• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
गर्भावस्था

प्रेगनेंसी में क्यों डार्क हो जाते हैं निप्पल्स?

स्पर्धा रानी
गर्भावस्था

स्पर्धा रानी के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Apr 13, 2021

प्रेगनेंसी में क्यों डार्क हो जाते हैं निप्पल्स
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

लावण्या जब प्रेगनेंट हुई तो कुछ महीनों बाद उसकी नजर अचानक अपने निप्पल्स पर पड़ी और वह डर गई। उसे लगा कि उसकी खुशी पर किसी का ग्रहण लग गया है। ऐसा इसलिए क्योंकि उसके निप्पल्स का रंग डार्क (Dark nipples in pregnancy) पड़ गया था। उसने यही सोचा कि उसे कोई बीमारी हो गई है और उसके दिमाग में अजीब- अजीब से ख्याल आने लगे। पहले तो वह डर के मारे बहुत रोई, फिर उसने अपनी मम्मी को कॉल करके इस बारे में बताया। उसके डरने की बात सुनकर उसकी मम्मी ने उसे प्यार से समझाया और बताया कि प्रेगनेंसी के साथ एक महिला कि बॉडी में कई तरह के बदलाव आते हैं, जिनमें से एक है निप्पल्स का डार्क (Dark nipples in pregnancy)  हो जाना। इसमें डरने की कोई बात नहीं है। फिर लावण्या की मम्मी ने उसे इस बारे में विस्तार से समझाया, जो खुद बायोलॉजी की एक टीचर हैं।

प्रेगनेंसी के साथ बॉडी में आने वाले बदलाव / Body changes with pregnancy In Hindi

प्रेगनेंसी के दौरान एक महिला के जीवन में कई तरह के बदलाव आते हैं। वह शारीरिक, मानसिक, भावनात्मक और सामजिक बदलावों के दौर से गुजर रही होती है। उसका शरीर एक नए बच्चे को इस संसार में लाने के लिए खुद को तैयार कर रहा होता है। ऐसा इसलिए होता है ताकि मां और शिशु दोनों को कम्फर्टेबल महसूस हो सके। ब्रेस्ट का साइज भी इसी समय बढ़ता है लेकिन साथ ही निप्पल्स का रंग भी डार्क (Dark nipples in pregnancy)  हो जाता है। निप्पल्स के आस- पास की स्किन को एरोला कहते हैं।

क्या प्रेगनेंसी के दौरान सामान्य बात है निप्पल का डार्क होना? / Is it normal to have dark nipples in pregnancy

इस समय एरोला का गहरे गंग (Dark coloured aerola in pregnancy) में बदल जाना एक सामान्य बात है, जिससे हर प्रेगनेंट महिला को गुजरना पड़ता है। यही नहीं इस समय निप्पल्स का साइज भी बड़ा हो जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि प्रेगनेंट महिला का शरीर खुद को बच्चे के लिए तैयार कर रहा होता है।

क्यों प्रेगनेंसी के दौरान निप्पल हो जाते हैं डार्क? / Why nipples turn dark in pregnancy?

आपको यह तो पता होगा ही आपकी बॉडी में जो भी बदलाव आते हैं, उसके पीछे का कारण हार्मोनल बदलाव (Harmonal changes in pregnancy) हैं। यही हार्मोन प्रेगनेंसी के समय भी बदलने लगते हैं और उनमें से एक है निप्पल का डार्क (Dark nipples in pregnancy)  पड़ना। एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरोन हार्मोन मिल्क डक्ट सिस्टम के निर्माण में मदद करते हैं। और यह हम सब जानते हैं कि उसमें निप्पल्स की महत्वपूर्ण भूमिका होती है क्योंकि आपका शिशु निप्पल्स के जरिए ही ब्रेस्ट मिल्क पी पाता है। इसलिए आपके एरोला और निप्पल्स ब्रेस्ट फ़ीडिंग प्रक्रिया के लिए खुद को तैयार करते हैं।

निप्पल का डार्क (Dark nipples in pregnancy)  होने पिगमेंटेशन से संबंधित है। मेलानिन पिगमेंट हमारी बॉडी के हर हिस्से पर मौजूद है। हार्मोन में बदलाव की वजह से मेलानिन का निर्माण बढ़ जाता है। ये उन जगहों पर ज्यादा होता है, जहां मेलानिन पहले से ज्यादा मात्रा में मौजूद है, जैसे एरोला और आपके निप्पल्स। कई बार आपको अपनी बॉडी के अन्य हिस्सों पर नए डार्क पैचेज दिख सकते हैं।

इसका मतलब यह नहीं है कि आप डर जाएं या परेशान हो जाएं। यह कुछ समय के लिए होने वाला सिर्फ एक बदलाव है। आप इसे आसान शब्दों में इस तरह से समझ लें कि नवजात शिशु को ठीक से दिखता नहीं है, इसलिए निप्पल का कलर डार्क (Dark nipples in pregnancy)  हो जाता है ताकि उसे पता चल सके कि निप्पल कहां है!

क्या निप्पल हमेशा के लिए डार्क रह जाएंगे? / Will the nipples be dark forever In Hindi?

हो सकता है कि आपके मन में यह ख्याल भी आ रहा होगा कि कहीं आपके निप्पल्स हमेशा डार्क तो नहीं रह जाएंगे! या कई साल बाद अपने असली रंग में आएंगे। सच तो यह है कि आपके निप्पल्स शिशु की डिलीवरी के कुछ महीने बाद ही अपने असली रंग में वापस आने लगेंगे।

जरूरी बातें / Important thing to remember

डार्क निप्पल्स और एरोला (Dark coloured aerola in pregnancy) की देखभाल के लिए मार्केट में कुछ लोशन उपलब्ध हैं, लेकिन आप बिना अपने डॉक्टर की सलाह के उनमें से किसी का भी इस्तेमाल न करें। क्योंकि उनमें व्याप्त केमिकल्स आपके या आपके शिशु के लिए खतरनाक हो सकता है। निप्पल का डार्क पड़ना एक भावनात्मक बदलाव भी लेकर आता है। आप इस बारे में ज्यादा ना सोचें और अपनी प्रेगनेंसी को इंजॉय करें। हेल्दी डाइट लें और यह सोचें कि आपके मूड ठीक रहेगा तो निप्पल का कलर भी जल्दी ही ठीक हो जाएगा। डार्क निप्पल्स से किसी को कोई ख़तरा नहीं है, ना आपको और ना ही आपके शिशु को। यह बस सोचने का एक तरीका है कि आपकी बॉडी में कुछ अच्छा बदलाव नहीं हो रहा है। आप अपनी बॉडी में आ रहे इस बदलाव को एक्सेप्ट कीजिए और याद रखिए कि जल्दी ही आपके यहां एक नन्हा मेहमान आने वाल है, जिसका आपको इन्तजार रहा है।

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • 1
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.

| Apr 30, 2021

  • Reply
  • रिपोर्ट
+ ब्लॉग लिखें

टॉप गर्भावस्था ब्लॉग

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}