• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
स्वास्थ्य

लाफ्टर के हैं अनेको फायदे

Navneet Bahri
11 से 16 वर्ष

Navneet Bahri के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Jun 23, 2020

लाफ्टर के हैं अनेको फायदे
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

आज भागदौड़ भरी जिंदगी में न सिर्फ बड़े बल्कि बच्चे भी तनाव में रहने लगे हैं। बच्चों में तनाव की वजह कम उम्र में पढ़ाई का अधिक बोझ, पैरेंट्स की अधिक अपेक्षाएं व कुछ अन्य कारण होते हैं। इन सब वजहों से हंसने व खेलने की उम्र में भी बच्चे गंभीर बने रहते हैं। अगर आपका बच्चा भी कुछ इस तरह की दिक्कत से गुजर रहा है, तो जरूरी है कि आप उसे हंसी के फायदे बताते हुए उसे खुश रहने के लिए प्रेरित करें। बच्चे को समझाएं कि दिल खोलकर हंसने वाले  बीमारी से दूर रहते हैं और जो बीमार हैं वे जल्दी ठीक हो जाते हैं। हम आपको बता रहे हैं कुछ ऐसे ही तरीके, जिनकी मदद से आप अपने बच्चे को हंसी के फायदों के बारे में बताते हुए उन्हें हंसने के लिए प्रेरित कर सकते हैं।

इस तरह बच्चे को बताएं हंसने के लाभ

  1. ब्लड सर्कुलेशन रहता है ठीक –  हंसने का संबंध शरीर के रक्त संचार से होता है। कुछ साल पहले यूनिवर्सिटी ऑफ मेरीलैंड की ओर से किए गए शोध में कुछ प्रतिभागियों को 2 समूहों में बांटा गया था। पहले समूह को कॉमेडी प्रोग्राम दिखाया गया और दूसरे समूह को ड्रामा। इसके बाद पाया गया कि कॉमेडी प्रोग्राम देखकर जो प्रतिभागी खुलकर हंस रहे थे, उनका रक्त संचार ड्रामा देखने वाले प्रतिभागियों की तुलना में बेहतर था।
     
  2. दर्द में मिलता है आराम – रिसर्च में ये भी पाया गया है कि स्पोंडलाइटिस, कमर में दर्द व अन्य दर्द में हंसने से काफी आराम मिलता है। डॉक्टर भी अक्सर लाफिंग थेरेपी की सहायता से इस तरह के मरीजों को आराम दिलाने की कोशिश करते हैं। 10 मिनट तक ठहाके लगाकर हंसने से आपको 2 घंटे तक दर्द से आराम मिल सकता है। 
     
  3. तनाव होता है दूर – दिल खोलकर हंसने से आपका सारा तनाव खत्म हो जाता है। तनाव दूर होने से इससे होने वाली मानसिक व शारीरिक समस्याएं भी दूर हो जाती हैं।
     
  4. बढ़ती है प्रतिरोधी क्षमता – हंसने से शरीर की प्रतिरोधी क्षमता बढ़ती है, जो शरीर को रोगों से लड़ने में मददगार साबित होती है। हंसने के दौरान शरीर में एंटी वायरल व संक्रमण को रोकने वाली कोशिकाएं बढ़ जाती हैं।
     
  5. दिल बनता है मजबूत – हंसने से रक्त संचार बेहतर होता है और शरीर से एंडोर्फिन नामक रसायन निकलता है, जो दिल को मजबूत बनाता है। कई रिसर्च में ये सामने आया है कि हंसने से हार्ट अटैक की संभावना भी कम हो जाती है।
     
  6. मिलती है सकारात्मक ऊर्जा – हंसने से आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। खुलकर हंसने से मांसपेशियां कम से कम 45 मिनट तक रिलेक्स हो जाती हैं। वहीं सकारात्मक रहकर आप जो काम करते हैं, वह काफी बेहतर होता है। हंसने से पूरी बॉडी रिलेक्स हो जाती है।
     
  7. प्रतिरक्षातंत्र को करता है मजबूत – रिसर्च के अनुसार, हंसने से शरीर में ऑक्सीजन अधिक मात्रा में मिलती है। ऑक्सीजन की उपस्थिति में कैंसर वाली कोशिकाएं और कई अन्य हानिकारक बैक्टीरिया नष्ट हो जाते हैं। इससे शरीर में प्रतिरक्षातंत्र काफी मजबूत होता है।
     
  8. बढ़ती है खूबसूरती – जोरदार हंसी कसरत का भी काम करती है। खुलकर हंसने से चेहरे की मांसपेशियों की एक्सरसाइज होती है, जिससे चेहरे पर झुर्रियां नहीं पड़तीं और चेहरा खूबसूरत बनता है। डॉक्टरों के अनुसार जो लोग ज्यादा हंसते हैं, वे लंबे समय तक युवा दिखते हैं।
     
  9. फिटनेस बनाए बेहतर – हंसी से आपकी फिटनेस भी बेहतर रहती है। जो लोग खुलकर हंसते हैं, वे बुढ़ापे में तेजी से चलते हैं और ज्यादा सक्रिय रहते हैं। उन्हें रोजमर्रा के कामों में भी कोई दिक्कत नहीं आती है। रोजाना 1 घंटा हंसने से 400 कैलोरी ऊर्जा की खपत होती है, इससे मोटापा भी कंट्रोल रहता है।
     

ऐसे होता है हंसी का असर

हमारे शरीर में कुछ स्ट्रेस हार्मोन होते हैं, जैसे कि कॉर्टिसोल, एट्रेनलिन आदि। जब हम तनाव में आते हैं, तो ये हार्मोन बॉडी में एक्टिव हो जाते हैं। इनका लेवल बढ़ने पर घबराहट बढ़ने लगती है और सिर दर्द, सर्वाइकल, माइग्रेन, कब्ज व शुगर लेवल बढ़ने जैसी दिक्कत होने लगती है। पर जब हम हंसते हैं, तो इससे कॉर्टिसोल व एड्रेनलिन कम होते हैं और एंडॉर्फिन, फिरॉटिनिन जैसे हार्मोन बढ़ने लगते हैं। इनके बढ़ने से मन उल्लास व उमंग से भर जाता है और दर्द, एंग्जाइटी कम होती है। इम्यून सिस्टम भी बेहतर होता है। 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • कमेंट
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें
Sadhna Jaiswal

आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट

गर्भावस्था

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}