• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
स्वास्थ्य

क्या वैक्सीन के असर को भी बेअसर कर सकता है कोरोना का नया वैरिएंट C.1.2

Prasoon Pankaj
गर्भावस्था

Prasoon Pankaj के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Aug 31, 2021

क्या वैक्सीन के असर को भी बेअसर कर सकता है कोरोना का नया वैरिएंट C12
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

कोरोना को लेकर किसी प्रकार की लापरवाही बरतने की जरूरत नहीं क्योंकि कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है। भले आपको ये लगता हो कि अब हालात सामान्य होते जा रहे हैं लेकिन विशेषज्ञों व शोधकर्ताओं की नजरें अब भी कोरोना वायरस के नए वैरिएंट पर टिकी है। कोरोना वायरस का नया वैरिएंट सबसे पहले दक्षिण अफ्रीका में पाया गया है और अब इसके अलावा ये वैरिएंट चीन, रिपब्लिक ऑफ दि कांगो, मॉरीशस, इंग्लैंड, न्यूजीलैंड, पुर्तगाल और स्विजटरलैंड जैसे देशों में भी पाया गया है। कोरोना के इस नए वैरिएंट का नाम C.1.2 है। 

कोरोना के नए वैरिएंट C.1.2 को लेकर क्या मानना है एक्सपर्ट का?

एक्सपर्ट के मुताबिक ये वायरस वैरिएंट ऑफ इंटरेस्ट कैटेगरी का हो सकता है। अब आप ये भी जान लीजिए कि वैरिएंट ऑफ इंटरेस्ट किसको कहते हैं? ये ऐसे वैरिएंट होते हैं जो वायरस के ट्रांसमिशन, गंभीर लक्षणों और इम्यूनिटी के असर को बेअसर करने व डाइग्नोसिस में भी सामने नहीं आने की क्षमता दिखाते हैं। शोधकर्ताओं के मुताबिक म्यूटेशन की रफ्तार दूसरे वैरिएंट्स से दोगुनी हो सकती है। एक स्टडी के मुताबिक दक्षिण अफ्रीका में हर महीने C.1.2 के जीनोम की संख्या में लगातार वृद्धि दर्ज की जा रही है। 

  • कोलकाता के CSIR- इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ केमिकल बायोलॉजी की एक्सपर्ट उपासना राय ने जानकारी देते हुए कहा है कि ये नया वैरिएंट ज्यादा संक्रामक और तेजी से फैलने की क्षमता रखता है। उपासना राय ने ये भी बताया है कि प्रोटीन में वृद्धि के कारण ये वैरिएंट कोरोना के मूल वायरस से काफी आगे हो जाता है। बढ़े हए प्रोटीन में कई म्यूटेशन होते हैं जिसके चलते ये इम्यूनिटी के कंट्रोल में नहीं होगा। 
     
  • कोरोना के इस नए वैरिएंट को लेकर सबसे ज्यादा चिंता करने वाली बात ये है कि ये वैरिएंट वैक्सीनेशन से बनी इम्यून सिस्टम को भी आसानी से भेद सकता है। एक्सपर्ट बताते हैं कि कोरोना वायरस अपने स्पाइक प्रोटीन का इस्तेमाल करते हुए आदमी के शरीर के कोशिकाओं को संक्रमित करते हुए प्रवेश करता है और इस बात को ही ध्यान में रखते हुए कोरोना के वैक्सीन तैयार किए गए हैं। कोरोना का ये जो नया वैरिएंट C.1.2 है इसमें N440K और Y449H जैसे म्यूटेशन के बारे में जानकारी मिली है और ये म्यूटेशन वैक्सीनेशन के बाद शरीर में बनी इम्यूनिटी को आसानी से मात देने की क्षमता रखते हैं। लेकिन इसके साथ ही राहत की एक बात ये भी है कि एक्सपर्ट के मुताबिक जिन लोगों ने वैक्सीन की दोनों डोज ले ली है, उनमें अन्य लोगों के मुकाबले खतरा कम हो सकता है।

कोरोना के नए वैरिएंट C.1.2 से संक्रमित होने के क्या लक्षण हो सकते हैं?

एक्सपर्ट का मानना है कि चूंकि C.1.2 अभी कोरोना का नया वैरिएंट है तो इसके बारे में विस्तार से जानकारी हासिल करने के लिए अभी और समय लग सकता है। रिसर्च के बाद ही किसी निष्कर्ष पर पहुंचा जा सकता है। अब तक जो जानकारियां मिल रही है उशके मुताबिक इस नए वैरिएंट से संक्रमित होने पर नाक बहने, लगातार खांसी होते रहना, गले और शरीर के अन्य हिस्सों में दर्द, गंध की कमी, भोजन के स्वाद में कमी, बुखार का आना, शरीर के मांसपेशियों में ऐंठन के अलावा आंखों के रंग में भी बदलाव नजर आ सकते हैं। इसके अलावा दस्त की समस्या भी संक्रमित मरीजो को हो सकते हैं। 

कोरोना का नया वैरिएंट C.1.2 पर भारत में क्या हो सकता है असर?

वैज्ञानिकों के हिसाब से आने वाले दिनों में कोरोना का ये नया वैरिएंट भारत के लिए भी खतरा पैदा कर सकता है। एक्सपर्ट्स की राय के मुताबिक भारत में आने वाले दिनों में तीसरी लहर की आशंका बताई जा रही है।  इसके अलावा कई जगहों पर लॉकडाउन के दौरान लगाई जाने वाले प्रतिबंधों को भी अब हटा लिया गया है। कई राज्यों में फिर से स्कूल कॉलेज खोले जा चुके हैं। त्योहारों के मौसम में लोगों का एक दूसरे से मिलना जुलना व सार्वजनिक जगहों पर भीड़ का इकट्ठा होना आम बात है। इन कारणों से भी संक्रमण के खतरे के बढ़ने का अंदेशा जताया जा रहा है। हालांकि सरकार के तरफ से वैक्सीनेशन कार्यक्रमों में तेजी लाई जा रही है लेकिन आबादी के एक बड़े हिस्से ने अब तक वैक्सीन का डोज नहीं लगवाया है। ज्यादा खतरा इस बात को भी लेकर है कि बच्चों के लिए अब तक वैक्सीनेशन कार्यक्रम शुरू नहीं किए जा सके हैं। इसलिए बचाव के लिए कोविड प्रोटोकॉल का पूरा पालन करने की सलाह दी जा रही है। मास्क पहनना और फिजिकल डिस्टेंसिंग का ध्यान अवश्य रखें। 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

https://www.medrxiv.org/content/10.1101/2021.08.20.21262342v1.full

  • 1
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Aug 31, 2021

नमस्कार पेरेंट्स, इस ब्लॉग के टॉपिक के संबंधित सवाल अगर आपके मन में उठ रहे हों तो आप यहां कमेंट बॉक्स में भी पूछ सकते हैं।

  • Reply
  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें

टॉप स्वास्थ्य ब्लॉग

Ask your queries to Doctors & Experts

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}