• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
स्वास्थ्य खाना और पोषण

क्या हैं बच्चों में हीमोग्लोबिन कम होने के कारण, लक्षण और स्तर बढ़ाने के उपाय ?

Prasoon Pankaj
1 से 3 वर्ष

Prasoon Pankaj के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Sep 15, 2020

विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

हमारे शरीर में हीमोग्लोबिन का क्या महत्व होता है इसके बारे में आपको जरूर जानकारी होगी। हीमोग्लोबिन का स्तर कम होने से अनेक तरह की परेशानियां हो जाती है। जैसे ही हमें पता चलता है कि हमारे शरीर में हीमोग्लोबिन का स्तर कम हो गया है तो उसके बाद दवा से लेकर डाइट और अनेक प्रकार के घरेलु नुस्खे हम लोग आजमाना शुरू कर देते हैं लेकिन इसके साथ ही आपको अपने बच्चे के हीमोग्लोबिन बढ़ाने के बारे में भी ध्यान रखना चाहिए। आज हम आपको इस ब्लॉग में बताने जा रहे हैं कि बच्चे के शरीर में खून की कमी होने के क्या लक्षण होते हैं और इसके अलावा किन आसान उपायों से आप बच्चे के हीमोग्लोबिन को बढ़ा सकते हैं।

बच्चों में हीमोग्लोबिन कम होने के कारण और लक्षण / Causes & Symptoms of Low Hemoglobin in Kids in Hindi

बच्चे के शरीर में आयरन यानि लौह तत्व की कमी होने के चलते खून की कमी हो सकती है। इसके अलावा जिन बच्चों का जन्म समय से पूर्व हो जाए उनके शरीर में भी हीमोग्लोबिन कम होने की संभावनाएं बनी रहती है। [ आपको पढ़ना चाहिए : बच्चों का दिमाग़ (मेमोरी पावर) तेज़ करने के लिए क्या होना चाहिए आहार?]

  • बच्चे के नाखून व होठों पर ध्यान दें। शरीर में खून की कमी होने पर नाखून का रंग सफेद नजर आता है।
  • आंखों की भीतरी त्वचा और हथेली का रंग सफेद हो जाना। [जानें शिशु के आंख रगड़ने का राज़?]
  • खेलकूद के दौरान जल्दी थक जाना
  • चेहरे का रंग सफेद या हल्का पीला हो जाना

क्या हैं बच्चों में हीमोग्लोबिन स्तर बढ़ाने के उपाय?/ Home Remedies to Increase Hemoglobin in Hindi  

आपको जानकर हैरानी होगी कि आंकड़ों के मुताबिक तकरीबन 7 फीसदी से ज्यादा बच्चे अपने देश में एनीमिया यानि खून की कमी जैसी समस्या से पीड़ित हैं। 6 महीने से ज्यादा उम्र के बच्चों के शरीर में अगर हीमोग्लोबिन कम है तो आप इन उपायों को जरूर आजमाएं।

  • सेब - इसकी खूबियों से आप भली-भांति परिचित हैं। सेब के बारे में कहा भी जाता है कि अगर आप प्रतिदिन एक सेब का सेवन करें तो आपको डॉक्टर के पास कभी जाने की आवश्यकता ही नहीं होगी। बच्चों के शरीर में खून की कमी होने पर आप उनको सेव का रस पिलाएं। सेव के छिलके को अच्छी तरह से साफ कर लें और उसका रस निकाल लें।  फिर उसमें थोड़ी मात्रा में शहद मिलाकर अपने बच्चे को पिलाएं।
     
  • टमाटर - हीमोग्लोबिन की कमी होने पर आपको अपने बच्चे को टमाटर का रस जरूर पिलाना चाहिए। 5 से 7 चम्मच टमाटर का रस या फिर आप चाहें तो सूप बनाकर भी अपने बच्चे को पिला सकती हैं। 
     
  • मुनक्का - हीमोग्लोबिन की कमी को पूरा करने के लिए मुनक्का भी काफी मददगार साबित हो सकता है। मुनक्का को रात भर पानी में भिंगो कर छोड़ दें। और फिर उसके बाद सुबह के समय में इसके पानी को छान लें और ये पानी बच्चे को पीने के लिए दें। 
     
  • अनार - अनार के दानों का लाल रंग होता है। अनार के जूस का स्वाद आपके बच्चे को अच्छा लग सकता है। अनार की एक खासियत के बारे में आपको बताना चाहूंगा कि ये तेजी से हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाता है।
     
  • चुकंदर - आप चाहें तो अपने बच्चे को चुकंदर का जूस या फिर प्यूरी बना कर भी खिला सकती हैं। चुकंदर में आयरन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। 
     
  • हरी सब्जियां - सबसे ज्यादा जरूरी है कि आप अपने बच्चे को हरी सब्जियों से जरूर दोस्ती करा दें। कुछ बच्चे हरी सब्जियां खाते समय में बहुत नखरा दिखाते हैं। अगर आपके बच्चे भी हरी सब्जियां खाने के समय में आनाकानी करते हों तो आप उनको इसका सूप बनाकर दे सकती हैं। सूप बनाने के लिए आप पालक, टमाटर, लौकी एवं अन्य सब्जियों को इस्तेमाल में ला सकती हैं।
     
  • अमरूद - जी हां अमरूद खाने से भी शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी दूर हो जाती है। अमरूद जितना ज्यादा पका होगा उतना ही पौष्टिकता से भरपूर होता है। अमरूद के छोटे-छोटे टुकड़े बच्चे को खिलाएं या फिर अमरूद का जूस बनाकर भी आप अपने बच्चे को पिला सकती हैं।
     
  • केला - क्या आप जानती हैं कि केला में प्रोटीन, आयरन व अन्य मिनरल्स की प्रचुरता होती है। बच्चे को केला खिलाने के लिए आपके पास बहुत सारे विकल्प मौजूद हैं। दूध में मिलाकर या फिर उसकी प्यूरी बना कर आप अपने बच्चे को केला दे सकती हैं। [जरूर पढ़ लें - क्या आप बच्चो को केला खिलाने के 10 फायदे जानते हैं ?]
     
  • खजूर - बच्चों के शरीर में पर्याप्त मात्रा में खून बनाने में खजूर काफी असरकारी सिद्ध हो सकता है। खाना खाने के समय में या फिर दूध में खजूर को मिलाकर आप बच्चे को दिया करें।
     
  • गाजर - हीमोग्लोबिन की कमी को दूर करने में गाजर बहुत मददगार साबित हो सकता है। गाजर का जूस, गाजर का हलवा या प्यूरी बनाकर भी आप अपने बच्चे को खिला सकती हैं।

इसके अलावा आप अपने डॉक्टर के भी संपर्क में बने रहे।  ऊपर बताए गए उपायों की मदद से हीमोग्लोबिन की कमी को आसानी से दूर किया जा सकता है।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • 3
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Mar 11, 2019

nice supap block thank u for information

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Sep 05, 2019

bachhe ko lambai badhane ke liy eya kre

  • Reply
  • रिपोर्ट

| Sep 18, 2020

Bache ki hight badhane ki koi food bataye jise bacha khusi khusi khaye

  • Reply
  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें

टॉप स्वास्थ्य ब्लॉग

Sadhna Jaiswal

आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट

गर्भावस्था

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}