पेरेंटिंग

क्या आपका बच्चा स्कूल में अन्य बच्चों को डराता-धमकाता है

Parentune Support
3 से 7 वर्ष

Parentune Support के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Jan 02, 2018

क्या आपका बच्चा स्कूल में अन्य बच्चों को डराता धमकाता है

हर पैरेंट्स चाहते हैं कि उनका बच्चा सबसे समझदार, संस्कारी व काबिल बने। इसके लिए वह बच्चे को बेहतरीन परवरिश देने की कोशिश भी करते हैं। पर कई मामलों में पैरेंट्स की तमाम कोशिशों के बाद भी बच्चे का बिहेवियर खराब हो जाता है। उनकी परफॉर्मेंस भी ठीक नहीं रहती। अक्सर पड़ोसियों, स्कूल व रिश्तेदारों से बच्चे की मारपीट, डराने-धमकाने की व अन्य  शिकायत भी आती है। पड़ोसियों व रिश्तेदारों की शिकायत को तो पैरेंट्स एडजेस्ट कर लेते हैं, लेकिन स्कूल से आई शिकायत अभिभावक को परेशान कर देती है। अगर आपका बच्चा भी शरारती है और स्कूल में साथियों के साथ मारपीट करता है, उन्हें डराता-धमकाता है तो इसे ध्यान से पढ़ें। हम बता रहे हैं कि आखिर इस स्थिति में आपको क्या करना चाहिए।

इन बातों का रखें ध्यान
 

1. खुश न हों - अक्सर देखने में आता है कि जब स्कूल से बच्चे के मारपीट करने की खबर आती है, तो कुछ पैरेंट्स इस बात पर खुश होते हैं कि उनका बच्चा कमजोर नहीं बहादुर है। वह मार खाकर नहीं आता है, बल्कि दूसरे बच्चों को मारकर आता है। इसके लिए वे अपने बच्चे की तारीफ भी करते हैं। उसे शेर कहकर भी बुलाते हैं। अगर आप भी ऐसा कर रहे हैं, तो इस आदत को बदल डालिए। इससे उसे लगेगा कि आप उसके साथ खड़े हैं और आगे भी रहेंगे। इस स्थिति में आपका बच्चा और बिगड़ता चला जाएगा। 
 

2. शिकायत करने वालों से न लड़ें -  कुछ पैरेंट्स ऐसे भी होते हैं, जो स्कूल में बच्चे के मारपीट करने की शिकायत लेकर आने वाले दूसरे अभिभावकों या टीचरों से ही लड़ने लगते हैं। लड़ते हुए वह कहते हैं कि हमारा बच्चा ऐसा कर ही नहीं सकता। आप यूं ही उस पर आरोप लगा रहे हैं। इस तरह करने से भी बच्चे का मनोबल बढ़ता है और वह आगे भी मारपीट जारी रखता है। अगर आप चाहते हैं कि आपका बच्चा इस तरह की हरकत न दोहराए, तो आप कभी भी शिकायत लेकर आने वाले से न लड़ें। खासकर बच्चे के सामने। शिकायत लेकर आने वाले से कहें, कि आप बच्चे को समझाएंगे।
 

3. झूठा डर न दिखाएं – स्कूल से मारपीट की शिकायत आने पर कुछ पैरेंट्स बच्चे को झूठा डर दिखाते हैं। वे कहते हैं कि अब अगर दूसरे बच्चों को मारोगे, तो एंजेक्शन लगवा दूंगी, तुम्हें राक्षष से पकड़वा दूंगी। पर ये डर ज्यादा दिन बना नहीं रहता, जब बच्चे को पता लग जाता है कि ये सब चीजें नहीं हो सकतीं, तो वह और उदंडता करने लगता है। ऐसे में बेहतर होगा कि आप बच्चे को झूठा डर न दिखाएं।
 

4. बच्चे को समझाएं – स्कूल में साथी के साथ मारपीट की शिकायत आने पर बच्चे को समझाएं कि अगर आप ऐसे ही मारपीट करोगे, तो स्कूल में न तो कोई आपसे बात करेगा और न ही दोस्ती करेगा। जब आप उसे उसकी गलती के इस तरह के नतीजे बताएंगी तो वह आगे से ऐसी गलती नहीं करेगा।
 

5. अलग सजा दें – शिकायत आने पर आप बच्चे को सजा जरूर दें, लेकिन ये सजा मारपीट या डांट न हो। सजा के रूप में आप कुछ घंटे बच्चे से बात करना बंद कर दें। उससे कहें कि अगर तुम आगे ऐसा करोगे, तो पसंद का खाना नहीं मिलेगा। इस तरह की सजा सुनकर वह फिर ऐसी गलती करने से बचेगा।
 

6. दोस्ती का महत्व बताएं – इसके अलावा आप बच्चे को दोस्ती का महत्व बताएं। उसे समझाएं कि स्कूल में सबसे दोस्ती करके रहना चाहिए। दोस्ती से क्या फायदे होते हैं, सबसे लड़ने झगड़ने से क्या नुकसान होता है। जब आप उसे ये सारी बातें समझाएंगे, तो आगे से वह मारपीट शायद ही दोहराएगा। 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • कमेंट
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}