शिशु की देख - रेख स्वास्थ्य और कल्याण

क्या आपका बच्चा सही कलर नहीं पहचान पाता, इसे पढ़ें

Parentune Support
1 से 3 वर्ष

Parentune Support के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Jul 23, 2018

क्या आपका बच्चा सही कलर नहीं पहचान पाता इसे पढ़ें

प्रतियोगिता के इस दौर में आज हर पैरेंट्स चाहते हैं कि उनका बच्चा सबसे होशियार व पढ़ने में तेज बने। इसके लिए अभिभावक पहले साल से ही बच्चे को पढ़ाने लग जाते हैं। कई तो 2 साल की उम्र में ही बच्चे को प्ले स्कूल में एडमिशन दिला देते हैं। प्ले स्कूल काफी हद तक बच्चों में समझ विकसित करता है, उन्हें खेल-खेल में बहुत कुछ सिखा देता है। इसमें गिनती से लेकर रंगों की पहचान आदि शामिल हैं। पर हर बच्चा कम उम्र में ही सब कुछ सीख जाए, ये जरूरी नहीं। कम उम्र व दिमाग ज्यादा विकसित न होने के कारण सभी बच्चे हर चीज को इतनी जल्दी नहीं समझ पाते। अगर आपका बच्चा 2-3 साल का हो चुका है और वह सही कलर नहीं पहचान पा रहा है, तो हम आपको बता रहे हैं कुछ तरकीब जिसकी मदद से आप उसको रंगों की पहचान करना सिखा सकते हैं।
 

इन बातों पर करें अमल
 

  1. विडियो की लें मदद – आजकल यूट्यूब पर छोटे बच्चों को पढ़ाने के लिए कई तरह के विडियो उपलब्ध हैं। इसमें खिलौनों की मदद से गिनती के साथ ही रंगों की पहचान करना भी सिखाया जाता है। आप भी इस तरीके को अपनाकर अपने बच्चे के अंदर रंगों की पहचान की समझ पैदा कर सकते हैं। विडियो देखने के दौरान बीच-बीच में आप उसे अलग-अलग रंगों के बारे में बताते भी रहें, इससे और आसानी होगी।  दरअसल बच्चे खिलौनों के साथ खेलते-खेलते बातों को आसानी से समझ जाते हैं।
     
  2. रंगीन किताबें दें – आप बच्चे को अलग-अलग रंगों वाले फोटो व चित्र वाली रंगीन किताबें दे सकते हैं। किताब देकर उसे हर चित्र को दिखाते हुए उस रंग के बारे में बताएं। तस्वीरों को देखकर वह जल्दी व अच्छे से याद कर लेंगे। इसके अलावा रंगीन चित्रों की मदद से समझाने का ये फायदा भी होगा कि वह उस कलर को दोबारा आसानी से पहचान लेंगे।
     
  3. सवाल पूछते रहें – अगर आप चाहते हैं कि आपका बच्चा कोई भी चीज जल्दी सीखे, तो इसके लिए आपको भी थोड़ी कोशिश करनी होगी। आप बीच-बीच में बच्चे से उस टॉपिक से संबंधित सवाल पूछते रहें। अगर आप उसे रंगों की पहचान करना सिखा रहे हैं, तो खेलते कूदते या बात करते हुए उसे अलग-अलग चीजों को दिखाते हुए सावल पूछ सकते हैं कि ये कलर कौन सा है, इस तरह बीच-बीच में सवाल पूछने से वह जवाब देते-देते जल्दी ही निपुण हो जाएगा। इसके अलावा सिर्फ सवाल ही नहीं, बच्चों के सवालों का भी जवाब देते रहें। कभी उसके सवालों को टाले नहीं। अचानक पूछे हुए सवालों के जवाब को बच्चे जल्दी याद कर लेते हैं।
     
  4. नए कपड़े देते वक्त भी रंगों के बारे में समझाएं – बच्चे नए कपड़े पाकर काफी खुश हो जाते हैं। आप इस पल का भी बेहतर इस्तेमाल कर सकते हैं। जब आप बच्चे को नया कपड़ा देते हैं, तो उन्हें उस कपड़े से संबंधित रंग के बारे में बताएं। इससे उस कलर की पहचान बच्चे के दिमाग में आसानी से बैठ जाएगी। 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • 1
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.

| May 22, 2018

ले ढेबर अआइइइउउ7एऐहौऔपफबभभभभभभबजूऊजूऊजजजछछछभठसथशथभभणण घाघ

  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}