• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
स्वास्थ्य

क्या है MIS-C बीमारी के लक्षण और क्या सावधानियां जरूर बरतें

Prasoon Pankaj
1 से 3 वर्ष

Prasoon Pankaj के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया May 31, 2021

क्या है MIS C बीमारी के लक्षण और क्या सावधानियां जरूर बरतें
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

पिछले साल यानि साल 2020 में कोरोना की पहली लहर, साल 2021 में कोरोना की दूसरी लहर और अब तीसरी लहर के भी आने की संभावना जताई जा रही है। इसके बाद ब्लैक फंगस के बाद अब  'मल्टीसिस्टम इनफ़्लामेट्री सिंड्रोम' यानि MIS-C नई परेशानी का सबब बनकर सामने आ रहा है। क्या है बच्चों में होने वाली रोग MIS-C और इसके क्या लक्षण व बचाव के उपाय हैं। सर्वाधिक लोकप्रिय मेडिकल जर्नलों में से एक ‘द लैसेंट’ के मुताबिक बच्चों में होने वाला मल्टीसिस्टम इन्फ्लामेट्री सिंड्रोम एक ऐसी गंभीर बिमारी है जिसे फिलहाल तो कोरोना से ही जोड़कर देखा जा रहा है।

MIS-C को लेकर क्या कहना है एक्सपर्ट्स का ?

बाल रोग विशेषज्ञ डॉ अजीत का कहना है कि जैसे जैसे लोग कोरोना से स्वस्थ हो रहे हैं उसी प्रकार से खास तौर पर बच्चों में MIS-C के केस बढे हैं। एक्सपर्ट्स का अब तक मानना ये है कि कोरोना के बाद की परिस्थिति है, हालांकि जिन बच्चों को हो रहा है उसका मुख्य वजहों का अब तक साफ साफ पता नहीं चल पाया है। रविवार तक देश की राजधानी दिल्ली में इस बीमारी के तकरीबन 200 केस दर्ज किए गए हैं। इसके अलावा देश के अलग अलग राज्यों में भी बच्चों को हो रहे मल्टी सिस्टम इन्फ्लामेंट्री सिंड्रोम के मामले देखने को मिल रहे हैं। इंडियन एकेडमी ऑफ पीड्रीएटिक इंटेंसिव केयर के मुताबिक MIS-C के मामलों में अचानक बढ़ोतरी देखने को मिल रहे हैं। अभी तक जो केस सामने आए हैं उनमें ज्यादातर 4 साल से 18 साल तक के वे बच्चे ज्यादा प्रभावित हैं जिन्हें पहले कोरोना हो चुके हैं। हालांकि कुछ मामलों में 6 माह तक के शिशु में भी इस बीमारी के लक्षण देखे गए हैं।

MIS-C बीमारी की पहचान कैसे करें?

हम आपको बता दें कि अमेरिकी संस्था सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) पिछले साल यानि मई 2020 से ही इस बीमारी को लेकर लगातार स्टडी कर रही है। CDC के मुताबिक MIS-C एक दुर्लभ बीमारी है लेकिन इसके नतीजे खतरनाक साबित हो सकते हैं औऱ इसको कोरोना से जोड़कर देखा जा रहा है। 

  • अमेरिकी संस्था CDC के मुताबिक इस बीमारी की चपेट में आने पर बच्चों के हृदय, गुर्दे, आंत, मस्तिष्क, फेफड़े और आंख जैसे अंग प्रभावित हो सकते हैं।

  • रिसर्च के मुताबिक MIS-C होने पर बच्चों में गर्दन के दर्द, आंखों का लाल हो जाना, थकान की समस्या, शरीर पर दाने निकल आना जैसे शिकायतें भी देखने को मिल सकते हैं।

  • CDC के मुताबिक ये जरूरी नहीं की सभी बच्चों में एक समान लक्षण ही नजर आएं। कुछ बच्चों में अलग अलग लक्षणों का दिखना भी मुमकिन है।

  • अमेरिकन मेडिकल जर्नल ‘द लेसेंट’ की रिपोर्ट में बताया गया है कि इस बीमारी के बाद आमतौर पर अस्पताल में 7 से 8 दिन तक रहे। तकरीबन 73 फीसदी बच्चों में पेट दर्द और डायरिया की समस्या दर्ज की गई। इतना ही नहीं, तकरीबन 68 फीसदी बच्चों को उल्टी की शिकायत भी देखने को मिले।

  • कुछ अन्य रिसर्च में बच्चों में कंजक्टिवाइटिस यानि आंखों का संक्रमण की समस्या भी पाया गया।

  • विशेषज्ञों के मुताबिक जो बच्चे कोरोना संक्रमित हो चुके हैं या जिनके घर में परिवार के अन्य सदस्य कोरोना पॉजिटिव रहे हैं वैसे बच्चे इसकी चपेट में आ रहे हैं। 

  •  ऐसे में अगर बच्चों को दो-तीन दिन बुखार, उल्टी, दस्त, आंख, मुंह लाल, शरीर पर चकत्ते हों तो सावधान हो जाएं।

  • - तीन से पांच दिनों तक बुख़ार 

  • - पेट में तेज़ दर्द 

  • - रक्तचाप में अचानक गिरावट

  • - दस्त

क्या सावधानियां बरतने की आवश्यकता

PMCH में बाल रोग विभाग के प्रमुख डॉ निगम प्रकाश नारायण का कहना है कि अगर कोई बच्चा कोरोना संक्रमित हो चुका है तो उसके ठीक होने के तकरीबन 6 से 8 सप्ताह तक उसके स्वास्थ्य के प्रति पेरेंट्स को विशेष सावधान रहने की आवश्यकता है। डॉ निगम का कहना है कि वैसे तो MIS-C एक गंभीर स्थिति है लेकिन अगर सही समय पर इलाज होना शुरू हो जाए तो पीड़ित बच्चे के स्वस्थ होने की संभावना प्रबल है।

  1. बाल रोग विशेषज्ञ डॉ राकेश तिवारी का कहना है कि अगर बच्चे में लगातार बुखार, चकत्ते, थकान, आंखों का लाल हो जाना, दस्त होना ये सब लक्षण नजर आए तो बिना किसी विलंब के तत्काल डॉक्टर के पास चेकअप के लिए ले जाना चाहिए। डॉक्टरों की सलाह के मुताबिक ही दवा दें

  2. जरूरत पड़ने पर डॉक्टर आपको अस्पताल में भर्ती होने की सलाह भी दे सकते हैं। 

  3. डॉक्टरों के मुताबिक अगर शुरुआती लक्षणों की पहचान समय रहते कर ली जाए, तो रोगियों का इलाज किया जा सकता है।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • कमेंट
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें

टॉप स्वास्थ्य ब्लॉग

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}