• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
पेरेंटिंग शिशु की देख - रेख स्वास्थ्य

नवजात शिशु को एसी में रखना कितना सुरक्षित?

Anubhav Srivastava
0 से 1 वर्ष

Anubhav Srivastava के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Jul 27, 2018

नवजात शिशु को एसी में रखना कितना सुरक्षित

नवजात शिशु को एसी में रखना असुरक्षित हो सकता है, अगर आप इसके प्रति कुछ सावधानियां नही बरतेंगे तो। अधिकांश डॉक्टर मानते हैं कि नवजात के साथ कूलर या एयर कंडीशनर (एसी) का उपयोग एकदम सुरक्षित है। शिशु को गर्म, वायुहीन और आर्द्र वातावरण में रखने से बेहतर है कि उसे ठंडे वातावरण में रखा जाए।

शिशु, विशेषकर नवजात शिशु, अपने शरीर का तापमान उतनी अच्छी तरह समायोजित नहीं कर पातें, जितना की हम बड़े लोग कर पाते हैं। इसकी वजह से वे अधिक गर्मी और इससे जुड़ी बीमारियों जैसे कि घमौरियों,  गर्मी से बेचैनी या लू के प्रति अत्याधिक संवेदनशील होते है।

 

कुछ जरुरी सावधानियां

 

कमरे का तापमान आरामदेह बनाए रखें

बाहरी गर्मी और आर्द्रता में परिवर्तन का असर आपके एसी या कूलर की ठंडक पर भी पड़ता है। आपका कमरा काफी जल्दी बहुत ठंडा या गर्म हो सकता है। यह शिशु के लिए असुविधाजनक लग सकता है।

इसलिए, एसी या कूलर का तापमान ऐसा रखें, जो कि न ज्यादा ठंडा हो और न ज्यादा गर्म।एसी का तापमान 23 और 26 डिग्री सेल्सियस पर बनाए रखना सही रहता है।

अगर, आप एसी इस्तेमाल करती हैं, तो उतने समय का टाइमर लगा दें, जितने समय में आपका कमरा ठंडा हो जाता है। अगर, आपके एसी में अंतर्निहित टाइमर नहीं है, तो एसी बंद करना याद रखने के लिए आप अलार्म घड़ी का इस्तेमाल कर सकती हैं। अगर, आपका एसी तापमान प्रदर्शित नहीं करता है, तो कमरे के तापमान का पता रखने के लिए थर्मोमीटर का उपयोग करें।

 

शिशु को एसी या कूलर की सीधी ठंडी हवा से दूर रखें

शिशु को हल्के कपड़े पहनाएं, जो उसकी बाजुओं और टांगों को ढक लें। ऐसा करने से शिशु का ठंडी हवा से बचाव होगा।

अगर, आप चाहे तों शिशु के सिर पर हल्की टोपी और पैरों को ढकने के लिए हल्की सूती जुराबें/मौजे या बूटियां पहना सकती हैं।

अगर, आप हल्का कंबल शिशु को ओढ़ाती हैं, तो ध्यान से इसे शिशु की कोहनी के नीचे दबा दें, ताकि यह उसके चेहरे को न ढक पाए।

आदर्श रूप में, आपके शिशु को आपसे एक कपड़ा ज्यादा पहनना चाहिए। उसे कमरे के ताममान के अनुसार ही कपड़े पहनाएं, न ज्यादा गर्म या न एकदम ढीले।

 

अपने एसी की नियमित सर्विस कराएं

सर्विस सेंटर में बात करें या फिर नियम-पुस्तिका में पढ़ें कि आपके एसी या कूलर की सर्विस कब की जानी चाहिए।

शिशु की त्वचा पर अच्छी तरह मॉइस्चराइजर लगाएं, क्योंकि एसी में उसकी त्वचा रुखी हो सकती है

शायद आपने कहीं सुना हो कि शिशु को जो तेल लगाया जाता है, उसमें ईयर बड को डुबोकर दोनों नथुनों के अंदर लगाना चाहिए। इससे रुखी नाक की वजह से खून आना रोका जा सकता है।

हालांकि शिशु के नथुनों में कोई भी तेल लगाने से पहले डॉक्टर से अवश्य पूछ लें।

 

कुछ माँएं कमरे में पानी का कटोरा रखने का भी सुझाव देती हैं। माना जाता है कि पानी कमरे की हवा को नम रखता है, जिससे शुष्कता घटती है।

एसी कमरे से निकलने के तुरंत बाद शिशु को किसी गर्म स्थान पर न ले जाएं। तापमान में अचानक बदलाव से शिशु बीमार पड़ सकता है। बेहतर यह है कि कमरे से बाहर निकलने से थोड़ी देर पहले एसी बंद कर दें। इससे शिशु को बाहर के तापमान के साथ समायोजित होने का समय मिल सकेगा।

कार में एसी चलाने से पहले अंदर की हवा बाहर निकलने दें

एक ही जगह पर खड़ी हुई कार काफी गर्म हो जाती है, विशेषकर गर्मी के दिनों में। इसे ठंडा करने के लिए, कुछ मिनटों के लिए खिड़कियां खोल दें। इससे अंदर की गर्म हवा बाहर निकल सकेगी। कुछ समय बाद आप खिड़कियों के शीशे बंद करके एसी चला सकती हैं।

हर समय एसी या कूलर का इस्तेमाल जरुरी नहीं है। बहुत सी माँएं तो ज्यादा गर्मी या आर्द्रता न होने पर केवल पंखा चलाना ही पसंद करती हैं। ऐसे मौसम में पंखा भी शिशु को ठंडा और आरामदायक रखने में मदद करता है।

जैसे-जैसे गर्म हवा ऊपर बढ़ती है और नीचे की जमीन ठंडी होती है, तो आप जमीन पर पतला गद्दा बिछाकर शिशु को उसपर लिटा सकती हैं।

पर्दे लगा दें, ताकि धूप अंदर न आ सके। शिशु को हल्के सूती झबले पहनाएं। जब शिशु को गर्मी लगने लगे या वो बेचैन होने लगे, तो उसे कूलर या एसी वाले कमरे में ले जाएं। आप शिशु को ठंडे कमरे में आरामदायक रखने के लिए एक कपड़ा और पहना सकती हैं।

अगर, आप शिशु को पालने में लिटाती हैं, तो यह ध्यान दें कि पालने में हवा की आवाजाही हो रही है या नहीं। पालने के ऊंचे और उठे हुए किनारे हवा के बहाव में बाधा बन सकते हैं और शिशु को गर्मी और बेचैनी हो सकती है। शिशु को पालने में लिटाते समय इन सुरक्षा सुझावों को अपनाएं।

 

सारांश - अच्छी तरह ठंडे और हवादार कमरे में शिशु आराम से सो पाते हैं। वहीं, दूसरी तरफ अत्याधिक ठंडे कमरे में रहने से शिशु के शरीर का तापमान घट सकता है और उसे ठिठुरन हो सकती है। एसी या कूलर चलाते समय शिशु को सुरक्षित व आरामदायक रखने के लिए आप दिये गये सुझाव आजमा सकती हैं।


 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • 6
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Nov 05, 2019

Mera beta 10 mahine ka hu he janam see she find nahi he aur abhi bhi ratko nahi sota he aur Puri rat me 1/2 ganta hi sota he aur Puri rat finding karta he would kyu nahi sota he Kya Karan ho sakta he

  • रिपोर्ट

| May 24, 2019

thanks g

  • रिपोर्ट

| May 24, 2019

thanks g

  • रिपोर्ट

| Jul 28, 2018

nice post

  • रिपोर्ट

| Jul 05, 2018

thanks

  • रिपोर्ट

| Jun 28, 2018

mera beta 2 manth se upar ha w/o rat ko bhout Rota ha sota nahi kya karu

  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें

Always looking for healthy meal ideas for your child?

Get meal plans
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}