कर देता है, तो वह आपके पति के द्वारा सुलाए जाने पर भी सो सकता है। अगर आप संयुक्त परिवार में रहती हैं, तो परिवार के अन्य सदस्य भी रात में बच्चे को बारी- बारी से सुला सकते हैं। जब बच्चा यह समझ जाएगा कि रात के समय उसे दूध नहीं मिलेगा, तो शायद उसे सोने के लिए किसी ओर की जरुरत ही न हो!

कहने का तात्पर्य यह है कि बच्चे की नींद के साथ-साथ आपकी नींद भी जरूरी है इसलिए बच्चे की दिनचर्या को नियमित बनाया जाना चाहिए तथा स्वयं को भी इसी दिनचर्या के अनुसार ढालना चाहिए। समस्या का सामना करते समय माता-पिता दोनों के बीच अच्छा समन्वय होना चाहिए।

  • 9
Comments()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Apr 24, 2018

R f2f j

  • Report

| Feb 17, 2018

;K; nk a2oo9w*#Jj*0pnOp9

  • Report

| Feb 17, 2018

;K; nk a2oo9w*#Jj*0pnOp9

  • Report

| Jan 19, 2018

Meri beti 1. 5 year ki h... Wo khane k liye bahut pareshan Karti h dudh bhi thik se nhi piti... Jabarsasti pilao to vomiting kar deti h main use bowl and spoon se pilati hu poem dikha kar... Kyu ki w/o uska colour dekh k he bhag jati h isliye glass ki adat nhi dal pa rahi... aur pura time meri godi se nhi utarti main bhi pura din use le kar irritate ho jati hu sath he ghar ka kam kar k bhi bahut thak jati hu.... Mere in laws mushkil se 10 min. Or 1/2 hour pakadte h isse jyada nhi wo bhi tab pakadte h jab main Kuch aur kam kar rahi hu.. ya khana bna rahi hu tab... Main kitchen se thak k nikalti hu to bache ko pakadna padta h... Kya karu rat ko bhi meri beti breastfed ki wajah se sone nhi deti.. main hamesha bimar feel karti hu... Husband se and in laws se bat bhi kar k dekha par ye samjhte nhi h koi help nhi karte k 10 min. Bhi extra pakad le...

  • Report

| Jan 01, 2018

same problem mujhe bhi ha.. meri beti one and half year ki ha vo raat Main four five time jagati ha.. plz help me

  • Report

| Nov 01, 2017

My baby is 4year old n he don't want to sleep... means neend AA ri Hoti hai lakin wo Sona hi Ni chahta... he says muje Ni Sona..... room me sone Ni Jaana..... bt I knowuski eyes close ho ri hai bt always says no. i don't want to sleep... what to do pl help

  • Report

| Nov 01, 2017

Mera baby 1. 5 year ka h wo mujhe baar baar raat ko doodh k liye uthata h meri neend puri ni ho pati subah job me bhi jana hota h

  • Report

| Nov 01, 2017

Mera baby 1. 5 year ka h wo mujhe baar baar raat ko doodh k liye uthata h meri neend puri ni ho pati subah job me bhi jana hota h

  • Report

| Oct 31, 2017

Hello meri beti 2 year ki hei... mei usko ghar mei padane ki kese shuruat kroo... kuchh bhi sikhana chahti hu tou wo dusre games mei lg jati hei.

  • Report
+ START A BLOG
Top Parenting Blogs
Loading
Heading

Some custom error

Heading

Some custom error