• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
स्वास्थ्य

आजकल की लाइफ़स्टाइल देती है मोटापे को बुलावा, इन टिप्स से बचाएं बच्चों को मोटापे से

Prasoon Pankaj
7 से 11 वर्ष

Prasoon Pankaj के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Mar 10, 2020

आजकल की लाइफ़स्टाइल देती है मोटापे को बुलावा इन टिप्स से बचाएं बच्चों को मोटापे से
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

आजकल की दिनचर्या के कारण मोटापा हर उम्र वर्ग के लोगों के लिए एक बड़ी समस्या बन गया है. बच्चों को भी ये पहले से ज़्यादा प्रभावित करने लगा है. इसके पीछे बहुत बड़ी वजह ये भी है कि अब बच्चे बाहर निकल कर खेलने से ज़्यादा घर पर बैठ कर टीवी और फ़ोन में लगे रहने लगे हैं.

खान-पान भी इसके लिए ज़िम्मेदार है, आजकल ज़्यादातर बच्चों को जंक फ़ूड खाना पसंद होता है जो सेहत के लिए बिलकुल अच्छा नहीं होता और बचपन से ही उन्हें मोटापे का शिकार बना देता है. मोटापा अपने साथ अन्य स्वास्थ्य सम्बंधित परेशानियों को भी लाता है. 
 

बच्चों को मोटापे से बचाने के लिए कुछ असरदार टिप्स / 10 Ways to Prevent Childhood Obesity In Hindi

  1. मोटापा तब होता है, जब आप कैलोरीज़ बैलेंस नहीं कर पाते. यानि जितनी कैलोरीज़ आप लेते हैं, अगर उतनी इस्तेमाल नहीं होतीं, तो मोटापा बढ़ता है. एक्टिविटी को बढाएं और कैलोरी इनटेक को कम करें.
     
  2. अगर बच्चा मोटापे का शिकार हो रहा है, तो आपको उसे ही नहीं, पूरे परिवार को स्वास्थ्यवर्धक काम करना सिखाना चाहिए. बच्चा बड़ों को देख कर ही सीखता है.
     
  3. मोटापा घटने के लिए कभी भी बच्चों को डाइटिंग, क्रैश डाइट या दवाइयां लेने को न कहें.
     
  4. दिन में 5 बार उन्हें कम मात्रा में फल और सलाद खाने को दें.
     
  5. सोडा, जंक फ़ूड और कोल्ड-ड्रिंक का सेवन कम करें.
     
  6. डिनर जल्दी से जल्दी कर लें. इससे बच्चे को रात में जल्दी नींद आएगी और सुबह उठने में भी उसे तकलीफ़ नहीं होगी.
     
  7. उनके सोने की रूटीन को सही रखें. नींद और मोटापे का गहरा सम्बन्ध होता है. उनके कमरे में टीवी या कम्प्यूटर न रखें.
     
  8. टीवी और फ़ोन इस्तेमाल करने का समय घटा दें और उन्हें बाहर जाकर खेल-कूद करने के लिए प्रेरित करें. कम से कम एक घंटा उन्हें बाहर खेलने ज़रूर भेजें.
     
  9. उनके साथ दौड़ने जायें और उनके लिए इसे मज़ेदार बनाने की कोशिश करें. इससे आपको उनके साथ बिताने को ज़्यादा वक़्त भी मिलेगा.
     
  10. मोटापे से ग्रसित बच्चों को उनके साथी चिढ़ाने लगते हैं. ये उनके दिमाग पर गहरा असर डालता है. इसलिए, अगर आपका बच्चा मोटापे से जूझ रहा है तो उससे इस बारे में बात करते रहें, ताकि हीन भावना उनके मन में गहर न करे.  

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • कमेंट
कमैंट्स()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें
Deepak Pratihast
मॉमबेस्डर
आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट
आज का पैरेंटून
पैरेंटिंग के गुदगुदाने वाले पल

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}