• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
पेरेंटिंग

सबसे बड़े दान की मिसाल:- ढाई साल के बच्चे के अंगदान से 4 बच्चों को मिला नया जीवनदान

Prasoon Pankaj
गर्भावस्था

Prasoon Pankaj के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Dec 18, 2020

सबसे बड़े दान की मिसाल ढाई साल के बच्चे के अंगदान से 4 बच्चों को मिला नया जीवनदान
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

गुजरात के सूरत शहर में अंगदान का एक ऐसा मामला सामने आय़ा है जिसके बारे में सुनकर आप भी भावुक हो जाएंगे। ढाई साल के बच्चे जश ओझा के ब्रेनडेड होने के बाद उसके परिवार ने अंगदान करने का फैसला किया। जश के फेफड़े, किडनी, लीवर और आंखों की वजह से अब कई और लोगों को नया जीवनदान मिल गया है। अपने घर में खेलने के दौरान जश सीढियों से गिरकर बेहोश हो गया। जश के माता-पिता आनन-फानन में लेकर अस्पतार पहुंचे। डॉक्टरों ने जांच के दौरान जश को ब्रेन डेड घोषित कर दिया। 

 

जश का हार्ट रशिया के 4 साल बच्चे में औऱ यूक्रेन के एक और 4 साल के बच्चे में फेफड़ों का ट्रांसप्लांट चेन्नई के अस्पताल में किया गया है। सूरत औऱ चेन्नई के बीच तकरीबन 1600 किमी का फासला है औऱ ग्रीन कॉरिडोर की मदद से ये दूरी महज 2 घंटे 40 मिनट में तय की गई। ट्रांसप्लांट ऑपरेशन के बाद दोनों ही बच्चे अस्पताल में डॉक्टरों की निगरानी में हैं। 

 

जश के माता-पिता ने अपने बच्चे के अंगदान करने का जो फैसला किया वो काफी सराहनीय है। जश के पिता संजीव भाई ओझा पेशे से पत्रकार हैं और वे काफी समय पहले से ही लोगों को अंगदान करने के लिए प्रेरित करते रहे हैं। अब खुद उनके बेटे जश के अंगों की वजह से 4 नए बच्चे को जीवनदान मिल पाया है। जश मरकर भी अमर हो गया है क्योंकि उसके शरीर के अंग अब 4 अलग-अलग बच्चों को जीवनदान दे चुका है। काफी मन्नत मांगने के बाद जश का जन्म हुआ और उसकी असामयिक मृत्यु से जश का पूरा परिवार टूट चुका था, ऐसी परिस्थितियों में इस तरह का फैसला करना अपने आप में बहुत बड़ी मिसाल है। 

 

अंगदान सबसे बड़ा दान है और इसके लिए आप भी सामने आएं

मरकर भी अमर होना चाहते हैं तो इसके लिए अंगदान सबसे बड़ा माध्यम हो सकता है। शरीर के अंग से अगर किसी को नया जीवन मिल जाए तो इससे बड़ा पुण्य भला और क्या हो सकता है। 

 

  1. मानव शरीर के कुल 17 अंगों का दान किया जा सकता है और उनमें से प्रमुख है  Heart, Lungs(फेफड़ा), Liver(लीवर), Kidneys(किडनी) और Skin (त्वचा)

  2. अंगदान को लेकर अब भी हमारे देश में जागरुकता की बहुत कमी है। क्या आप जानते हैं कि प्रत्येक साल हमारे देश में अंग प्रत्यारोपण (Organ Transplant) के लिए कम से कम 5 लाख अंगों की आवश्यकता होती है।

  3. प्रत्येक साल कम से कम 2 लाख कोरोना की आवश्यकता है लेकिन बमुश्किल 50 हजार ही लोग दान कर पाते हैं।

  4. किडनी दाताओं की संख्या तो और कम है, प्रत्येक साल जहां अपने देश में 2 लाख किडनी की मांग है वहां 1600 के आसपास ही डोनेट हो पाता है।

  5. लीवर की आवश्यकता अगर 70 लोगों को होती है तो वहां सिर्फ 1 को ही मिल पाता है और हार्ट के मामले में कुल 147 लोगों में से सिर्फ 1 को ही ये अंग प्राप्त हो पाता है।

  6. आंकड़ों के मुताबिक अपने देश में 10 लाख लोगों में से 1 आदमी भी अंगदान नहीं करते हैं। अमेरिका में 10 लाख में से 32 जबकि स्पेन में ये संख्या 46 के आसपास है।

  7. शरीर के अंगों को दान करने के लिए उम्र की कोई सीमा नहीं होती है। 1 दिन के शिशु से लेकर 100 साल का बुजुर्ग भी अंगदान कर सकते हैं। चिकित्सा विशेषज्ञों के मुताबिक हालांकि 18 साल से 50 साल तक की उम्र में अंगदान सबसे बेहतर है। 

अंगदान करने के लिए कहां रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं?

अंगदान के लिए आपको पंजीकरण करने की आवश्यकता होती है।  भारत सरकार के National Organ & Tissue Transplant Organization की Website (https://notto.gov.in) पर जाकर खुद को Register करवा सकते हैं. 

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • 1
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Jan 03, 2021

  • Reply
  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें

टॉप पेरेंटिंग ब्लॉग

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}