बाहरी गतिविधियाँ समारोह और त्यौहार

केरल के बाढ़ पीड़ितों की मदद करके ओणम मना रहे हैं लोग

Prasoon Pankaj
3 से 7 वर्ष

Prasoon Pankaj के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Aug 30, 2018

केरल के बाढ़ पीड़ितों की मदद करके ओणम मना रहे हैं लोग

केरल के इतिहास में अब तक की सबसे बड़ी त्रासदी के रूप में इस बार के बाढ़ को देखा जा रहा है। आपदा कितनी भयंकर है इसका अंदाजा आप इसी बात स लगा सकते हैं कि केरल सरकार की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि राज्य की करीब 3.48 करोड़ की कुल आबादी में से 54 लाख से ज्यादा लोग बाढ़ की विभिषिका से प्रभावित हुए हैं। सैकड़ों लोगों की जानें  जा चुकी हैं और 54 हजार से ज्यादा लोग बेघर हो चुके हैं। केरल के इडुक्की, वायनाड और मल्लापुरम जिले इस प्राकृतिक आपदा से बुरी तरह प्रभावित हुए हैं जहां भूस्खलन की सबसे अधिक घटनाएं हुई हैं और सबसे ज्यादा संख्या में लोगों की मौत हुई है। बाढ़ जैसी आपदा ने केरल के सबसे मशहूर त्योहार ओणम के रंग को भी फीका कर दिया है। केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने इस साल के ओणम उत्सव को रद्द करने का फैसला कर दिया। 

देश भर के लोग कर रहे हैं केरलवासियों की मदद/ People From All Over The Country Are Helping Keralites In Hindi

  •  विपदा की इस घड़ी में केरल को संपूर्ण देश का सहयोग मिल रहा है। देश के अलग-अलग राज्यों में रहने वाले लोग खाद्य पदार्थ,कपड़े और जीवन रक्षक दवाएं भेज रहे हैं। केंद्र और राज्य की सरकारें, सेना के जवान, रैपिड एक्शन फोर्स और भी बहुत सारे संगठनों से जुड़े कार्यकर्ता केरलवासियों की सहयोग के लिए तत्पर हैं। देश-विदेश में रह रहे बहुत सारे दक्षिण भारतियों ने इस बार ओणम त्योहार नहीं मनाने का फैसला करते हुए केरल के लोगों को हर संभव सहयोग कर रहे हैं। 
     
  • दिल्ली से सटे नोएडा में रह रहे दक्षिण भारतीय समुदाय ने भी इस साल ओणम का पर्व नहीं मनाने का फैसला लिया है। मलयाली कम्यूनिटी से जुड़े लोग बाढ़ पीड़ितों के लिए राहत सामग्री भेजने में जुटे हुए हैं। महज 2 दिन में इन लोगों ने 2.5 लाख रुपये के अलावा जरूरत का सामान इकट्ठा कर लिया है। नोएडा मलयाली वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष सुरेश कृष्णन ने कहा कि बाढ़ की वजह से केरल का जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। ऐसे हजारों लोग हैं जिनका बाढ़ ने सबकुछ तबाह कर दिया है। ऐसी परिस्थिति में हम लोग ओणम की खुशियां कैसे मना सकते थे। इसलिए हम लोगों ने इस साल ओणम नहीं मना कर बाढ़ पीड़ितों की हर संभव मदद करने का फैसला लिया है। सिर्फ नोएडा में ही 15 हजार से ज्यादा दक्षिण भारतीय परिवार रह रहे हैं और हर कोई नकद से लेकर दवाएं, पीने का साफ पानी, चावल, कपड़े और जरूरत का सामान इकट्ठा करने में सहयोग कर रहे हैं। राहत सामग्रियों को ट्रेन के जरिए भेजा जा रहा है। 
     
  • हम आपको बता दें कि ओणम का पर्व 10 दिनों तक मनाया जाता है। इस साल ये पर्व 15 अगस्त से 25 अगस्त तक मनाया जाना है लेकिन बाढ़ के चलते इस पर्व नहीं मनाया गया है। पहले से तय ओणम के कार्यक्रमों को भी रद्द किया जा रहा है। इसके अलावा विदेशों में रह रहे अप्रवासी भारतीय भी केरलवासियों का भरपूर सहयोग कर रहे हैं।  

 

आप केरलवासियों की ऐसे मदद कर सकते हैं/ You Also Help The Keralites In This Hour Of Disaster In Hindi

आपमें से भी जो लोग केरलवासियों को मदद के रूप में सामान भेजना चाहते हैं, वे जिलाधिकारियों के एमरजेंसी ऑपरेशन सेंटरों से संपर्क कर सकते हैं. इन सेंटरों के लिए टोल-फ्री नंबर 1077 है। इसके अलावा मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष (CMDRF) के ज़रिये आर्थिक सहायता भी दी जा सकती है, जो पूरी तरह से इनकम टैक्स से मुक्त होगी। 

मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष में सहायता देने के लिए

  • donation.cmdrf.kerala.gov.in पर जाएं...
  • डोनेट मैन्यू पर क्लिक करें, और ऑनलाइन डोनेशन फॉर्म भरें...
  • ईमेल आईडी, नाम तथा फोन नंबर भरने के लिए कहा जाएगा...
  • इसके बाद आपको पेमेंट गेटवे पर रीडायरेक्ट किया जाएगा, जहां आप नेटबैंकिंग, क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड से भुगतान कर सकते हैं...

चेक/ड्राफ्ट से भी कर सकते हैं सहायता...

प्रधान सचिव (वित्त) कोषागार,
मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष,
सचिवालय,
तिरुअनंतपुरम - 695001

ऑनलाइन योगदान दें...

खाता संख्या : 67319948232
बैंक : स्टेट बैंक ऑफ इंडिया
शाखा : सिटी ब्रांच, तिरुअनंतपुरम
IFS कोड : SBIN0070028
पैन नंबर : AAAGD0584M
दान लेने वाले का नाम : CMDRF 

यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस तथा क्यूआर कोड (QR code) साउथ इंडियन बैंक, फेडरल बैंक तथा स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के लिए लिस्टेड हैं...

PayTm के ज़रिये सहायता...

  • PayTm के होम स्क्रीन पर ही बटन उपलब्ध करवाया गया है...
  • इसके अतिरिक्त दानदाता इस लिंक का प्रयोग भी कर सकते हैं - m.p-y.tm/Kerala-CMDRF
  • किसी भी तरह का अतिरिक्त शुल्क नहीं लिया जाएगा...
  • इसके लिए क्यूआर कोड (QR code) भी उपलब्ध है...

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

  • 1
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Aug 25, 2018

Sahi kaha aapne

  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}