Parenting

यह बातें सुनिश्चित करें ताकि पति-पत्नी के बीच अनबन से न हो बच्चे को नुकसान

Parentune Support
3 to 7 years

Created by Parentune Support
Updated on Nov 24, 2017

यह बातें सुनिश्चित करें ताकि पति पत्नी के बीच अनबन से न हो बच्चे को नुकसान

यह एक जानीमानी बात है कि सभी पति-पत्नि आपस में हर बात पर एक राय नहीं हो सकते और ऐसे में अपने जीवनसाथी के साथ अनबन या बहस होने में कुछ भी नया नहीं है बल्कि यह शादीशुदा जीवन की एक हकीकत है।

पैसा, बच्चे, यौन-संबधों में अधूरापन, थकावट, तनाव या कुछ और .... पति-पत्नि के बीच अनबन की अनेक वजहें हो सकती है और यह सब लगा ही रहता है, लेकिन यदि ऐसा हर रोज या हर हफ्ते या किसी खास बात पर नियम से होता है, तो यह एक अच्छा संकेत नहीं है।

आप दोनों के बीच ऐसे संबंध न केवल आपके बच्चों की बचपन की खुशियां छीन लेते हैं बल्कि उनके अंदर जज्बातों को भी खत्म कर सकते है इसलिए अगली बार जब भी अपने जीवनसाथी के साथ अनबन हो या ऐसी नौबत आए तो इन बातों को हमेशा अपने दिमाग में रखें जिससे आपके बच्चे इसके असर से बच सकें-

अनबन होने पर अक्सर पति-पत्नि एक-दूसरे से बात करना बंद कर देते हैं।

बच्चे के पहले गुरू उनके मां-बाप ही होते हैं। बच्चों के हाव-भाव, आदतों और हरकतों पर अपने मां-बाप की छाप होती है और आपको ऐसा करते देख बच्चा भी अपनी नाखुशी जाहिर करने का यही तरीका सीखेगा इसलिए कितनी भी नाराजगी हो, आपसी बातचीत जारी रखें भले ही इसका दिखावा करना पडे़। याद रहे- बात न करना संबंधो में दूरियां बढ़ने की सबसे पहली सीढ़ी होती है।

आपसी तकरार में कई बार बहस की नौबत आ जाती है।

यदि अनबन के दौरान बात ज्यादा बिगड़ जाए और आपसी बहस या एक-दूसरे पर चीखने-चिल्लाने के हालात हों तो बच्चों के सामने ऐसा करने से बचें क्योंकि यहाँ भी बच्चा वही सीखेगा जो वह आपको करते हुए देखेगा इसलिए बच्चे के आस-पास न होने पर या अलग कमरे में ही आपस में बहस करें।

हालांकि बहस कहीं भी की जाए, बच्चों के सामने या पीछे, इसे अच्छा नहीं कहा जा सकता और पति-पत्नि को जहां तक हो सके बहस और वाद-विवाद से बचना चाहिए।

कई पति-पत्नि अपनी भड़ास बच्चों पर निकालते हैं।

जब पति-पत्नि के संबध ठीक नहीं होते तो घर में कुछ भी ठीक नहीं होता और बच्चे अक्सर माँ-बाप के बीच होने वाले मनमुटाव का शिकार बनते हैं क्योंकि अपना गुस्सा और खीज़ मिटाने के लिए वे ही सबसे आसान शिकार होते हैं।

ऐसा होने पर बच्चे को लगता है कि जो कुछ हो रहा है उस सब के लिए वही जिम्मेदार है। यह बहुत खतरनाक स्थिति होती है क्योंकि आपका ऐसा किया जाना बच्चे को कुंठित कर सकता है इसलिए संयम से काम लें और बच्चों को समझाएं कि जो कुछ हो रहा है उसके लिए वे जिम्मेदार नहीं है।

एक-दूसरे का सम्मान करना जारी रहना चाहिए।

भले ही आप दोनों एक-दूसरे से नाराज चल रहे हों पर इसका मतलब यह नहीं कि आप एक-दूसरे को आदर और सम्मान देना ही बंद कर दें, खासकर अपने बच्चों के सामने... इसलिए भूल कर भी उनके सामने एक-दूसरे के लिए भद्दे शब्दों के इस्तेमाल और एक-दूसरे को नीचा दिखाने से बचें।

याद रखिए, एक-दूसरे का सम्मान और आदर करना पति-पत्नि के रिश्ते की वह खूबी होती है जो आपको आजादी से अपनी बात कहने और नाजुक मौकों पर समझौता करने के काबिल बनाती है। यह अपने जीवनसाथी के साथ आपसी समझ-बूझ बढ़ाने में मदद करती है जिससे आपके रिश्ते को मजबूती मिले... और जब रिश्ते मजबूत होते हैं तो अनबन के लिए जगह ही कहाँ होती है!!

हमारे बच्चे ही हमारे जीवन की सबसे बड़ी पूंजी हैं।

आपके बच्चे, आप दोनों के अनूठे प्यार और स्नेह की सबसे बड़ी निशानी हैं। उनकी अच्छी परवरिश और देखभाल करना आपकी जिम्मेदारी है.... तो अपने अहंकार को भूल कर बच्चों को एक अच्छा माहौल देने के लिए तैयार हो जाएं और अगर बच्चे के सामने कभी आप दोनों के बीच बहस या अनबन हो भी जाए तो इसके बाद बच्चे के सामने ही सुलह-समझौता करना भी सुनिश्चित करें जिससे बच्चा आप दोनों के रिश्ते को लेकर आश्वस्त हो सके और आपसी समझ-बूझ से समस्याओं को हल करने की खूबी से परिचित हो सके।

 

माता-पिता के बीच अनबन से बच्चों पर होने वाले असर पर की गयी जांचों के मुताबिक ऐसे बच्चे निराशा, उन्माद, चिंता, झगड़ालू और आपसी तालमेल में कमी होने जैसी परेशानियों से ग्रस्त होते हैं और यदि आपके बच्चे छोटे हैं तो पति-पत्नी के बीच लगातार होनी वाली अनबन या तकरार परिवार में बिखराव की वजह बन सकती है।

 

क्या आप अपने बच्चे के लिए यही सब चाहते हैं? अगर नहीं, तो इन बातों का ध्यान रखें और अपने घर को अपने बच्चे के रहने के लिए एक आदर्श जगह बनाएं। 

  • 1
Comments()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Nov 28, 2017

mere sath 2 times haua hai ki mere bête ne aaisa hothe dekha abhi last 2 month me baaki mere gar par happiness ha hi mahhole reheta hai or jab ye huaa to mere beta mujhe se puch reha hai ki ye kyo huaa m usko ye kaise sumjhaoo ki uske man me koi negative thinking nahi aaye .pls give me advice

  • Report
+ START A BLOG
Top Parenting Blogs
Loading
Heading

Some custom error

Heading

Some custom error