• लॉग इन करें
  • |
  • रजिस्टर
पेरेंटिंग शिक्षण और प्रशिक्षण

बच्चों को बार-बार इन्फेक्शन क्यों होता है, क्या हैं कारण और निवारण ?

दीप्ति अंगरीश
गर्भावस्था

दीप्ति अंगरीश के द्वारा बनाई गई
संशोधित किया गया Jul 29, 2020

बच्चों को बार बार इन्फेक्शन क्यों होता है क्या हैं कारण और निवारण
विशेषज्ञ पैनल द्वारा सत्यापित

शिशुओं का जन्म अपरिपक्व प्रतिरक्षा प्रणाली के साथ होता है। नतीजतन, शिशुओं को संक्रमण होने की संभावना ज्यादा होती है। शिशुओं की प्रतिरक्षा प्रणाली जन्म के तुरंत बाद परिपक्व होने लगती है। संक्रमण की संख्या समय के साथ कम होने लगती है। जब तक बच्चे स्कूल-उम्र के होते हैं, तब तक उनके संक्रमण की दर वयस्कों के लिए दर के समान होती है।


बच्चों में संक्रमण होने के कारण 


संक्रमण दो मुख्य प्रकारों में हैं- बैक्टीरिया और वायरल। बैक्टीरियल संक्रमण बैक्टीरिया के कारण होता है। वायरल संक्रमण एक वायरस के कारण होता है। सुनिश्चित करें कि बच्चा भरपूर नींद ले और स्वस्थ आहार खाए। नींद और उचित पोषण बच्चे को संक्रमण से लड़ने में मदद करते हैं। डेकेयर केंद्रों में, बच्चे एक-दूसरे को संक्रमण देते हैं। वहां वे लार टपकाते हैं और उनकी नाक बहती है। वे एक-दूसरे को छूते हैं और सभी खिलौनों को छूते हैं। इससे संक्रमण फैलता है। कुछ वायरस वस्तुओं पर कई घंटों तक रह सकते हैं। फ्लू अत्यधिक संक्रामक है और आसानी से फैलता है। इन्फ्लुएंजा को आमतौर पर फ्लू के रूप में जाना जाता है। यह एक श्वसन रोग है जो टाइप ए और बी वायरस के कारण होता है। यह फेफड़े, नाक और गले को प्रभावित करता है। यह अत्यधिक संक्रामक है और छींक या खांसी से हवा में फैलता है। सगरेट के धुएं में संपर्क में आना भी छोटे बच्चों में बहती नाक का एक और कारण है। निष्क्रिय धूम्रपान च्ंेेपअम ेउवापदह से बच्च्चों में अस्थमा होता है। इससे बच्चों में श्वसन संक्रमण भी हो सकता है। इससे सभी बच्चों को दूर रखना चाहिए। साइनस या यूस्टेशियन ट्यूब भी बच्चों में बार-बार होते संक्रमण का कारण है। एलर्जी और अस्थमा के कारण बार-बार साइनसाइटिस हो सकता है। एलर्जी नाक के अंदर सूजन पैदा कर सकती है जो लंबे समय तक रहती है। सूजन के कारण नाक का अंदरूनी भाग में बढ़ जाता है, जिससे संक्रमण होता है। 

बच्चे में बार-बार होने वाले संक्रमण को कैसे रोकें? 

बच्चों को संक्रमण से बचाने के लिए आपको सजग रहना होगा। अन्यथा बच्चे संक्रमण की चपेट में आ जाएंगे और धीरे-धीरे यह मामलूी से प्रतीत होने वाले संक्रमण बच्चे को अस्थ्मा, निमोनिया जैसी गंभीर बीमारियों में जकड़ लेंगे। वैसे भी आजकल मानसून का मौसम चल रहा है, जिसमें बच्चे बहुत जल्द संक्रमण की चपेट में आ जाते हैं। बच्चों में बार-बार होने वाले संक्रमण को रोकने के लिए कुछ हिदायतें उन्हें अपनाएं के लिए कहें। इस बार जोर-जबर्दस्ती नहीं उसे प्यार से समझाएं।

  •  बार-बार आप हाथ धोते रहे। ऐसा बच्चे को भी करने को कहें। बाथरूम का उपयोग करने के बाद और खाना बनाते समय धोएं। छींकने, नाक बहने और खांसने के बाद भी धोएं। साबुन और पानी से कम से कम 20 सेकंड के लिए हाथों धोएं।
  •  यदि आप धूम्रपान करते हैं, तो छोड़ दें। कम से कम घर व कार में धूम्रपान नहीं करें। बता दें कि एयर फिल्टर भी बच्चे को सेकेंड हैंड धुएं से बचाने में मदद नहीं करते हैं।
  • बच्चे को बचपन की बीमारियों से बचाव के लिए टीका लगवाएं।

बच्चे में संक्रमण का इलाज करने के लिए क्या नहीं करना चाहिए?

  • संकम्रण से बच्चों को बचाने के लिए कान से मैल निकालने के लिए ईयर कैंडल मंत बंदकसम का उपयोग नहीं करें। अमेरिकी खाद्य और औषधि प्रशासन (एफडीए)  के उपयोग नहीं करने की सलाह देता है। इस प्रक्रिया में काम में विशेष कैंडल डाली जाती है, जो जलते ही कान से मैल निकाल लेती है। इसके प्रयोग से कान पर कुप्रभाव भी पड़ सकता है। यदि बच्चा संक्रमित हो जाता है, तो उसे पर्याप्त आराम करवाएं और पर्याप्त तरल पदार्थ पीना को दें। ऐसे में कोई एंटीबायोटिक्स नहीं लेनी चाहिए। हालांकि, बुखार को नियंत्रित करने वाली दवा ली जा सकती है, लेकिन सलाह के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श करना आवश्यक है।
    डाॅक्टर से पूछें कुछ सवाल       
  • यदि आपके बच्चे में कुछ संक्रमण दिख रहा है, तो स्वयं डाॅक्टर नहीं बनें। बच्चे को डाॅक्टर से दिखाएं। डाॅक्टर की सलाह पर ही इलाज शुरू करवाएं। इसके अलावा आप डाॅक्टर से इस बाबत कुछ सवाल पूछें, जैसे- 
    - बच्चा हमेशा बीमार रहता है। क्या हम कुछ कर सकते हैं?
    - मेरे बच्चे को नियमित रूप से कान में संक्रमण होता है। क्या उसे कान में ईयर कैंडल ट्रीटमेंट दिलवाएं?
    - बच्चे में बार-बार होने वाले संक्रमण के खतरे क्या हैं?
    - क्या मैं बच्चे को डेकयर या स्कूल में भेज सकती हूं?
    - क्या मैं अपने बच्चे की मदद के लिए घर पर कुछ भी कर सकती हूं?
    - क्या मैं बच्चे को कोई दवा दे सकती हूं?
    - बच्चे को खांसी और घरघराहट बहुत होती है। क्या यह संभव है कि उसे अस्थमा है?
    - क्या बच्चे को एलर्जी के लिए परीक्षण किया जाना चाहिए?
    - मुझे अपने डॉक्टर से कब सलाह लेनी चाहिए?

आपका एक सुझाव हमारे अगले ब्लॉग को और बेहतर बना सकता है तो कृपया कमेंट करें, अगर आप ब्लॉग में दी गई जानकारी से संतुष्ट हैं तो अन्य पैरेंट्स के साथ शेयर जरूर करें।

इस ब्लॉग को पेरेंट्यून विशेषज्ञ पैनल के डॉक्टरों और विशेषज्ञों द्वारा जांचा और सत्यापित किया गया है। हमारे पैनल में निओनेटोलाजिस्ट, गायनोकोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट, चाइल्ड काउंसलर, एजुकेशन एंड लर्निंग एक्सपर्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, लर्निंग डिसेबिलिटी एक्सपर्ट और डेवलपमेंटल पीड शामिल हैं।

  • कमेंट
कमैंट्स ()
Kindly Login or Register to post a comment.
+ ब्लॉग लिखें

टॉप पेरेंटिंग ब्लॉग

Sadhna Jaiswal

आज के दिन के फीचर्ड कंटेंट

गर्भावस्था

Ask your queries to Doctors & Experts

Download APP
Loading
{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}

{{trans('web/app_labels.text_Heading')}}

{{trans('web/app_labels.text_some_custom_error')}}